• search
क्विक अलर्ट के लिए
अभी सब्सक्राइव करें  
क्विक अलर्ट के लिए
नोटिफिकेशन ऑन करें  
For Daily Alerts

Video: पाकिस्‍तान के सिंध में रेजीडेंशियल काम्‍प्‍लेक्‍स के लिए ढहाया प्राचीन हनुमान मंदिर

|

इस्‍लामाबाद। पाकिस्‍तान में एक बार फिर सैंकड़ों हिंदू प्रदर्शन पर उतरे हैं। यहां के सिंध प्रांत में एक बिल्‍डर ने प्राचीन हनुमान मंदिर को गिरा दिया है। इस घटना के बाद से ही नाराज हिंदू प्रदर्शन क रहे हैं। यह घटना सिंध के ल्‍यार इलाके में हुई है और यहां पर स्थिति एक बार को नियंत्रण के बाहर हो गई थी। पुलिस की तरफ से जांच के आदेश दिए गए हैं और इलाके को सील कर दिया गया है।

hanuman-mandir.jpg

यह भी पढ़ें- अब चोरा चर्च को राष्‍ट्रपति एर्दोगान ने मस्जिद में बदलायह भी पढ़ें- अब चोरा चर्च को राष्‍ट्रपति एर्दोगान ने मस्जिद में बदला

मंदिर से गायब हैं मूर्तियां

पाकिस्तान के कराची में एक पठान ने घर बनाने के लिए प्राचीन हनुमान मंदिर पर बुलडोजर चला दिया। मंदिर से पौराणिक वस्तुएँ और बहुमूल्य मूर्तियाँ भी गायब बताई जा रही हैं। इसकी जानकारी मंदिर के महाराज ने एक न्यूज चैनल को दी। महाराज ने बताया कि कोरोना वायरस के समय में मंदिर-मस्जिद सब बंद रहने के आदेश दिए गए थे। इसलिए वह खामोश होकर बैठ गए। लेकिन अब उन्हें मालूम चला कि उनका मंदिर तोड़ दिया गया है। यह सूचना देते हुए मंदिर के महाराज बेहद दुखी थे और रोते उन्होंने अपना बयान दिया है। पुलिस की तरफ से बताया गया है कि मंदिर की जगह पर एक रेजीडेंशियल काम्‍प्‍लेक्‍स बनाया जाना है। जैसे ही ल्‍यारी में हुई इस घटना की खबर असिस्‍टेंट कमिश्‍नर अब्‍दुल करीम को मिली, वह अपनी टीम के साथ घटनास्‍थल पर पहुंच गए। मंदिर का निरीक्षण करने के बाद उन्होंने कंस्‍ट्रक्‍शन साइट के तीनों दरवाजों को सील कर दिया।उन्होंने कहा, 'हमने जांच शुरू कर दी है। जांच तक स्थल को इसलिए सील किया गया है ताकि जांच की जा सके।'

कोरोना महामारी का उठाया फायदा

एक स्थानीय अल्पसंख्यक नेता ने कहा कि यह अन्याय है। यह एक पुराना मंदिर था। हमने इसे बचपन से देखा है।' क्षेत्र के निवासी हीरा लाल ने कहा कि मंदिर के पास 18 हिंदू परिवार रहते हैं। उन्होंने कहा कि हमें बिल्डर की तरफ से भरोसा दिलाया गया था कि मंदिर को नहीं ढहाया जाएगा लेकिन रविवार देर शाम मंदिर को ढहा दिया गया है। पाकिस्तान की मीडिया के अनुसार एक अन्य अल्पसंख्यक निवासी ने कहा, 'लॉकडाउन में किसी को भी मंदिर आने की इजाजत नहीं थी।' अक्सर मंदिर आने वाले एक निवासी ने कहा कि बिल्डर ने महामारी का फायदा उठाया और उनके पूजा स्थल को ढहा दिया।उन्होंने मांग की कि मंदिर को दोबारा बनाया जाए। उन्होंने यह भी कहा कि हमें बिल्डर की ओर से वैकल्पिक आवास का आश्वासन दिया गया था।

English summary
A Hindu temple demolished by a builder in Sindh, Pakistan.
देश-दुनिया की ताज़ा ख़बरों से अपडेट रहने के लिए Oneindia Hindi के फेसबुक पेज को लाइक करें
For Daily Alerts
तुरंत पाएं न्यूज अपडेट
Enable
x
Notification Settings X
Time Settings
Done
Clear Notification X
Do you want to clear all the notifications from your inbox?
Settings X
X