• search
क्विक अलर्ट के लिए
अभी सब्सक्राइव करें  
क्विक अलर्ट के लिए
नोटिफिकेशन ऑन करें  
For Daily Alerts

Report:चीन ने पाकिस्‍तान को बेचा सबसे शक्तिशाली मिसाइल ट्रैकिंग सिस्‍टम

|

बीजिंग। भारत ने गुरुवार को सुखोई फाइटर जेट से सुपरसोनिक क्रूज मिसाइल ब्रह्मोस का सफल परीक्षण किया है। इस परीक्षण के तुरंत ही बाद एक ऐसी खबर आई है जिसने भारत पर एक साइकोलॉजिक प्रेशर बनाने की कोशिश की है। चीन और पाकिस्‍तान की दोस्‍ती से हर कोई वाकिफ है और अब इसी दोस्‍ती में चीन ने पाकिस्‍तान को एक ताकतवर मिसाइल ट्रैकिंग सिस्‍टम बेचा है। चीन के अखबार साउथ चाइना मॉर्निंग पोस्‍ट की ओर से इस बात की जानकारी दी गई है। आपको बात दें कि ब्रह्मोस जैसी मिसाइल पाकिस्‍तान और चीन दोनों के पास भी नहीं हैं। ऐसे में ब्रह्मोस मिसाइल के टेस्‍ट के बाद इस खबर का सामने आना भारत पर दबाव बनाने की कोशिशों का नतीजा माना जा रहा है।

यह भी पढ़ेंं-शी जिनपिंग ने भारत से लगी सीमा पर दिए चीनी सेना की तैनाती के आदेश! यह भी पढ़ेंं-शी जिनपिंग ने भारत से लगी सीमा पर दिए चीनी सेना की तैनाती के आदेश!

पाकिस्‍तान के हथियार कार्यक्रम को मिलेगी और मजबूती

पाकिस्‍तान के हथियार कार्यक्रम को मिलेगी और मजबूती

साउथ चाइना मॉर्निंग पोस्‍ट की खबर के मुताबिक चीन के साथ हुई इस डील से पाकिस्‍तान अपने मल्‍टी वॉरहेड मिसाइल डेवलपमेंट प्रोग्राम को और मजबूती दे सकता है। फिलहाल यह डील कितने में हुई है इस बात की कोई जानकारी अभी तक सामने नहीं आई है। पाकिस्तानी सेना इस सिस्टम को एक फायरिंग रेंज के करीब प्रयोग भी कर रही है। इस सिस्‍टम के जरिए पाकिस्तानी सेना नई मिसाइल को डेवलप करने की प्रक्रिया में जुट गई है।

चीन करता है पाक के मिसाइल कार्यक्रम का समर्थन

चीन करता है पाक के मिसाइल कार्यक्रम का समर्थन

चाइनीज एकेडमी ऑफ साइंस (सीएएस) के एक रिसर्चर ने साउथ चाइना मॉर्निंग पोस्‍ट को इस बात की जानकारी दी है। सिचुआन प्रांत के सीएसएस इंस्टीट्यूट के रिसर्चर जेंग मेंगवेई ने साऊथ चाइना मॉर्निंग पोस्ट से इस बात की पुष्टि की कि पाकिस्तान ने चीन से यह अत्याधुनिक मिसाइल ट्रैकिंग सिस्टम को खरीदा है। साउथ चाइना मॉर्निंग पोस्‍ट के आर्टिकल में लिखा है कि चीन बहुत पहले से ही पाकिस्‍तान के मिसाइलन डेवलपमेंट प्रोग्राम का समर्थन करता आ रहा है।

चीनी वैज्ञ‍ानिकों की टीम पहुंची पाकिस्‍तान

चीनी वैज्ञ‍ानिकों की टीम पहुंची पाकिस्‍तान

सार्वजनिक तौर पर शायद ही कभी चीन इस बात को स्‍वीकार करेगा। आर्टिकल के मुताबिक चीन न सिर्फ पाकिस्‍तान के मिसाइल डेवलपमेट को सपोर्ट कर रहा है बल्कि पाकिस्‍तान इस समर्थन की वजह से चीन को एक विशिष्‍ट देश के तौर पर देखता है। इस आर्टिकल में कहा गया है कि चीनी वैज्ञानिकों की एक टीम पाकिस्‍तान गई थी और इस टीम ने मिसाइल ट्रैकर सिस्‍टम को इंस्‍टॉलकिया था। इस टीम की पाक में शाही मेहमाननवाजी की गई और करीब तीन माह तक यह टीम यहां पर थी।

पाक को ऐसा सिस्‍टम देने वाला पहला देश चीन

पाक को ऐसा सिस्‍टम देने वाला पहला देश चीन

मिसाइल ट्रैकिंग सिस्‍टम मिसाइल टेस्टिंग के लिए काफी अहम होता है। यह सिस्‍टम दो टेलीस्‍कोप के साथ आता है और जो सिस्‍टम पाक को मिला है उसमें लगे हुए टेलीस्‍कोप काफी खास हैं। ज्‍यादा से ज्‍यादा टेलीस्‍कोप के प्रयोग से सिस्‍टम ज्‍यादा से ज्‍यादा वॉरहेड को ट्रैक कर सकता है और वह भी अलग-अलग जगहों से। सीएएस की वेबसाइट पर जारी बयान में कहा गया है कि चीन ऐसा पहला देश है जो इस तरह की संवेदनशील तकनीक को पाकिस्तान को बेच रहा है।

English summary
According to China Morning Post, China has sold Pakistan a powerful missile tracking system.
देश-दुनिया की ताज़ा ख़बरों से अपडेट रहने के लिए Oneindia Hindi के फेसबुक पेज को लाइक करें
For Daily Alerts
तुरंत पाएं न्यूज अपडेट
Enable
x
Notification Settings X
Time Settings
Done
Clear Notification X
Do you want to clear all the notifications from your inbox?
Settings X
X