• search
क्विक अलर्ट के लिए
नोटिफिकेशन ऑन करें  
For Daily Alerts

अमेरिकी वायुसेना में भर्ती हुए राजस्थान के भाई-बहन, सुवीर शेखावत व प्रज्ञा शेखावत की कामयाबी

|
Google Oneindia News

नई दिल्ली। राजस्थान में सबसे अधिक फौजी देने वाले जिले झुंझुनूं में गुढ़ा-नवलगढ़ रोड पर एक गांव है जाखल। यहां के राजपूत परिवार के बेटा-बेटी ने कमाल कर दिखाया है। जाखल के सुवीर शेखावत (Suveer Shekhawat) और प्रज्ञा शेखावत (Pragya Shekhawat) ने कामयाबी की ऊंची उड़ान भरी है। राजपूत भाई-बहन की यह जोड़ी अमेरिकी एयरफोर्स (American airforce) में भर्ती हुई है।

    अमेरिकी वायुसेना में भर्ती हुए राजस्थान के भाई-बहन, सुवीर शेखावत व प्रज्ञा शेखावत की कामयाबी
    चाचा ने बताई भतीजा-भतीजी की सक्सेस स्टोरी

    चाचा ने बताई भतीजा-भतीजी की सक्सेस स्टोरी

    गांव जाखल में रह रहे सुवीर शेखावत व प्रजा शेखावत के चाचा बसंत शेखावत ने वन इंडिया हिंदी से खास बातचीत में बयां किया अपने भतीजे-भतीजी का राजस्थान से अमेरिका तक का सफर और बताया कि किस तरह से दोनों अमेरिकी वायुसेना में जगह बनाई।

    Shyam Sundar Bishnoi : किसान के बेटे की 12 बार लगी सरकारी नौकरी, बड़ा अफसर बनकर ही मानाShyam Sundar Bishnoi : किसान के बेटे की 12 बार लगी सरकारी नौकरी, बड़ा अफसर बनकर ही माना

     सुवीर शेखावत बन गए कैप्टन

    सुवीर शेखावत बन गए कैप्टन

    राजस्थान में नवलगढ़ तहसील के गांव जाखल के सुवीर सिंह शेखावत ने वर्ष 2015 में अमेरिकी वायुसेना में कमिशन मिला था। कड़ी ट्रेनिंग के बाद सुवीर युद्धक विमान उड़ाने लगे थे। पांच साल पहले बतौर सैकंड लेफ्टिनेंट अमेरिकी एयरफोर्स ज्वाइन करने वाले सुवीर शेखावत प्रमोशन पाकर वर्तमान में कैप्टन के रूप में सेवाएं दे रहे हैं।

    मिसाल : 6 साल की उम्र में करंट लगने पर हाथ कटे, अब पैरों से लिखकर अफसर बन गया भरत सिंह शेखावतमिसाल : 6 साल की उम्र में करंट लगने पर हाथ कटे, अब पैरों से लिखकर अफसर बन गया भरत सिंह शेखावत

     दो दिन पहले बहन प्रज्ञा को मिला कमिशन

    दो दिन पहले बहन प्रज्ञा को मिला कमिशन

    बड़ागांव निवासी परिवार में चाचा अभय सिंह शेखावत बताते हैं कि सुवीर के बाद उनकी बहन प्रज्ञा ने भी यूएसए एयरफोर्स ज्वाइन किया है। प्रज्ञा को सैकंड लेफ्टिनेंट के रूप में 19 सितम्बर 2020 को ​कमिशन मिला है। कोरोना महामारी की वजह की वजह से इस बार अमेरिकी एयरफोर्स की सैल्यूट सेरेमनी सामान्य रही है।

    जानिए कौन हैं यह IAS Monika Yadav जिसकी राजस्थान की पारम्परिक वेशभूषा में तस्वीर हो रही वायरलजानिए कौन हैं यह IAS Monika Yadav जिसकी राजस्थान की पारम्परिक वेशभूषा में तस्वीर हो रही वायरल

     91 साल की दादी भी पहुंची सेरेमनी में

    91 साल की दादी भी पहुंची सेरेमनी में

    प्रज्ञा शेखावत के दुनिया की सबसे शक्तिशाली एयरफोर्स का हिस्सा बनने के खास मौके सैल्यूट सेरेमनी की खास बात यह रही कि इसमें प्रज्ञा के माता-पिता के अलावा उनकी 91 साल की दादी इचरज कंवर ने भी हिस्सा लिया। प्रज्ञा ने अपना पहला सैल्यूट भाई कैप्टन सुवीर शेखावत को किया।

    15 दिन में टूटी शादी के गम को 'ताकत' बनाकर IAS बनीं कोमल गणात्रा, ताना मारने वाले भी करते हैं अब गर्व15 दिन में टूटी शादी के गम को 'ताकत' बनाकर IAS बनीं कोमल गणात्रा, ताना मारने वाले भी करते हैं अब गर्व

    सुवीर ने अमेरिका में ही की शादी

    सुवीर ने अमेरिका में ही की शादी

    चाचा बसंत शेखावत के अनुसार सुवीर की शादी हो चुकी है। छह माह पहले सुवीर ने अमेरिका की एलिशन से शादी की। एलिशन मेडिकल के क्षेत्र में कार्यरत है। वर्तमान में सुवीर का परिवार अमेरिका के वेस्ट वर्जिनिया के मोरगन टाउन में रहता है। प्रज्ञा फिलहाल अविवाहित है। सुवीर और प्रज्ञा अक्सर अपने पैतृक गांव जाखल भी आते रहते हैं।

     सुवीर-प्रज्ञा के पिता हैं वैज्ञानिक

    सुवीर-प्रज्ञा के पिता हैं वैज्ञानिक

    सुवीर-प्रज्ञा के पिता दुष्यंत सिंह शेखावत अमेरिका में फेडरल सरकार में बतौर वैज्ञानिक कार्यरत हैं। माता अर्चना कंवर टीचर हैं। अर्चन कंवर मूलरूप से जयपुर की रहने वाली हैं। इनके दादा इंद्रसिंह शेखावत जनसंघ पार्टी के पदाधिकारी और गायत्री उपासक भी थे। अपने बेटा-बहू व पोता-पोती से मिलने इंद्रसिंह जब अमेरिका गए थे तब उन्होंने वहां पर भारपतीय मूल के लोगों को एकत्रित कर गायत्री यज्ञ भी करवाया था।

     सरकारी नौकरी छोड़ गए थे अ​मेरिका

    सरकारी नौकरी छोड़ गए थे अ​मेरिका

    सुवीर-प्रज्ञा के पिता दुष्यंत सिंह शेखावत एमएससी, बीएड करने के बाद राजस्थान में रसायन विज्ञान के व्याख्याता के पद पर सरकारी नौकरी लगे। सिरोही जिले के स्कूल में ज्वाइन भी किया। 1992-93 में शिक्षक की सरकारी नौकरी छोड़कर पत्नी के साथ अमेरिका चले गए। वहां केमिकल इंजीनियरिंग की डिग्री ली और फिर वैज्ञानिक के पद पर ज्वाइन किया। प्रज्ञा व सुवीर का जन्म भी अमेरिका में ही हुआ।

    दोनों का है जड़ों से जुड़ाव

    दोनों का है जड़ों से जुड़ाव

    सुवीर और प्रज्ञा ने भले ही दुनिया की सबसे शक्तिशाली एयरफोर्स ज्वाइन किया है, मगर इनका अपनी जड़ों से गहरा जुड़ाव है। यही वजह है कि दोनों भाई बहन अक्सर अपने पैतृक गांव जाखल आते रहते हैं।

    स्कूली बच्चों को सिखाया रोबोटिक

    स्कूली बच्चों को सिखाया रोबोटिक

    बसंत शेखावत बताते हैं कि तीन साल पहले जब प्रज्ञा गांव आई तो वह यहां के युवाओं में घुल-मिल गई थी। स्कूली छात्राओं को उसने रोबोटिक भी सिखाया और खेत में ट्रैक्टर भी चलाया था। जबकि सुवीर को गांव आए करीब पांच साल हो गए।

     गांव जाखल में खुशी का माहौल

    गांव जाखल में खुशी का माहौल

    चाचा बसंत शेखावत व अभय शेखावत ने बताया कि दो दिन बेटी प्रज्ञा के भी अमेरिका वायुसेना में भर्ती होने की खबर मिली तो पूरे गांव में खुशी की लहर दौड़ गई। हर कोई दुष्यंत सिंह शेखावत के बेटा-बेटी की इस कामयाबी पर गर्व कर रहा है।

    झोपड़ी से यूरोप तक का सफर, कभी पाई-पाई को थीं मोहताज, फिर 22 हजार महिलाओं को दी 'नौकरी'झोपड़ी से यूरोप तक का सफर, कभी पाई-पाई को थीं मोहताज, फिर 22 हजार महिलाओं को दी 'नौकरी'

    English summary
    Suveer Shekhawat and Pragya Shekhawat in American Air Force from Jakhal Jhunjhunu Rajasthan
    देश-दुनिया की ताज़ा ख़बरों से अपडेट रहने के लिए Oneindia Hindi के फेसबुक पेज को लाइक करें
    For Daily Alerts
    तुरंत पाएं न्यूज अपडेट
    Enable
    x
    Notification Settings X
    Time Settings
    Done
    Clear Notification X
    Do you want to clear all the notifications from your inbox?
    Settings X
    X