• search
मुजफ्फरनगर न्यूज़ के लिए
नोटिफिकेशन ऑन करें  

पुलवामा में यूपी का लाल प्रशांत शर्मा शहीद, परिजनों को 50 लाख मदद और नौकरी देगी सरकार

|

मुजफ्फरनगर। उत्तर प्रदेश का एक फौजी शुक्रवार देर रात जम्मू-कश्मीर के पुलवामा में आतंकियों से मुठभेड़ में शहीद हो गया। उसका नाम प्रशांत शर्मा था। उम्र 23 बरस थी। मुजफ्फरनगर का रहने वाला था। उसकी शहादत की खबर मिलने पर जिले में शोक की लहर दौड़ गई।

    पुलवामा में यूपी का लाल प्रशांत शर्मा शहीद, परिजनों को 50 लाख मदद और नौकरी देगी सरकार
    मुजफ्फरनगर का जवान पुलवामा में शहीद

    मुजफ्फरनगर का जवान पुलवामा में शहीद

    प्रशांत शर्मा, सेना से रिटायर्ड सूबेदार शीशपाल शर्मा का बेटा था। परिजनों के मुताबिक, इसी साल प्रशांत शर्मा की शादी कराने वाले थे। आगामी 6 दिसंबर को उसकी शादी मेरठ से होनी थी। शहादत से दो दिन पहले ही प्रशांत की अपने पिता और भाई से फोन पर बात हुई थी। जिसमें उसने सब कुछ ठीक करने की बात कहकर घर की मरम्मत और शादी का सामान खरीदने की बात कही थी। मगर, अब वह लौट कर नहीं आ सकेगा। उसके पीछे माता-पिता और भाई-बहन रह गए हैं।

    सितंबर 2017 में सेना में भर्ती हुए थे प्रशांत

    सितंबर 2017 में सेना में भर्ती हुए थे प्रशांत

    संवाददाता ने बताया कि, प्रंशा​त शीशपाल शर्मा के बड़े बेटे थे, जो कि सितंबर 2017 में सेना में भर्ती हुए। उनकी ड्यूटी आरआर फोर्स में जम्मू-कश्मीर के पुलवामा सेक्टर में लगी। करीब छह महीने से वह वहां तैनात थे। उनकी शुक्रवार रात आतंकियों से जब मुठभेंड़ हुई तो गोली लग गईं। हालांकि, इस मुठभेड़ के दौरान तीन आतंकी भी मारे गए।

    ड्यूटी करते शहीद हुए सैनिकों के परिजनों को 50 लाख देगी पंजाब सरकार, सरकारी नौकरी का भी ऐलान

    घर पर पसरा मातम

    घर पर पसरा मातम

    बेटे की शहादत पर मां को गहरी ठेस पहुंची। रो-रोकर उनका बुरा हाल हो गया है। परिवार में कोहराम मचा हुआ है। लोग उनके घर सांत्वना देने पहुंच रहे हैं। राज्यमंत्री कपिल देव अग्रवाल और केंद्रीय राज्य मंत्री डॉक्टर संजीव बालियान ने भी शहीद के घर आए। इस बीच परिजनों ने प्रशांत के बलिदान पर गर्व करते हुए अपने दूसरे पुत्र को भी देश सेवा के लिए भेजने का फैसला भी कर लिया है।

    अब छोटे बेटे को भी फौज में भेजेंगे

    अब छोटे बेटे को भी फौज में भेजेंगे

    बताया जाता है कि, सेना से रिटायर्ड प्रशांत के पिता सूबेदार शीशपाल शर्मा मूल रूप से जनपद बागपत के गांव बिजरौल निवासी हैं। करीब दस साल से वह मुजफ्फरनगर शहर के बुढ़ाना मोड़ पर रह रहे हैं। चूंकि, शीशपाल शर्मा खुद आर्मी बैकग्राउंड से हैं, तो बेटे को भी उन्होंने फौज में भेजा था। अब छोटे बेटे को भी फौज में भेजने का फैसला किया है।

    यूपी सरकार ने किए ये ऐलान

    यूपी सरकार ने किए ये ऐलान

    आज शाम उत्तर प्रदेश सरकार ने ऐलान किया कि, शहीद के परिजनों को 50 लाख रुपये आर्थिक मदद दी जाएगी। सरकारी नौकरी भी मुहैया कराई जाएगी। प्रशांत के नाम पर मुजफ्फरनगर में एक सड़क का नाम भी रखा जाएगा।

    देश-दुनिया की ताज़ा ख़बरों से अपडेट रहने के लिए Oneindia Hindi के फेसबुक पेज को लाइक करें
    English summary
    muzaffarnagar army jawan prashant sharma martyred in pulwama terror encounter
    For Daily Alerts
    तुरंत पाएं न्यूज अपडेट
    Enable
    x
    Notification Settings X
    Time Settings
    Done
    Clear Notification X
    Do you want to clear all the notifications from your inbox?
    Settings X
    X