• search
मुंबई न्यूज़ के लिए
नोटिफिकेशन ऑन करें  

नासिक हादसा- मात्र 21 दिनों के उपयोग के बाद कैसे लीक हो गया ऑक्सीजन टैंक, आखिर कौन लेगा हादसे की जिम्मेदारी

|

मुंबई, 22 अप्रैल। महाराष्ट्र के नासिक स्थित जाकिर हुसैन अस्पताल में बुधवार को ऑक्सीजन लीक होने के कारण 24 लोगों की दर्दनाक मौत हो गई। सभी 24 लोग कोरोना वायरस से संक्रमित थे। नासिक में हुए इस दर्दनाक हादसे के पीछे भारी लापरवाही की बात सामने आई है। पुलिस ने अपनी शुरुआती जांच में ऑक्सीजन की रीफिलिंग के दौरान लापरवाही की बात कही है, जिसमें 24 लोग मर गए।

    नासिक ऑक्सीजन लीक हादसे में 22 मरीजों की मौत, पीएम मोदी और अमित शाह ने जताया दुख

    Nashik accident

    खबरों के मुताबिक 13 किलो का जो तरल ऑक्सीजन टैंक लीक हुआ वह पिछले 21 दिनों से उपयोग में था, जिसके वाल्व में खराबी के कारण ऑक्सीजन की आपूर्ति बाधित हो गई और इसके परिणामस्वरूप 24 लोग बेमौत मारे गए। आपको बता दें कि नासिक नगर निगम ने ताइयो निप्पॉन सेंसो प्राइवेट लिमिटेड को शहर में चल रहे 2 कोविड केयर केंद्रों को किराए पर ऑक्सीजन टैंक्स मुहैया कराने का ठेका दिया था, जिसके तहत नासिक नगर निगम ने कंपनी को 1.62 करोड़ रुपए टैंक किराये के तौर पर देने के लिए और 2 करोड़ रुपए उन टैंकों को 10 सालों तक टैंक रीफिल करने के लिए दिये थे। इन शर्तों के साथ एक अनुबंध कंपनी को पिछले सितंबर में भेजा गया था।

    यह भी पढ़ें: महाराष्ट्र में भयावह हुए हालात, कोरोना से 24 घंटे में 568 मरीजों की मौत, 67468 नए मामले दर्ज

    हालांकि इस परियोजना पर काम बहुत धीमी गति से चल रहा था और साल 2020 के अंत में कोरोना के मामलों में कमी आने के बाद यह परियोजना लगभग बंद सी हो गई। लेकिन जैसे ही मार्च में कोरोना के मामलों में फिर से तेजी देखने को मिली, भाजपा द्वारा नियंत्रित नासिक नगर निगम ने इस परियोजना पर फिर से ध्यान देना शुरू कर दिया। नासिक में मार्च में प्रति 10 लाख की आबादी पर 46,050 नए कोरोना के मामले दर्ज हुए थे, जोकि पूरे देश में सर्वाधिक थे।परियोजना को लेकर डॉक्टरों और सामाजिक कार्यकर्तायों के बीच तमाम तरह की बहसों के बीच इस परियोजना को 31 मार्च से शुरू कर दिया गया।

    इसको लेकर सामाजिक कार्यकर्ता ने सवाल उठाते हुए कहा कि, 'यह जनता के साथ खिलवाड़ है। करार होने के 5 महीने बाद इस सेवा को शुरू किया गया जबकि कोरोना काल में मरीजों के लिए इसकी सबसे ज्यादा जरूरत है और हैरानी की बात यह है कि यह प्रणाली तीन सप्ताह तक भी ठीक से काम नहीं कर सकी।'

    इस हादसे को लेकर नासिक नगर निगम ने सफाई देते हुए कहा कि सेवा के शुरू करने से पहले सिस्टम का तकनीकी मूल्यांकन किया गया था। नगर निगम के अधिकारियों ने कहा, '31 मार्च को सेवा के शुरू होने के बाद कंपनी की एक टीम आई थी और उसने इसका तकनीकी मूल्यांकन किया था। उन्होंने हर चीज को बारी की से जांचा और क्योंकि वह एक बहुराष्ट्रीय कंपनी है इसलिए हमने उसपर भरोसा किया।'

    यह पूछे जाने पर कि सेवा के शुरू होने के तीन सप्ताह के अंदर ही सिस्टम कैसे फेल हो गया, नगर निगम आयुक्त कैलाश जाधव ने कहा, 'इसको लेकर जांच जारी है। परिणाम सामने आने पर ही पता चलेगा कि चूक कहां हुई।' उन्होंने कहा कि ताइयो निप्पोन कंपनी ने अभी इस पर कोई प्रतिक्रिया नहीं दी है।

    गौरतलब है कि जाकिर हुसैन अस्पताल को पिछले साल कोविड केयर अस्पताल में तब्दील किया गया था। शहर में 5 अस्पतालों को कोविड केयर अस्पतालों में बदला गया था जिनमें से वर्तमान में 2 चालू थे। पिछले साल महामारी शुरू होने के बाद से 6,000 से अधिक रोगियों का यहां इलाज किया गया है।

    English summary
    Nashik accident - how the oxygen tank leaked after just 21 days of use
    देश-दुनिया की ताज़ा ख़बरों से अपडेट रहने के लिए Oneindia Hindi के फेसबुक पेज को लाइक करें
    For Daily Alerts
    तुरंत पाएं न्यूज अपडेट
    Enable
    x
    Notification Settings X
    Time Settings
    Done
    Clear Notification X
    Do you want to clear all the notifications from your inbox?
    Settings X
    X