• search
महाराष्ट्र न्यूज़ के लिए
नोटिफिकेशन ऑन करें  

विद्रोह से दो दिन पहले आदित्य ठाकरे-संजय राउत के साथ एकनाथ शिंदे की हुई थी तीखी बहस

|
Google Oneindia News

मुंबई, 22 जून। महाराष्ट्र में सियासी संकट के बीच महा विकास अघाड़ी की सरकार पर खतरे की तलवार लटक रही है। जिस तरह से शिवसेना के वरिष्ठ नेता और कैबिनेट मंत्री एकनाथ शिंदे ने बगावती सुर छेड़े हैं उसने उद्धव ठाकरे की मुश्किल को बढ़ा दिया है। एकनाथ शिंद की नाराजगी को लेकर अलग-अलग तरह के सवाल खड़े हो रहे हैं। खुद शिंदे का कहना है कि वह बाला साहेब ठाकरे के हिंदुत्व के साथ हैं। रिपोर्ट की मानें तो वह एनसीपी और कांग्रेस के साथ गठबंधन की सरकार से खुश नहीं है और चाहते हैं कि शिवसेना भाजपा के साथ मिलकर सरकार का गठन करे।

इसे भी पढ़ें- मनीष सिसोदिया के खिलाफ हिमंत बिस्व सरमा की पत्नी ने दर्ज कराया 100 करोड़ की मानहानि का केसइसे भी पढ़ें- मनीष सिसोदिया के खिलाफ हिमंत बिस्व सरमा की पत्नी ने दर्ज कराया 100 करोड़ की मानहानि का केस

 दो दिन पहले ही हुई थी इस बात पर बहस

दो दिन पहले ही हुई थी इस बात पर बहस

इंडियन एक्सप्रेस की खबर के अनुसार महाराष्ट्र छोड़ने से दो दिन पहले एकनाथ शिंदे की आदित्य ठाकरे के साथ तीखी बहस हुई थी। आदित्य ठाकरे के अलावा शिवसेना के सांसद संजय राउत से भी एकनाथ शिंदे की कहासुनी हुई थी। महाराष्ट्र में विधान परिषद के चुनाव से पहले पवई स्थित रेनेसा होटल में ही शिवसेना के विधायकों को रखा गया था। सूत्र की मानें तो यह बहस अतिरिक्त वोट कांग्रेस के पक्ष में करने को लेकर हुई थी, जिसका शिंदे ने विरोध किया था। कांग्रेस के उम्मीदवार भाई जगताप को जीत के लिए जरूरी वोट तो मिल गए थे, लेकिन कांग्रेस के दूसरे उम्मीदवार चंद्रकांत हंदोर चुनाव जीत नहीं सके थे।

संजय राउत-आदित्य ठाकरे से बहस

संजय राउत-आदित्य ठाकरे से बहस

सूत्र ने बताया कि दो दिन पहले जब रेनेसा होटल में वोटों को लेकर चर्चा हो रही थी एकनाथ शिंदे शिवसेना सांसद संजय राउत और आदित्य ठाकरे के साथ सहमत नहीं थे। शिंदे इस बात से खुश नहीं थे कि शिवसेना के विधायक कांग्रेस के उममीदवार को विधान परिषद के चुनाव में जीत के लिए वोट करें। यही वजह है कि दोनों पक्षों में काफी बहस हुई। ऐसे में यह जो बहस हुई उसी के चलते एकनाथ शिंदे ने अलग रुख अख्तियार किया और पार्टी से बगावत कर दी। पिछले कुछ महीनों से पार्टी के भीतर जो कुछ चल रहा था उसको लेकर शिंदे कतई खुश नहीं थे और इस बारे में मुख्यमंत्री उद्धव ठारे को अलर्ट भी किया गया था।

कांग्रेस ने उतारे 2 उम्मीदवार

कांग्रेस ने उतारे 2 उम्मीदवार

बता दें कि कांग्रेस ने विधान परिषद के चुनाव में दो उम्मीदवारों को मैदान में उतारा था, बावजूद इसके कि उसके पास जीत के लिए सिर्फ एक ही उम्मीदवार का वोट था। कांग्रेस की ओर से जो लिस्ट जारी की गई उसमे पहले उम्मीदवार को लेकर काफी नाराजगी जाहिर की गई थी, यही वजह है कि कांग्रेस ने सहयोगी दलों के भरोसे दूसरे उम्मीदवार के नाम का भी ऐलान कर दिया। लेकिन चुनाव में भाई जगताप जी गए हैं जबकि हंदौर चुनाव हार गए। वहीं भाजपा ने पांच सीटों पर जीत दर्ज की और शिवसेना-एनसीपी ने 2-2 सीट पर जीत दर्ज की।

Comments
English summary
Eknath Shinde had spat with Shiv Sena leader before two days of revolt.
देश-दुनिया की ताज़ा ख़बरों से अपडेट रहने के लिए Oneindia Hindi के फेसबुक पेज को लाइक करें
For Daily Alerts
तुरंत पाएं न्यूज अपडेट
Enable
x
Notification Settings X
Time Settings
Done
Clear Notification X
Do you want to clear all the notifications from your inbox?
Settings X
X