• search
महाराष्ट्र न्यूज़ के लिए
नोटिफिकेशन ऑन करें  

कसाब के खिलाफ गवाही देने वाली लड़की के सामने खड़ी हुई नई मुसीबत, 10 मई तक मदद नहीं पहुंची तो...

|

मुंबई, मई 5: पाकिस्तान समर्थित आतंकियों ने 26 नवंबर 2008 को देश की आर्थिक राजधानी मुंबई में कई जगहों पर हमला किया, जिसमें सैकड़ों लोगों की जान चली गई। कई बच्चे तो ऐसे थे, जिनके मां-बाप इस हमले में गुजर गए और उन्हें मुश्किलों के साथ जीवन गुजारना पड़ रहा है। इसमें से एक नाम है देविका का। जिसकी गवाही से जिंदा पकड़े गए आतंकी अजमल कसाब का दोष सिद्ध हुआ और बाद में उसे फांसी दी गई। गवाही से पहले देविका से सरकार और अधिकारियों ने कई बड़े वादे किए थे, लेकिन वो सब हवा-हवाई साबित हुए।

हमले के बाद हुई 6 सर्जरी

हमले के बाद हुई 6 सर्जरी

देविका रोटावन के मुताबिक जब मुंबई हमला हुआ था, तो वो सीएसटी स्टेशन पर थीं। तभी अचानक कसाब और उसके साथियों ने वहां पर फायरिंग शुरू कर दी। हमले में वो भी घायल हुईं, लेकिन उन्होंने काफी देर तक वो खौफनाक मंजर देखा। बाद में वो बेहोश हो गईं और उनकी आंखें अस्पताल में खुलीं। फिर पता चला कि उनकी 6 सर्जरी हुई है, जिस वजह से वो 6 महीने तक बिस्तर पर ही पड़ी रहीं। उस दौरान कई बड़े अधिकारी उनसे मिलने आए, क्योंकि वो कसाब के गुनाह को कोर्ट में बताने वाली चश्मदीद गवाह थीं।

भूल गए अधिकारी

भूल गए अधिकारी

अधिकारियों ने वादा किया था कि गवाही के बाद कमजोर आर्थित वर्ग के तहत उन्हें आवास मुहैया कराया जाएगा। साथ ही सरकार उनके पढ़ाई-लिखाई का खर्च भी उठाएगी। उस दौरान उन्होंने अधिकारियों की सारी बातें मान लीं और कोर्ट में गवाही दी। कुछ दिनों बाद उन्हें एहसास हुआ कि सरकार और प्रशासन ने उन्हें भुला दिया है। बाद में वो बॉम्बे हाईकोर्ट पहुंचीं, लेकिन अभी तक मामले का ठोस हल नहीं निकल पाया है।

टेरर फंडिंग केस में आतंकी हाफिज सईद के खिलाफ NIA कोर्ट ने जारी की गैर जामनती वारंटटेरर फंडिंग केस में आतंकी हाफिज सईद के खिलाफ NIA कोर्ट ने जारी की गैर जामनती वारंट

10 मई तक खाली करना है घर

10 मई तक खाली करना है घर

वहीं दूसरी ओर देविका के सामने अब एक नई मुसीबत खड़ी हो गई है। मीडिया से बात करते हुए उन्होंने बताया कि कोरोना महामारी की वजह से वो बेघर होने के कगार पर हैं। जिस मकान में वो किराए पर रहती थीं, उसके मालिक ने उन्हें 10 मई तक घर को खाली करने को कहा है। अब मालिक खुद उस जगह पर रहेगा। पिछले साल भी उनके सामने समस्या खड़ी हो गई थी, हालांकि लॉकडाउन होने की वजह से मकान मालिक ने किराए में तीन महीने की छूट दे दी, लेकिन इस बार उनके सामने कोई चारा नहीं बचा है।

English summary
26/11 Mumbai incident key witness Devika Rotawan homeless
देश-दुनिया की ताज़ा ख़बरों से अपडेट रहने के लिए Oneindia Hindi के फेसबुक पेज को लाइक करें
For Daily Alerts
तुरंत पाएं न्यूज अपडेट
Enable
x
Notification Settings X
Time Settings
Done
Clear Notification X
Do you want to clear all the notifications from your inbox?
Settings X
X