• search
मध्य प्रदेश न्यूज़ के लिए
नोटिफिकेशन ऑन करें  

खुदाई के दौरान मनरेगा मजदूरों के हाथ लगा 'खजाना', सिक्कों के बंटवारे को लेकर उलझे मजदूर, देखें वीडियो

|

बुरहानपुर। मनरेगा के ये मजदूर रोजाना की तरह ही काम कर रहे थे, मगर आज का दिन इनके लिए बेहद खास था। इन्हें जमीन में गड़ा धन मिला, जिसके बंटवारे को लेकर मजदूर के बीच बहस भी हुई। फिर इनके हाथ फूटी कोडी भी नहीं लगी। पूरा धन सरकार ने जब्त कर लिया।

    खुदाई के दौरान मनरेगा मजदूरों के हाथ लगा 'खजाना', सिक्कों के बंटवारे को लेकर उलझे मजदूर
    एमपी के बुरहानपुर जिले की घटना

    एमपी के बुरहानपुर जिले की घटना

    हुआ यूं कि मध्य प्रदेश के बुरहानपुर जिले की खकनार तहसील के गांव चोखण्डिया में मनरेगा योजना के तहत कार्य चल रहा है। ग्रामीण जमीन की खुदाई कर रहे थे। एक मजदूर को खुदाई के दौरान किसी विशेष धातु से निर्मित सिक्कों से भरा घड़ा मिला।

    हिस्सेदारी को लेकर उलझे मजदूर

    हिस्सेदारी को लेकर उलझे मजदूर

    धीरे-धीरे इस बात की भनक वहां पर काम कर रहे सभी 116 मजदूरों को लगी। खुदाई के दौरान मिले धन में अपनी-अपनी हिस्सेदारी को लेकर सभी मजदूर आपस में ही उलझ पड़े। इस बीच मजदूरों में से किसी ने इसकी सूचना देड़तलाई चौकी प्रभारी हंस कुमार झिंझोरे को दी।

    एसडीएम तहसीलदार भी पहुंचे मौके पर

    एसडीएम तहसीलदार भी पहुंचे मौके पर

    सूचना मिलते ही झिंझोरे तुरंत मौके पर पहुंचे और सिक्कों से भरे मटके को अपने कब्जे में करके मनरेगा कार्यस्थल को सील करवा दिया। झिंझोरे ने इसकी सूचना SDM तथा तहसीलदार को दी। इसके बाद तहसीलदार सुखराम गोलकर भी मौके पर पहुंचे। घड़े को सरपंच एवं ग्राम सचिव की मौजूदगी में देड़तलाई चौकी लाया गया।

    मटके में मिले कुल 206 सिक्के

    मटके में मिले कुल 206 सिक्के

    खकनार पुलिस थाना प्रभारी केपी धुर्वे ने बताया कि देड़तलाई चौकी चौकी पहुंच कर 4 गणमान्य नागरिकों और पुलिस के समक्ष तहसीलदार ने सिक्कों की गिनती करवाई। मटके में कुल 206 कुल सिक्के पाए गए। फिलहाल सिक्कों से भरा घड़ा पुलिस के कब्जे में है।

     1012 साल पुराने हो सकते हैं सिक्के

    1012 साल पुराने हो सकते हैं सिक्के

    सिक्के किस धातु से निर्मित हैं। इसका अभी तक पता नहीं चल पाया है। ना ही इनके मूल्य के संबंध में अभी कोई आधिकारिक पुष्टि हुई है, परन्तु देड़तलाई स्थित मस्जिद के इमाम की मानें तो इन सिक्कों में तुर्की भाषा में यासुद्दीन बादशाह लिखा है। सन 988 अंकित है। इमाम साहब के अनुसार ये सिक्के 1012 साल पुराने हो सकते हैं।

    Inder Yadav : भोपाल रेलवे स्टेशन पर दौड़कर बच्ची के लिए दूध पहुंचाने वाले RPF जवान का सम्मान

    देश-दुनिया की ताज़ा ख़बरों से अपडेट रहने के लिए Oneindia Hindi के फेसबुक पेज को लाइक करें
    English summary
    MGNREGA laborers got pot full of coins During Work in Khaknar burhanpur MP
    For Daily Alerts
    तुरंत पाएं न्यूज अपडेट
    Enable
    x
    Notification Settings X
    Time Settings
    Done
    Clear Notification X
    Do you want to clear all the notifications from your inbox?
    Settings X
    X