• search
मध्य प्रदेश न्यूज़ के लिए
नोटिफिकेशन ऑन करें  

भोपाल: 2 श्मशान और एक कब्रिस्तान में 137 मरीजों का हुआ अंतिम संस्कार, लेकिन सरकारी आंकड़ों में हुई 5 मौत

|

भोपाल, अप्रैल 24। देश में कोरोना से होने वाली मौत के आधिकारिक आंकड़े रोजाना 2 हजार से उपर आ रहे हैं। इन हालात के बीच मौत के आंकड़ों में गड़बड़ी का मामला सामने आया है। दरअसल, मध्य प्रदेश की राजधानी भोपाल में कोरोना से होने वाली मौत के आंकड़ों में गड़बड़ी का दावा किया गया है। समाचार एजेंसी PTI की एक रिपोर्ट के मुताबिक, बुधवार को भोपाल में 137 कोरोना संक्रमित मरीजों का अंतिम संस्कार किया गया, लेकिन सरकारी आंकड़ों की मानें तो भोपाल में बुधवार को सिर्फ 5 कोरोना संक्रमित मरीजों की जान गई थी।

Corona death

अधिकारियों ने सफाई देने से झाड़ा पल्ला

रिपोर्ट में कहा गया है कि भोपाल के दो श्मशान और एक कब्रिस्तान के रिकॉर्ड को मिलाकर बुधवार को कुल 137 कोरोना संक्रमित मरीजों का अंतिम संस्कार किया गया था। इन शवों के अंतिम संस्कार के लिए कोविड प्रोटोकॉल का ही पालन किया गया था। अब इस स्थिति में जब PTI के रिपोर्टर ने जिले के मेडिकल चीफ और स्वास्थ्य अधिकारी डॉक्टर प्रभाकर तिवारी से संपर्क साधने की कोशिश की तो उन्होंने फोन ही उठाने बंद कर दिए।

भदभदा श्मशान के प्रबंधक ने बताई हकीकत

भोपाल के श्मशान और कब्रिस्तान के प्रबंधकों ने बताया कि बुधवार को वहां पर कुल 187 शवों का अंतिम संस्कार किया गया था, जिनमें से 137 का कोविड प्रोटोकॉल के तहत अंतिम संस्कार किया गया। भदभदा श्मशान घाट प्रबंधन समिति के सचिव ममतेश शर्मा ने बताया कि बुधवार को उनके यहां कुल 111 शवों का अंतिम संस्कार किया था, इनमें से 92 शवों का अंतिम संस्कार कोविड-19 के प्रोटोकॉल के तहत किया गया था। यहां जिन शवों का अंतिम संस्कार हुआ, उनमें से 61 तो भोपाल के ही थी, जबकि 31 शव अन्य जिलों के थे। आपको बता दें कि भदभदा विश्राम घाट प्रदेश की राजधानी भोपाल में हिन्दुओं के बड़े श्मशान घाटों में से एक है।

कोरोना से पहले 10-12 शवों का हर दिन होता था अंतिम संस्कार

ममतेश शर्मा ने बताया कि भोपाल से बाहर जो भी कोरोना संक्रमित मरीज इलाज कराने यहां आता है, अगर उसकी मौत हो जाती है तो उसका अंतिम संस्कार यही किया जा रहा है, उसके शव को जिले से बाहर नहीं ले जाया जा सकता। ममतेश के मुताबिक, कोरोना की दूसरी लहर से पहले इस श्मशान घाट पर रोजाना 10-12 शव ही अंतिम संस्कार के लिए आते थे, लेकिन अब तो स्थिति बहुत ज्यादा खराब है।

भोपाल के दूसरे श्मशान और कब्रिस्तान की हकीकत

भोपाल के दूसरे श्मशान घाट सुभाष नगर विश्राम घाट के प्रबंधक शोभराज सुखवानी ने बताया कि इस विश्राम घाट में बुधवार को 56 शवों का अंतिम संस्कार किया गया था। इन शवों में से 31 शवों का अंतिम संस्कार कोविड-19 के प्रोटोकॉल के मुताबिक किया गया, जिनमें से 20 भोपाल के रहने वाले थे एवं बाकी 11 अन्य जिलों के थे। वहीं झदा कब्रिस्तान जहांगीराबाद के प्रबंधन समिति के अध्यक्ष रेहान गोल्डन ने बताया कि बुधवार को 20 शव दफनाए गए थे।इनमें से 14 को कोविड-19 के प्रोटोकॉल के मुताबिक दफनाया गया, ये सभी लोग भोपाल के निवासी थे।

ये भी पढ़ें: मई में कोरोना से भारत में हर दिन होंगी 5,000 से ज्यादा मौतें, चरम पर होगा संक्रमण: रिसर्च में दावाये भी पढ़ें: मई में कोरोना से भारत में हर दिन होंगी 5,000 से ज्यादा मौतें, चरम पर होगा संक्रमण: रिसर्च में दावा

English summary
In Bhopal 137 corona patients were cremated in 2 crematoriums and one cemetery, but 5 deaths in government figures
देश-दुनिया की ताज़ा ख़बरों से अपडेट रहने के लिए Oneindia Hindi के फेसबुक पेज को लाइक करें
For Daily Alerts
तुरंत पाएं न्यूज अपडेट
Enable
x
Notification Settings X
Time Settings
Done
Clear Notification X
Do you want to clear all the notifications from your inbox?
Settings X
X