• search
मध्य प्रदेश न्यूज़ के लिए
नोटिफिकेशन ऑन करें  

शिवराज सिंह पर भड़के दिग्विजय, बोले- ओबीसी आरक्षण कम करने के लिए आपको शर्म आनी चाहिए

|
Google Oneindia News

भोपाल, 21 मई: कांग्रेस सांसद और मध्य प्रदेश के पूर्व मुख्यमंत्री दिग्विजय सिंह ने ओबीसी आरक्षण को लेकर राज्य की शिवराज सिंह के नेतृत्व वाली सरकार पर निशाना साधा है। दिग्विजय सिंह ने कहा कि भाजपा की वजह से पिछड़ा वर्ग को जो 27 फीसदी आरक्षण मिल रहा था, वो घटकर 14 फीसदी रह गया है। सीएम शिवराज सिंह इसे उपलब्धि की तरह दिखा रहे हैं जबकि उनको इस पर शर्मिंदा होना चाहिए।

 reservation

शनिवार को दिग्विजय सिंह ने कहा, मध्य प्रदेश में साल 94 से पिछले पांच चुनावों में पिछड़ा वर्गों को 27 प्रतिशत आरक्षण मिलता रहा था। भाजपा की नीयत ना पिछड़ा वर्गों के प्रति साफ है और ना ही अनुसूचित जनजाति के लिए। जानबूझकर नियमों का पालन नहीं किया जा रहा है। 48-49 फीसदी पिछड़ा वर्गों के पद खत्म हो गए हैं। 27 फीसदी आरक्षण को कम करके इस सरकार ने 14 प्रतिशत कर दिया है। ये इसे भी उत्सव की तरह से मना रहे हैं। मुख्यमंत्री अपना सम्मान करवा रहे हैं। जबकि मुख्यमंत्री को शर्म आनी चाहिए क्योंकि उन्होंने पिछड़ा वर्ग के साथ धोखा किया है।

दिग्विजय सिंह ने कहा, भाजपा की मंशा ओबीसी के प्रति ठीक नहीं है। वे संविधान का पालन नहीं कर रहे हैं। सुप्रीम कोर्ट ने कहा कि आरक्षण 50 प्रतिशत से ज्यादा नहीं होना चाहिए। इसका मतलब है कि अन्य वर्गों के लिए 16 और 20 प्रतिशत आरक्षण को कम नहीं कर सकते। दिग्विजय सिंह ने केंद्र की मोदी सरकार से सवाल किया कि पिछड़ों के आरक्षण के लिए केंद्र सरकार कानून क्यों नहीं लाती है।

पेगासन जासूसी मामले में 29 मोबाइल की हो रही जांच, रिपोर्ट जमा करने के लिए समिति का बढ़ाया गया समयपेगासन जासूसी मामले में 29 मोबाइल की हो रही जांच, रिपोर्ट जमा करने के लिए समिति का बढ़ाया गया समय

Comments
English summary
Congress leader Digvijaya Singh says CM shivraj should be ashamed of reducing obc reservation from 27 to 14 precent
देश-दुनिया की ताज़ा ख़बरों से अपडेट रहने के लिए Oneindia Hindi के फेसबुक पेज को लाइक करें
For Daily Alerts
तुरंत पाएं न्यूज अपडेट
Enable
x
Notification Settings X
Time Settings
Done
Clear Notification X
Do you want to clear all the notifications from your inbox?
Settings X
X