• search
लखनऊ न्यूज़ के लिए
नोटिफिकेशन ऑन करें  

Waseem rizvi: सऊदी अरब, जापान में कर चुके हैं नौकरी, जानें कौन हैं वसीम रिजवी?

|
Google Oneindia News

लखनऊ, 06 दिसंबर: शिया सेंट्रल वक्फ बोर्ड के चेयरमैन रहे वसीम रिजवी ने हिंदू धर्म अपना लिया है। गाजियाबाद स्थित डासना देवी मंदिर के महंत यति नरसिंहानंद गिरि ने उन्हें सनातन धर्म ग्रहण करवाया है। इस दौरान डासना मंदिर में कई अनुष्ठान हुए। हिंदू धर्म अपनाने के साथ ही वसीम रिजवी सुर्खियों में आ गए हैं। हालांकि, ये पहला मौका नहीं है जब वह चर्चा में रहे हों। अपने बयानों को लेकर रिजवी अक्सर विवादों में रहते हैं। रिजवी के हिंदू धर्म अपनाने के ऐलान से राजनीति में हलचल मच गई है। वसीम रिजवी ने इसे घर वापसी करार दिया है। OneIndia Hindi आपको बता रहा है कि वसीम रिजवी हैं?

कौन हैं वसीम रिजवी ?

कौन हैं वसीम रिजवी ?

वसीम रिजवी का जन्म उत्तर प्रदेश की राजधानी लखनऊ में एक सामान्य परिवार में हुआ था। उनका परिवार कश्मीरी मोहल्ले में रहता था। पिता रेलवे में काम करते थे। वसीम रिजवी छठी कक्षा में थे, जब उनके पिता का निधन हो गया था। भाई-बहनों में सबसे बड़े होने की वजह से परिवार की जिम्मेदारी उनपर आ गई। इंटर तक की पढ़ाई के बाद वसीम रिजवी ने नैनीताल के एक कॉलेज में दाखिला लिया। इसके बाद सऊदी अरब चले गए। यहां एक होटल में छोटी सी नौकरी की। इसके कुछ दिनों बाद वह जापान चले गए, जहां एक फैक्ट्री में उनकी जॉब लगी। जापान में नौकरी के बाद वसीम रिजवी अमेरिका गए और यहां एक स्टोर में काम किया।

वक्फ बोर्ड के मेंबर से लेकर चेयरमैन तक का सफर

वक्फ बोर्ड के मेंबर से लेकर चेयरमैन तक का सफर

लखनऊ लौटने पर वसीम रिजवी ने लोगों के बीच उठना-बैठने शुरू किया। धीरे-धीरे उनके सामाजिक संबंध अच्छे होने लगे। इसके बाद उन्होंने नगर निगम का चुनाव लड़ने का फैसला किया। यहीं से उनके राजनीतिक जीवन की शुरुआत हुई। इसके बाद रिजवी वक्फ बोर्ड के मेंबर बने और चेयरमैन के पद तक सफर तय किया। रिजवी करीब 10 साल तक वफ्फ बोर्ड में रहे।

2012 में सपा ने रिजवी को पार्टी से निकाला था

2012 में सपा ने रिजवी को पार्टी से निकाला था

साल 2000 में वसीम रिजवी कश्मीरी मोहल्ला वॉर्ड से समाजवादी पार्टी के नगरसेवक चुने गए। सपा में रहते हुए साल 2008 में शिया सेंट्रल वक्फ बोर्ड के मेंबर बने। साल 2012 में शिया वक्फ बोर्ड की संपत्तियों में हेरफेर के आरोप में घिरे, जिसके बाद समाजवादी पार्टी ने रिजवी को 6 साल के लिए पार्टी से निकाल दिया। उन्होंने कोर्ट का दरवाजा खटखटाया, वहां से उन्हें राहत मिल गई।

विवादित बयानों को लेकर चर्चा में रहते हैं वसीम रिजवी

विवादित बयानों को लेकर चर्चा में रहते हैं वसीम रिजवी

वसीम रिजवी अपने विवादित बयानों को लेकर अक्सर चर्चा में रहते हैं। रिजवी ने एक किताब भी लिखी है। इस किताब में उन्होंने इस्लाम धर्म और पैगंबर को लेकर ऐसी टिप्पणियां की हैं, जिनकी आलोचना की गई। वसीम रिजवी इस्लाम में सुधार की मांग भी कर चुके हैं। यही नहीं, रिजवी ने कुरान से 26 आयतें हटाने की याचिका भी सुप्रीम कोर्ट में दायर की थी।

शिया वक्फ बोर्ड के पूर्व चेयरमैन वसीम रिजवी ने अपनाया हिंदू धर्म, कहा- इस्लाम को मैं धर्म ही नहीं समझताशिया वक्फ बोर्ड के पूर्व चेयरमैन वसीम रिजवी ने अपनाया हिंदू धर्म, कहा- इस्लाम को मैं धर्म ही नहीं समझता

Comments
English summary
waseem rizvi who became harbir narayan singh tyagi special story
देश-दुनिया की ताज़ा ख़बरों से अपडेट रहने के लिए Oneindia Hindi के फेसबुक पेज को लाइक करें
For Daily Alerts
तुरंत पाएं न्यूज अपडेट
Enable
x
Notification Settings X
Time Settings
Done
Clear Notification X
Do you want to clear all the notifications from your inbox?
Settings X
X