• search
कानपुर न्यूज़ के लिए
नोटिफिकेशन ऑन करें  

नौ मई तक बढ़ी पीयूष जैन की रिमांड, DGGI को बताया कहां से आई अकूत संपत्ति

|
Google Oneindia News

कानपुर, 26 अप्रैल: पीयूष जैन, जीएसटी खुफिया महानिदेशालय (डीजीजीआई) और इनकम टैक्स विभाग की रेड के बाद मीडिया ही नहीं, बल्कि सोशल मीडिया पर भी सुर्खियों में आ गए थे। पीयूष के कानपुर और कन्नौज स्थित ठिकानों पर करीब छह दिनों तक चली छापेमारी में अकूत संपत्ति मिली थी। इस मामले में पीयूष जैन पिछले काफी समय से जेल में बंद है। तो वहीं, अब कोर्ट ने पीयूष जैन की रिमांड अवधि नौ मई तक बढ़ा दी गई है।

    Kanpur Piyush Jain Raid: पीयूष जैन DGGI को बताया, कहां से आई बेहिसाब संपत्ति ? | वनइंडिया हिंदी
    Piyush Jain told DGGI where did the property come from

    आपको बता दें कि पीयूष जैन के घर से डीजीजीआई ने 196.45 करोड़ रुपये नकद और 23 किलो सोना बरामद किया था। अब जब इस घटना को तीन माह से अधिक का समय बीत चुका है तो खुद पीयूष की ओर से 196 करोड़ रुपये का हिसाब-किताब दिया गया है। डीजीजीआई को दिए विवरण में स्वीकार किया है कि कैश बिक्री करके पैसा एकत्रित किया गया। कन्नौज की तीनों कंपनियों से कब-कब कितना पैसा बनाया गया, इसका भी विवरण है।

    पीयूष जैन के इस कुबूलनामे के बाद डीजीजीआई की राह काफी हद तक आसान हो गई है। अब पीयूष के खिलाफ कोर्ट में आर्थिक अपराध के मुकदमे को साबित करने में समय नहीं लगेगा। आपको बता दें कि पीयूष जैन की ओर से दिए गए विवरण में कैश बिक्री से हुई कमाई के साथ 18 प्रतिशत जीएसटी, 18 प्रतिशत टैक्स और 15 प्रतिशत पेनाल्टी की राशि दी गई है। कैश बिक्री से 196 करोड़ रुपये से ज्यादा की आय दिखाते हुए इस पर जीएसटी, टैक्स और पेनाल्टी मिलाकर 52 करोड़ से ज्यादा की देनदारी भी खुद पीयूष के साझीदारों की ओर से घोषित की गई है।

    डीजीजीआई को दिए दस्तावेज में यह भी लिखकर दिया गया है कि वे देनदारी के रुपयों पर कोई रिटर्न नहीं मांगेंगे और न ही इसके लिए कोई वाद दाखिल करेंगे। डीजीजीआइ के वरिष्ठ अधिवक्ता विशेष लोक अभियोजक अंबरीश टंडन ने बताया कि इस संबंध में दस्तावेज मिले हैं जो अविधिक तरीके से एकत्रित किए गए रुपयों की जानकारी देते है।

    ये भी पढ़ें:- Piyush Jain: अलमारियों के पीछे थे गुप्त दरवाजे और तहखाने, फर्श के पत्थरों में छिपे थे कोडये भी पढ़ें:- Piyush Jain: अलमारियों के पीछे थे गुप्त दरवाजे और तहखाने, फर्श के पत्थरों में छिपे थे कोड

    Comments
    English summary
    Piyush Jain told DGGI where did the property come from
    देश-दुनिया की ताज़ा ख़बरों से अपडेट रहने के लिए Oneindia Hindi के फेसबुक पेज को लाइक करें
    For Daily Alerts
    तुरंत पाएं न्यूज अपडेट
    Enable
    x
    Notification Settings X
    Time Settings
    Done
    Clear Notification X
    Do you want to clear all the notifications from your inbox?
    Settings X
    X