• search
कानपुर न्यूज़ के लिए
नोटिफिकेशन ऑन करें  

'जान बचा लो साहब, रोज नहीं खरीद सकती इंजेक्शन', ब्लैक फंगस से पीड़ित युवक की पत्नी की गुहार

|
Google Oneindia News

Kanpur, May 21: कोरोना वायरस संक्रमण के बीच उत्तर प्रदेश में ब्लैक फंगस (म्यूकरमाइकोसिस) नाम की जानलेवा बीमारी ने संकट को और बढ़ा दिया है। इस बीमारी में लोग अपनी आंखों की रोशनी गवा बैठे हैं। तो वहीं, ब्लैक फंगस से पीड़ितों के तीमारदारों के सामने महंगा इलाज एक बड़ी समस्या है। ताजा मामला कानपुर जिले से सामने आया है, जहां एक महिला ने पति के इलाज के लिए मंडलायुक्त से गुहार लगाई है।

Kanpur News: black fungus patient wife pleads save her husband life

महिला की मानें तो उसका पति कानपुर के हैलट अस्पताल के वार्ड-9 में भर्ती है और उन्हें ब्लैक फंगस है। महिला ने मंडलायुक्त कार्यालय पहुंचकर पत्र सौंपा है, जिसमें महिला का कहना है कि वह 12 हजार की कीमत का एंटी फंगल इंजेक्शन अब और नहीं खरीद सकती है। उसके पास मंहगी दवाएं खरीदने को रुपए नहीं हैं। ऐसे में उसे अस्पताल से एंटी फंगल इंजेक्शन उपलब्ध कराया जाए। दरअसल, प्राइवेट नौकरी करने वाले विजय गौतम को 13 मई को हैलट अस्पताल में भर्ती कराया गया था। जांच के बाद ब्लैक फंगस की पुष्टि हुई और डॉक्टरों ने उसकी पत्नी दीपिका को बताया कि विजय की एक आंख निकालनी पड़ सकती है।

दीपिका के मुताबिक, वह पिछले कई दिनों से रोज 12 हजार रुपए का एंटी फंगल इंजेक्शन और मंहगी दवाइयां खरीद रही हैं। वह पड़ोसियों और पति के साथियों की आर्थिक मदद से इंजेक्शन और दवाएं खरीद रही थी। दीपिका का कहना है कि उसके मददगारों की भी आर्थिक स्थिति अच्छी नहीं है। मीडिया रिपोर्ट्स के मुताबिक, शासन ने जीएसवीएम मेडिकल कॉलेज को 100 इंजेक्शन उपलब्ध कराए हैं। मेडिकल कॉलेज प्रिन्सिपल का कहना है कि जरूरत के मुताबिक, ब्लैक फंगस पीड़ित को इंजेक्शन उपलब्ध कराए जाएंगे। हालांकि, मेडिकल कॉलेज को इंजेक्शन मिलने के बाद भी विजय को इस स्टॉक से इंजेक्शन नहीं मिल रहा है।

ये भी पढ़ें:- Barabanki: विवादित स्थल ढाए जाने पर बढ़ा विवाद, प्रशासन ने 8 लोगों पर दर्ज कराई FIRये भी पढ़ें:- Barabanki: विवादित स्थल ढाए जाने पर बढ़ा विवाद, प्रशासन ने 8 लोगों पर दर्ज कराई FIR

दीपिका ने मीडिया से बात करते हुए कहा कि मेडिकल कॉलेज के प्रिंसिपल से बात करने पर उन्होंने कहा कि विजय की कोविड पॉजिटिव की रिपोर्ट नहीं है, इसलिए उसे यह इंजेक्शन नहीं मिल सकते। जबकि उसके पति को मई के पहले हफ्ते में कोविड पॉजिटिव होने की वजह से एडमिट किया गया था। उनका ऑक्सीजन लेवल काफी कम था। इस दौरान डॉक्टरों ने उसका आरटीपीसीआर टेस्ट नहीं कराया। अब ब्लैक फंगस की पुष्टि के बाद डॉक्टरों ने कहा कि उनकी एक आंख निकाली जा सकती है।

English summary
Kanpur News: black fungus patient wife pleads save her husband life
देश-दुनिया की ताज़ा ख़बरों से अपडेट रहने के लिए Oneindia Hindi के फेसबुक पेज को लाइक करें
For Daily Alerts
तुरंत पाएं न्यूज अपडेट
Enable
x
Notification Settings X
Time Settings
Done
Clear Notification X
Do you want to clear all the notifications from your inbox?
Settings X
X