• search
जोधपुर न्यूज़ के लिए
नोटिफिकेशन ऑन करें  

पाकिस्तान की खूबसूरत लड़कियों की इस खतरनाक 'पलटन' के निशाने पर हैं इंडियन आर्मी के जवान

|
Google Oneindia News

जोधपुर, 25 मई। पाकिस्तान अपनी नापाक​ हरकतों से बाज नहीं आ रहा है। अब पाकिस्तान की खफिया एजेंसी आईएसआई ने खूबसूरत लड़कियों की नई 'पलटन' तैयार की है, जिसके निशाने पर भारतीय सेना के जवान व भारत-पाकिस्तान सीमा से लगते इलाके के लोग हैं।

जोधपुर से पकड़ा गया प्रदीप

जोधपुर से पकड़ा गया प्रदीप

हाल ही खुफिया एजेंसियों ने जोधपुर से भारतीय सेना के जवान प्रदीप कुमार को पकड़ा था। मूलरूप से उत्तराखंड के रुड़की का रहने वाला प्रदीप कुमार आईएसआई की महिला एजेंट रिया के हनीट्रैप में फंसकर उसे सेना से जुड़ी गुप्त सूचनाएं सोशल मीडिया के जरिए भेज रहा था। प्रदीप महिला एजेंट रिया पर इस कदर फिदा हुआ कि सात माह से बिना पैसे लिए गोपनीय सूचनाएं भेजता रहा।

 प्रदीप से पूछताछ में खुलासा

प्रदीप से पूछताछ में खुलासा

प्रदीप से पूछताछ व पूरे मामल की गहनता से पड़ताल करने पर कई चौंकाने वाले खुलासे हुए हैं। पता चला है कि पाकिस्तानी खुफिया एजेंसी आईएसआई ने भारत की जासूसी के लिए 300 महिला एजेंट्स को भर्ती किया है। सबसे ज्यादा जोर कश्मीर पर दिया जा रहा है। कश्मीर के लिए तो आईएसआई ने महिला एजेंट्स का अलग से कॉल सेंटर तक बनाया है।

पाक में ISI की खूबसूरत एजेंट को ऐसे दी जाती है इंडियन आर्मी जवानों को Honey Trap में फंसाने की ट्रेनिंग <br/>पाक में ISI की खूबसूरत एजेंट को ऐसे दी जाती है इंडियन आर्मी जवानों को Honey Trap में फंसाने की ट्रेनिंग

कहां-कहां कॉल सेंटर?

कहां-कहां कॉल सेंटर?

बता दें कि महिला एजेंट्स के लिए जोनवार कॉल सेंटर बनाए गए हैं। पूरे ऑपरेशन को 'प्रोजेक्ट शेरनी' नाम दिया गया है। पंजाब व जम्मू में जासूसी के लिए लाहौर तथा रावलपिंडी में, कश्मीर में जासूसी के लिए मीरपुर में, गुजरात सीमा पर जासूसी के लिए कराची में व राजस्थान में जासूसी के लिए सिंध इलाके में स्थित हैदराबाद में कॉल सेंटर बनाया गया है।

महिला एजेंट को सौंपा हनीट्रैप का टास्क

महिला एजेंट को सौंपा हनीट्रैप का टास्क

मीडिया की खबरों में दावा किया जा रहा है कि आईएसआई ने साल 2019 में गरीब लड़कियों, स्थानीय कॉल गर्ल और कॉलेज की लड़कियों की महिला एजेंट के लिए हायरिंग शुरू की थी। इन महिला एजेंट्स को ट्रेनिंग के बाद कैप्टन रैंक के अधिकारी की निगरानी में हनीट्रैप का टास्क सौंपा जाना शुरू किया गया। इन महिला एजेंटों को रिया, मुस्कान, प्रिया, मुस्कान जैसे हिंदू नाम दिए जाते हैं। ये खुद को भारतीय बताकर ही जवानों को अपने जाल में फंसाती हैं।

180 दिन की ट्रेनिंग के बाद रोजाना 50 प्रोफाइल देते

180 दिन की ट्रेनिंग के बाद रोजाना 50 प्रोफाइल देते

पाकिस्तान की महिला जासूसों को 180 दिन की ऑनलाइन और डार्कवेब की ट्रेनिंग के बाद प्रत्येक महिला एजेंट को 50 भारतीय प्रोफाइल दी जाती है। महिला एजेंट्स को इन प्रोफाइल वाले शख्स को हनीट्रैप के जाल में फंसाकर गोपनीय सूचनाएं हासिल करनी होती हैं। ये शुरुआती में दोस्ती करती हैं। फिर सामान्य कॉल से न्यूड वीडियो कॉल करने लगती हैं। उसकी बाद वीडियो वायरल करने की धमकी देकर सूचनाएं मंगवाती हैं।

होटल रूम में बनाती ​मंदिर

होटल रूम में बनाती ​मंदिर

ट्रेनिंग के बाद पाकिस्तान की हसीनाओं की इस पलटन किसी होटल में ठहराया जाता है। वहां होटल रूम में ये छोटा मंदिर बनाकर रहती हैं। साड़ी पहनती हैं। बिंदू लगाती हैं। पूजा पाठ करती भी नजर आती हैं ताकि इनके पाकिस्तानी होने पर शक नहीं हो। प्रदीप को जिस रिया ने हनीट्रैप में फंसाया उसने अपने रूम में हिंदू देवी देवताओं की तस्वीरें लगा रखी थीं।

Comments
English summary
Indian Army personnel are on target of dangerous 'platoon' of beautiful girls of Pakistan
देश-दुनिया की ताज़ा ख़बरों से अपडेट रहने के लिए Oneindia Hindi के फेसबुक पेज को लाइक करें
For Daily Alerts
तुरंत पाएं न्यूज अपडेट
Enable
x
Notification Settings X
Time Settings
Done
Clear Notification X
Do you want to clear all the notifications from your inbox?
Settings X
X