• search
जोधपुर न्यूज़ के लिए
नोटिफिकेशन ऑन करें  

पिता की जगह रेलवे नौकरी में लगे बुकिंग क्लर्क हितेश चौधरी ने स्टेशन पर दी जान, 3 माह पहले जन्मा बेटा

|

जोधपुर। राजस्थान के जोधपुर जिले के ओसियां रेलवे स्टेशन पर एक बुकिंग क्लर्क की मौत ने सबको चौंका दिया। अपने पिता की जगह रेलवे में नौकरी लगे 33 साल के हितेश चौधरी ने ड्यूटी खत्म होने से पहले ही अजीब ढंग से खुद को खत्म कर लिया और ढेरों सवालों के जवाब पीछे छोड़ गया।

वाणिज्यिक विभाग ने चाही थी रुपयों की जानकारी

वाणिज्यिक विभाग ने चाही थी रुपयों की जानकारी

मीडिया रिपोर्ट्स के अनुसार हितेश चौधारी ओसियां रेलवे स्टेशन पर बतौर बुकिंग क्लर्क कार्यरत था। कोरोना महामारी के चलते रद्द हुई ट्रेनों के रिफंड के लिए राशि हितेश को दी गई थी। अब रेलवे के लेखा विभाग ने सभी स्टेशनों से क्रेडिट व कैश रेमिट के बारे में जानकारी मांगी थी। वाणिज्यिक विभाग स्टेशनों से यह जानकारी मंगवाने के लिए रोज अपडेट ले रहा था।

 वाणिज्यिक निरीक्षक आए थे जांच करने

वाणिज्यिक निरीक्षक आए थे जांच करने

कई स्टेशनों से इस बारे में जानकारी नहीं आने पर वहां वाणिज्यिक निरीक्षकों (सीएमआई) को भेजा जा रहा है। ओसियां रेलवे स्टेशन से भी राशि के संबंध में जानकारी प्राप्त नहीं होने पर वाणिज्यिक निरीक्षक जेपी मीणा यहां पहुंचे और बुकिंग क्लर्क चौधरी के पास उपलब्ध रुपए की जानकारी जुटाई तो 50 हजार रुपए का कैश कम मिला।

रुपए लाने की बोलकर निकला था हितेश

रुपए लाने की बोलकर निकला था हितेश

इस बारे में पूछताछ की तो हितेश ने कहा कि अभी घर से लाकर जमा करवाता हूं। ऐसे में वह निकला और कुछ देर तक लौटा ही नहीं। तभी जानकारी मिली कि स्टेशन की पुरानी बिल्डिंग के वेटिंग रूम में हितेश फंदे से लटका हुआ है। यह सुन सभी दंग रह गए। सूचना पाकर ओसियां पुलिस भी मौके पर पहुंची और परिजनों के जोधपुर से वहां पहुंचने के बाद शव को फंदे से नीचे उतारा।

जुलाई से जमा नहीं करवाए थे रुपए

जुलाई से जमा नहीं करवाए थे रुपए

रेलवे के मुताबिक हितेश ने जुलाई से राजकीय कोष में कोई पैसा जमा नहीं करवाया था। इसलिए उसका डिफाल्टर की सूची में बार-बार नाम आ रहा था। ऐसे मामलों में कर्मचारी पैसे या उसकी रसीदें जमा करवा अपना हिसाब कर लेते हैं।

2012 में हुई थी शादी

2012 में हुई थी शादी

जोधपुर में कुड़ी भगतासनी हाउसिंग बोर्ड निवासी हितेश के पिता अशोक कुमार भी रेलवे में नौकरी करते थे। उनकी मौत के बाद 2014 में उसे रेलवे में अनुकंपा नियुक्ति मिली थी। वह बुकिंग क्लर्क लगा। मां व पत्नी के साथ रह रहा था। बहन की शादी हो चुकी थी। खुद की शादी 2012 में हुई थी। 3 माह पहले ही हितेश की पत्नी ने बेटे को जन्म दिया।

जयपुर बम धमाके के दोषी आतंकियों को फांसी की सजा सुनाने वाले जज को जान का खतरा, घर पर बोतलें फेंकीं

देश-दुनिया की ताज़ा ख़बरों से अपडेट रहने के लिए Oneindia Hindi के फेसबुक पेज को लाइक करें
English summary
Booking clerk Hitesh Chaudhary commits suicide at Osian railway station in Jodhpur
For Daily Alerts
तुरंत पाएं न्यूज अपडेट
Enable
x
Notification Settings X
Time Settings
Done
Clear Notification X
Do you want to clear all the notifications from your inbox?
Settings X
X