• search
क्विक अलर्ट के लिए
नोटिफिकेशन ऑन करें  
For Daily Alerts

लॉकडाउन के बावजूद कम नहीं हुआ CO2 का उत्सर्जन, सामने आई चौंकाने वाली रिपोर्ट

|

नई दिल्ली। साल 2020 में कोरोना महामारी के कारण दुनिया के कई हिस्सों को लॉकडाउन किया गया। इस लॉकडाउन की वजह से दुनिया के कई देशों में अगर एक पॉजिटिव इम्पैक्ट पड़ा है वहां पर्यावरण साफ होने की बात कही गई लेकिन हाल में जारी किए गए आंकड़ों ने हैरान कर दिया हैं। इस नए आकड़ों के आधार पर पता चलता हैं कि लॉकडाउन के बावजूद CO2 का उत्सर्जन में कमी नहीं आई हैं। कार्बन डाइऑक्साइड यानी CO2 को फंसाने वाली गर्मी अपने उच्चतम स्तर को दर्ज कर रही है।

कार्बन डाइऑक्साइड की मात्रा अभी है उतनी 2.3 करोड़ साल पहले भी नहीं थीं।

कार्बन डाइऑक्साइड की मात्रा अभी है उतनी 2.3 करोड़ साल पहले भी नहीं थीं।

यह खुलासा कैलिफोर्निया सैन डिएगो विश्वविद्यालय के स्क्रिप्स इंस्टीट्यूशन ऑफ़ ओशनोग्राफी और नैशनल एंड एटमॉस्फेरिक एडमिनिस्ट्रेशन (NOAA) के आंकड़ों में किया गया हैं। मौना लोआ वेधशाला में दर्ज कार्बन डाइऑक्साइड मई में 417 भागों प्रति मिलियन (पीपीएम) तक पहुंच गया, जो पिछले साल 414.8 पीपीएम के रिकॉर्ड से अधिक था। जब तक यह डेटा नहीं आया, तब तक पिछले साल की संख्या मई के महीने में सबसे अधिक दर्ज की गई थी। वैज्ञानिकों का कहना है कि वातावरण में CO2 का स्तर Three मिलियन वर्षों में अपने उच्चतम स्तर पर है। मई में वातावरण में CO2 की सांद्रता 417.2 भागों प्रति मिलियन थी, जो कि 2019 में 414.8ppm के शिखर से 2.4ppm अधिक है। ताजा शोध से पता चला है कि पृथ्वी पर जितना ज्यादा कार्बन डाइऑक्साइड की मात्रा है, उतनी ज्यादा तो पिछले 2.3 करोड़ साल पहले भी नहीं थीं।

इसके बढ़ने के कारण पृथ्वी का औसत तापमान बढ़ने लगा है

इसके बढ़ने के कारण पृथ्वी का औसत तापमान बढ़ने लगा है

बता दें इन दिनों जब भी हमारे पर्यावरण की बात होती है तो कार्बन उत्सर्जन का जिक्र जरूर होता है। मानवीय गतिविधियों के कारण हमारे वायुमंडल में कार्बन डाइऑक्साइड की मात्रा इतनी ज्यादा बढ़ गई है कि पूरी पृथ्वी की ही औसत तापमान बढ़ने लगा है। वैज्ञानिक भविष्यवाणी करने लगे हैं कि पृथ्वी पर इंसान के लिए जीने के हालात विपरीत होते जाएंगे। ताजा शोध में पता चला हैं कि मई में लॉकडाउन में सारी मानवगतिधियां बंद होने के बावजूद कार्बनडाइआक्‍साइड के उत्‍सर्जन में कमी नहीं आई हैं। मालूम हो कि कार्बन डाइआक्साइड, एक रंगहीन तथा गन्धहीन गैस है जो पृथ्वी पर जीवन के लिये अत्यावश्यक है। धरती पर यह प्राकृतिक रूप से पायी जाती है। धरती के वायुमण्डल में यह गैस आयतन के हिसाब से लगभग 0.03 प्रतिशत होती है। कार्बन डाइआक्साइड का निर्माण आक्सीजन के दो परमाणु तथा कार्बन के एक परमाणु से मिलकर हुआ है।

लॉकडाउन में भी क्यों नहीं हुई गिरावट

लॉकडाउन में भी क्यों नहीं हुई गिरावट

यह एक आश्चर्य के रूप में आ सकता है क्योंकि यह धारणा है कि कोरोनवायरस वायरस की वजह से मानव और औद्योगिक गतिविधि कम हो गई है, हवा को स्वच्छ बना रही है और ग्रीनहाउस गैसों के उत्सर्जन को कम कर रही है। वैज्ञानिकों ने हालांकि इस दर्ज की गई स्पाइक को पेड़ और पौधों की मौसमी गतिविधि के लिए जिम्मेदार ठहराया है। "वर्ष का उच्चतम मासिक औसत CO2 मूल्य मई में होता है, इससे पहले कि पौधे उत्तरी गोलार्ध के बढ़ते मौसम के दौरान वातावरण से बड़ी मात्रा में CO2 को निकालना शुरू कर दें। शोध कहते हैं उत्तरी गिरावट, सर्दियों और शुरुआती वसंत में, पौधे और मिट्टी CO2 को बंद कर देते हैं, जिससे मई के दौरान स्तर बढ़ जाता है।

क्यों इसे गंभीरता से लेना चाहिए

क्यों इसे गंभीरता से लेना चाहिए

शोधकर्ताओं का कहना है कि आज जो कार्बन डाइऑक्साइड के स्तर हैं वे मानवीय गतिविधियों के कारण हैं इस तरह के उतार चढ़ाव इससे पहले पृथ्वी के इतिहास में कभी नहीं हुए। अमेरिका के लेफायेट स्थित लोउइसियाना यूनिवर्सिटी के एक टीम ने नई कार्बन मापन तकनीक का प्रयोग कर वायुमंजल में कार्बन डाइऑक्साइड की मात्रा में बदलाव का अध्ययन किया है। शोधकर्ताओं का कहना है कि अध्ययन से साफ संदेश मिल रहा है कि आज जो हमारे वायुमंडल में कार्बन डाइऑक्साइड का स्तर है। एक करोड़ साल पहले के स्तर से भी ज्यादा है। लोगों के इसे गंभीरता से लेना चाहिए। उनका कहना है कि नए अध्ययन से पता चला है कि आज का कार्बन डाइऑक्साइड स्तर पिछले 2.3 करोड़ साल में सबसे अधिक है।

की गई थी ये भविष्‍यवाणी

की गई थी ये भविष्‍यवाणी

डेटा को अमेरिका में मौना लोआ वेधशाला में एकत्र किया गया है। एनओएए के ग्लोबल मॉनिटरिंग डिवीजन के वरिष्ठ वैज्ञानिक पीटर टांस कहते हैं, "यह समझने के लिए कि सीओ 2 का सटीक, दीर्घकालिक माप यह समझना महत्वपूर्ण है कि जीवाश्म ईंधन प्रदूषण हमारी जलवायु को कितनी जल्दी बदल रहा है,"। "ये वास्तविक वातावरण के माप हैं। वे किसी भी मॉडल पर निर्भर नहीं हैं, लेकिन वे हमें जलवायु मॉडल अनुमानों को सत्यापित करने में मदद करते हैं, जो कि अगर कुछ भी है, तो जलवायु परिवर्तन की तीव्र गति को कम करके आंका गया है। "स्क्रिप्स ने एक बयान में कहा कि मौना लोआ में माप में वृद्धि की दर को धीमा करने के लिए छह से 12 महीनों के लिए 20% से 30% तक कार्बन डाइऑक्साइड की कमी होगी। पिछले महीने, नेचर क्लाइमेट चेंज नामक पत्रिका में प्रकाशित शोध में भविष्यवाणी की गई थी कि इस साल वैश्विक उत्सर्जन 7% तक गिर सकता है।

मई में दुनिया भर में कार्बन डाइऑक्साइड उत्सर्जन शिखर पर दर्ज किया गया

मई में दुनिया भर में कार्बन डाइऑक्साइड उत्सर्जन शिखर पर दर्ज किया गया

एनओएए के ग्रीनहाउस गैस मॉनिटरिंग लैब के मुख्य वैज्ञानिक पीटर टांस ने एक साक्षात्कार में कहा, "यह सीओ 2 की वृद्धि की दर को थोड़ा कम करेगा, लेकिन यह अभी भी बढ़ रहा है।" "इसलिए 10 प्रतिशत परिवर्तन यह हमारे लिए मापना भी कठिन है।" मई दुनिया के कार्बन डाइऑक्साइड उत्सर्जन के लिए वार्षिक शिखर है, जो कई मिलियन वर्षों में वातावरण द्वारा अनुभव नहीं किए गए स्तरों पर हैं। बता दें मौना लोआ में कार्बन डाइऑक्साइड सांद्रता को एक ग्राफ में प्रलेखित किया गया है, जिसे कीलिंग कर्व के रूप में जाना जाता है, जिसका नाम चार्ल्स कीलिंग है, जिन्होंने 1958 में वहां माप शुरू किया था।

फरवरी में किया गया था ये अध्‍यन

फरवरी में प्रकाशित एक अध्ययन के अनुसार, पिछली बार वायुमंडलीय सीओ 2 की मात्रा इस बार Three मिलियन से अधिक थी। उस समय, पूर्व-औद्योगिक युग के दौरान वैश्विक सतह का तापमान 2 °-3°C(3.6°-5.4°F) जितना अधिक था। समुद्र का स्तर भी उस समय की तुलना में 15-25 मीटर (50-80 फीट) जितना अधिक था, जितना वे आज हैं। वातावरण में CO2 का स्तर 2014 में 400ppm से ऊपर हो गया और तब से उस निशान से ऊपर बना हुआ है।

22222

प्रदूषण के कारण वर्षों से सिसक रही यमुना नदी लॉकडाउन में हुई स्‍वच्‍छ,जानें कितने फीसदी कम हुआ प्रदूषण

Nisarga Severe Cyclonic Storm Visual From Mumbai

देश-दुनिया की ताज़ा ख़बरों से अपडेट रहने के लिए Oneindia Hindi के फेसबुक पेज को लाइक करें
English summary
Worldwide CO2 levels in atmosphere hit new highs in May despite lockdowns
For Daily Alerts
तुरंत पाएं न्यूज अपडेट
Enable
x
Notification Settings X
Time Settings
Done
Clear Notification X
Do you want to clear all the notifications from your inbox?
Settings X
X