• search
क्विक अलर्ट के लिए
नोटिफिकेशन ऑन करें  
For Daily Alerts

WHO ने कहा- चीन को कोरोना पर ज्यादा जानकारी देने के लिए नहीं कर सकते मजबूर, उठे सवाल

|

जेनेवा, जून 08: वर्ल्ड हेल्थ ऑर्गेनाइजेशन यानि डब्ल्यूएचओ के एक वरिष्ठ अधिकारी ने कोरोना वायरस को लेकर कहा कि वो चीन को और ज्यादा जानकारी देने के मजबूर नहीं कर सकते हैं। जबकि पिछले एक महीने में चीन के खिलाफ इतने सबूत मिले हैं, जिससे कोई भी अपनी आंखे नहीं चुरा सकता है। दो दिन पहले ही ऑस्ट्रेलियन अखबार ने सबूतों के साथ खुलासा किया है कि डब्ल्यूएचओ ने जब तक कोरोना वायरस संक्रमण को महामारी घोषित भी नहीं किया था, तभी चीन की मिलिट्री ने कोरोना वायरस वैक्सीन का पेटेंट हासिल करने के लिए कागजी कार्रवाई शुरू कर दी थी, लिहाजा डब्ल्यूएचओ पर कई सवाल उठने शुरू हो गये हैं।

चीन को नहीं कर सकते मजबूर

चीन को नहीं कर सकते मजबूर

सोमवार को डब्ल्यूएचओ के एक बड़े अधिकारी ने कहा है कि डब्ल्यूएचओ किसी भी तरह से चीन को कोरोना वायरस पर और ज्यादा जानकारी देने के लिए मजबूर नहीं कर सकता है। अलजजीरा के मुताबिक, डब्ल्यूएचओ के इमरजेंसी प्रोग्राम के डायरेक्टर माइक रयान ने एक प्रेस कॉन्फ्रेंस के दौरान कहा कि 'डब्ल्यूएचओ के पास इतनी शक्ति नहीं है कि वो किसी को भी इस बाबत और जानकारियां देने के लिए मजबूर कर सके।' हालांकि, माइक रयान ने आगे ये भी कहा कि 'हम इस बात की उम्मीद करते हैं कि डब्ल्यूएचओ के सदस्य देश हमें पूरी मदद देंगे। हम अपने सदस्य देशों से पूरी सहयोग की उम्मीद रखते हैं कि वो हमें और जानकारी उपलब्ध कराएंगे'

वायरस पर और स्टडी की जरूरत

वायरस पर और स्टडी की जरूरत

डब्ल्यूएचओ के इमरजेंसी डिपार्टमेंट के डायरेक्टर माइक रयान ने प्रेस कॉन्फ्रेंस के दौरान कहा कि 'कोरोना वायरस का नेक्स्ट लेवल कहां से आया है, इसकी भी स्टडी करना बेहद जरूरी है'। अलजजीरा की रिपोर्ट के मुताबिक, माइक रयान ने कहा कि 'हमें इस बात की स्टडी करनी पड़ेगी कि आखिर कोरोना वायरस कहां से आया है। कोरोना को लेकर कई थ्योरी हैं कि ये वायरस चमगादड़ों से इंसानों में फैला है, किसी जानवर से इंसानों में फैला है, या फिर चीन की प्रयोगशाला में वायरस का जन्म हुआ है, हमें इसके लिए स्टडी करने की जरूरत है।' आपको बता दें कि चीन के वुहान लैब से ही कोरोना वायरस निकला है, पिछले एक महीने में विश्व के दर्जनों वैज्ञानिक कह चुके हैं और डब्ल्यूएचओ से निष्पक्ष जांच की मांग कर चुके हैं। अमेरिका ने भी जांच की मांग की है, लेकिन चीन ने किसी भी तरह की जांच में हिस्सा लेने से इनकार कर दिया है।

वुहान लैब थ्योरी क्या है ?

वुहान लैब थ्योरी क्या है ?

विश्व के कई प्रख्यात वैज्ञानिकों ने कहा है कि जिस तरह से कोरोना वायरस लगातार खुद को म्यूटेट कर रहा है, वो काफी संदिग्ध है। वुहान लैब थ्योरी के मुताबिक वैज्ञानिकों ने कहा कि 'ऐसा लग रहा है कि वुहान लैब से किसी गलती की वजह से या जान-बूझकर ही कोरोना वायरस बाहर आया है और फिर इंसानों में फैलना शुरू हुआ है।' हालांकि, चीन इस बात से इनकार कर चुका है कि कोरोना वायरस प्रयोगशाला में बनाया गया वायरस है। वहीं, डब्ल्यूएचओ टीम के जो सदस्य इस साल चीन के वुहान शहर जांच करने के लिए गये थे, उन्होंने कहा था कि उन्हें जांच के दौरान कई तरह की जानकारियां उपलब्ध नहीं करवाई गई। अलजजीरा के मुताबिक चीन की तरफ से वैज्ञानिकों को ये भी नहीं बताया गया कि शुरूआत में कौन-कौन बीमार पड़ा था, इसके साथ ही चीन की पारदर्शिता पर भी सवाल उठे थे।

चीन की लैब में बंदरों पर खतरनाक प्रयोग, जीन्स बदलकर बनाए हजारों बंदर, जिनपिंग की सेना की निगरानीचीन की लैब में बंदरों पर खतरनाक प्रयोग, जीन्स बदलकर बनाए हजारों बंदर, जिनपिंग की सेना की निगरानी

English summary
The WHO has said about the origin of the corona virus that we cannot force China to give more information.
देश-दुनिया की ताज़ा ख़बरों से अपडेट रहने के लिए Oneindia Hindi के फेसबुक पेज को लाइक करें
For Daily Alerts
तुरंत पाएं न्यूज अपडेट
Enable
x
Notification Settings X
Time Settings
Done
Clear Notification X
Do you want to clear all the notifications from your inbox?
Settings X
X