• search
क्विक अलर्ट के लिए
नोटिफिकेशन ऑन करें  
For Daily Alerts

Video: 3, 280 फीट की ऊंचाई पर था ईरान का पैसेंजर जेट, अचानक सामने आया अमेरिका का फाइटर जेट F-15

|

तेहरान। ईरान के एयर स्‍पेस में गुरुवार को एक बहुत बड़ा हादसा होने से बच गया है। अगर पैसेंजर जेट के पायलट ने सूझ-बूझ न दिखाई होती, एयरक्राफ्ट में बैठे सैंकड़ों यात्री अमेरिका के फाइटर जेट एफ-15 का निशाना बन जाते। ईरान की महान एयर की फ्लाइट और अमेरिकी एयरफोर्स का एफ-15 फाइटर जेट आसमान में आमने-सामने आ गए थे। ईरान मीडिया के मुताबिक इस हादसे में कई यात्रियों को चोट आई है क्‍योंकि महान एयर के पायलट ने तेजी से मोड़ा ताकि वह एफ-15 से टकरा न जाए। हालांकि यूएस मिलिट्री का कहना है कि उसका जेट एक सुरक्षित दूरी पर था।

यह भी पढ़ें-स्‍पीकर ने कोरोना वायरस को बताया- Trump Virus

    US fighter jet ने ईरान के पैसेंजर प्‍लेन को घेरा, दहशत में आए यात्री | वनइंडिया हिंदी
    पायलट ने अचानक मोड़ा प्‍लेन

    पायलट ने अचानक मोड़ा प्‍लेन

    महान एयर की यह फ्लाइट तेहरान से बेरुत जा रही थी। शुरुआत में खबरें आई थीं कि फाइटर जेट इजरायल का है। यह प्‍लेन सीरिया के ऊपर था कि अचानक एफ-15 इसके ठीक करीब आ गया। ईरान की आधिकारिक न्‍यूज एजेंसी इरिब के मुताबिक एक यात्री ने बताया कि तेजी से प्‍लेन के मुड़ने और ऊंचाई में परिवर्तन की वजह से उनका सिर अचानक छत से टकरा गया। उन्‍हें चोट लग गई। इसके अलावा एक वीडियो भी आया है जिसमें नजर आ रहा है कि एक वृद्ध यात्री अचानक प्‍लेन की फर्श पर खिसकने लगाता है। अमेरिका और ईरान के बाद साल 2018 से ही तनाव बरकरार है।

    कुछ यात्रियों को आई चोट

    अमेरिकी राष्‍ट्रपति डोनाल्‍ड ट्रंप ने साल 2015 में हुई परमाणु डील को खत्‍म कर दिया था। इसके अलावा ईरान की अर्थव्‍यवस्‍था को नुकसान पहुंचाने के मकसद से कई तरह के कड़े प्रतिबंध भी लगाए गए। बेरूत एयरपोर्ट के मुखिया की तरफ से न्‍यूज एजेंसी रॉयटर्स को बताया है कि कुछ यात्रियों को हल्‍की चोट आई है। फारस न्‍यूज एजेंसी के मुताबिक यह जेट शुक्रवार तड़के ईरान वापस लौट आया है। अमेरिकी मिलिट्री सेंट्रल कमांड की तरफ से कहा गया है कि एफ-15 ईरान के एयरक्राफ्ट का निरीक्षण कर रहा था। यह निरीक्षण उस समय हुआ जब एयरक्राफ्ट सीरिया में टांफ गैरीसन के करीब से गुजरा जहां पर अमेरिकी सेनाएं अभी मौजूद हैं।

    3,280 फीट पर था प्‍लेन

    3,280 फीट पर था प्‍लेन

    सीनियर सेंट्रल कमांडर के प्रवक्‍ता कैप्‍टन बिल अर्बन ने कहा कि महान एयरलाइंस का जेट करीब 3,280 फीट की ऊंचाई पर था जब एफ-15 ने इसका निरीक्षण किया। उन्‍होंने बताया कि टांफ गैरीसन पर मौजूद सैनिकों की सुरक्षा सुनिश्चित करने के लिए ऐसा किया गया था। एक बार जब एफ-15 के पायलट को पता लग गया कि यह एक पैसेंजर जेट है, तो एक सुरक्षित दूरी पर से जेट वापस लौट आया। उन्‍होंने बताया कि इंटरसेप्‍ट की प्रक्रिया अंतरराष्‍ट्रीय मानकों के अनुरूप थी।

    साल 2011 में अमेरिका ने लगाया था प्रतिबंध

    साल 2011 में अमेरिका ने लगाया था प्रतिबंध

    ईरान के विदेश मंत्रालय के प्रवक्‍ता अब्‍बास मुसावी ने कहा है कि अब इस पूरी घटना की जांच होगी। जरूरत पड़ने पर हर प्रकार के कानूनी और राजनीतिक एक्‍शन लिए जाएंगे। इजरायल और अमेरिका ने महान एयरलाइंस पर कई बार सीरिया में आतंकियों को हथियार पहुंचाने का आरोप लगाया है। अमेरिका ने साल 2011 में महान एयर पर प्रतिबंध लगा दिए थे। उस समय अमेरिका ने कहा था कि महान एयर की तरफ रेवोल्‍यूशनरी गार्ड्स को आर्थिक और दूसरी मदद मुहैया कराई जाती है।

    देश-दुनिया की ताज़ा ख़बरों से अपडेट रहने के लिए Oneindia Hindi के फेसबुक पेज को लाइक करें
    English summary
    US fighter jet F-15 comes close to a passenger jet in Iran.
    For Daily Alerts
    तुरंत पाएं न्यूज अपडेट
    Enable
    x
    Notification Settings X
    Time Settings
    Done
    Clear Notification X
    Do you want to clear all the notifications from your inbox?
    Settings X
    X