• search
क्विक अलर्ट के लिए
नोटिफिकेशन ऑन करें  
For Daily Alerts

Video: भारतीय राजनयिक ने कहा-कश्‍मीर पंडितों को बसाना है तो अपनाना होगा इजरायली मॉडल

|

न्‍यूयॉर्क। अमेरिका के न्‍यूयॉर्क में भारत के कांसुलेट जनरल संदीप चक्रवर्ती के एक बयान ने विवाद खड़ा कर दिया है। संदीप ने जम्‍मू कश्‍मीर में कश्‍मीरी पंडितों को बसाने के लिए इजरायल मॉडल को फॉलो करने की बात कही थी। संदीप की मानें तो 90 के दशक में जो कश्‍मीरी पंडित घाटी को छोड़कर गए थे उन्‍हें इजरायली मॉडल को अपनाकर वापस बसाया जा सकता है। संदीप का वीडियो सोशल मीडिया पर वायरल हो रहा है। हालांकि विवाद बढ़ता देख संदीप ने अपने बचाव में भी ट्वीट किया और उन्‍होंने कहा कि उनके बयान को गलत तरीके से पेश किया गया है।

तो जल्‍द होगी कश्‍मीरी पंडितों की वापसी

तो जल्‍द होगी कश्‍मीरी पंडितों की वापसी

संदीप एक निजी कार्यक्रम में थे जहां पर उन्‍होंने यह टिप्‍पणी की। संदीप ने कहा कि कश्‍मीरी पंडित घाटी में जल्‍द वापस लौट सकते हैं क्‍योंकि 'अगर इजरायली लोग ऐसा कर सकते हैं तो फिर हम भी ऐसा कर सकते हैं।' न्‍यूयॉर्क में हुए इस कार्यक्रम में कश्‍मीरी पंडित समुदाय के कुछ लोग भी मौजूद थे जिसमें बॉलीवुड एक्‍टर अनुपम खेर भी हैं। संदीप ने यह बात उस समय कही जब वह आर्टिकल 370 के हटने के बारे में बोल रहे थे। संदीप के शब्‍दों में, 'मुझे लगता है कि जम्‍मू और कश्‍मीर में सुरक्षा हालात बेहतर होंगे। यह हालात शरणार्थियों को वापस लौटने देंगे और आप अपने इसी जीवन में वापस लौट सकेंगे। आपको अपने घर वापस मिलेंगे और आपको सुरक्षा दी जाएगी। क्‍योंकि हमारे पास पहले से ही दुनिया में इस तरह का एक मॉडल मौजूद है।'

इजरायल की कॉलोनियों की तरफ इशारा

इजरायल की कॉलोनियों की तरफ इशारा

माना जा रहा है कि संदीप का इशारा इजरायली सेटेलमेंट मॉडल की तरफ था। संदीप ने आगे कहा, 'मुझे नहीं मालूम क्‍यों हम उसे नहीं अपना रहे हें। यह मीडिल ईस्‍ट में हो चुका है अगर आप देखें तो।अगर इजरायली ऐसा कर सकते हैं तो हम भी ऐसा कर सकते हैं।' संदीप के वीडियो को रिकॉर्ड करके सोशल मीडिया पर अपलोड किया गया। इजरायल ने सन् 1967 में ईस्‍ट जेरूशलम और वेस्‍ट बैंक पर कब्‍जे के बाद यहां पर 140 कॉलोनियां बनाई थी। इन कॉलोनियों को अंतरराष्‍ट्रीय कानूनों के तहत गैर-कानूनी माना जाता है। मगर पिछले दिनों अमेरिका ने कहा है कि उसे नहीं लगता यह कॉलोनियां गैर-कानूनी हैं या फिर अंतरराष्‍ट्रीय कानूनों के विपरीत हैं।

कश्‍मीरी संस्‍कृति को बचाना होगा

अपनी टिप्‍पणी में संदीप चक्रवर्ती यह भी कहते हुए सुने जा सकते हैं कि लोग हमेशा से कश्‍मीरी संस्‍कृति के बारे में बात करते आए हैं। इजरायल और यहूदी मुद्दे पर जब एक मेहमान ने कुछ कहा तो संदीप ने जवाब दिया, 'उन्‍होंने अपनी संस्‍कृति को 2000 साल से बाहर जिंदा रखा और अब वह उसे वापस चाहते हैं। मुझे लगता है कि हमें कश्‍मीरी संस्‍कृति को जिंदा रखना होगा।' संदीप के मुताबिक कश्‍मीरी संस्‍कृति भारतीस संस्‍कृति का हिस्‍सा है और यह हिंदू संस्‍कृति से भी जुड़ी है।

कश्‍मीर के बिना भारत अधूरा

कश्‍मीर के बिना भारत अधूरा

संदीप ने यह भी कहा कि कोई भी कश्‍मीर के बिना भारत की कल्‍पना नहीं कर सकता है। संदीप को भरोसा है कि इसी जीवन में भारत को उसकी जमीन वापस मिलेगी। संदीप की मानें तो कश्‍मीर और इजरायल को लेकर किए गए उनके जिक्र को गलत तरह से समझा गया है। पांच अगस्‍त को भारत ने जम्‍मू कश्‍मीर से आर्टिकल 370 हटा दिया है और इसे दिया गया विशेष दर्जा भी खत्‍म कर दिया है। इसके अलावा जम्‍मू कश्‍मीर और लद्दाख को दो अलग-अलग केंद्र शासित प्रदेशों में बांट दिया गया है।

देश-दुनिया की ताज़ा ख़बरों से अपडेट रहने के लिए Oneindia Hindi के फेसबुक पेज को लाइक करें
English summary
Video: Indian diplomat Sandeep Chakrovorty has sparked a controversy by saying that Kashmir needs Israel-like solution.
For Daily Alerts
तुरंत पाएं न्यूज अपडेट
Enable
x
Notification Settings X
Time Settings
Done
Clear Notification X
Do you want to clear all the notifications from your inbox?
Settings X
X