• search
क्विक अलर्ट के लिए
नोटिफिकेशन ऑन करें  
For Daily Alerts

राष्ट्रपति चुनाव के नतीजे पसंद नहीं आए तो क्या करेंगे ज्यादातर अमेरिकी- सर्वे

|

नई दिल्ली- अमेरिकी राष्ट्रपति चुनाव आखिरी हफ्ते में प्रवेश कर चुका है। इसलिए ज्यादातर अमेरिकियों ने खुद को इस बात के लिए तैयार कर लिया है कि नतीजे चाहे किसी के पक्ष में भी आएं वह उसे स्वीकार करेंगे। न्यूज एजेंसी रियूटर्स/आईपीएसओएस ने यह दावा 13 से 20 अक्टूबर के बीच किए गए सर्वे के आधार पर किया है। इसके मुताबिक 79 फीसदी अमेरिकी जिनमें 59 फीसदी वैसे लोग भी जो डोनाल्ड ट्रंप दोबारा से राष्ट्रपति हैं जो चाहते हैं, डेमोक्रैट जो बाइडेन की जीत को स्वीकार करने के लिए तैयार हैं। हालांकि, वह बाइडेन का समर्थन नहीं कर रहे। अमेरिका के पॉलिटिकल साइंटिस्ट इस सर्वे से राहत महसूस कर रहे हैं।

US Elections:What would most Americans do if they didnt like the presidential election results-survey

वैसे रिपब्लिकन डोनाल्ड उम्मीदवार ट्रंप के वैसे समर्थक जो बाइडेन की जीत को स्वीकार करने के लिए तैयार नहीं हैं, उनमे से 16 फीसदी का कहना है कि वह डेमोक्रैट उम्मीदवार की जीत को सार्वजनिक प्रदर्शन जैसा कुछ करके चुनौती देंगे। सर्वे से यह भी पता चलता है कि 73 फीसदी अमेरिकी (57 फीसदी बाइडेन समर्थक समेत) उसी तरह से ट्रंप की जीत को स्वीकार करने के लिए तैयार हैं। जो लोग ट्रंप की जीत को स्वीकार करने के लिए तैयार नहीं हैं, उनमें से भी 22 फीसदी का कहना है कि वो परिणाम को चुनौती देने के लिए कार्रवाई करेंगे।

दरअसल, इस साल अमेरिकी अधिकारी चुनाव परिणामों के बारे में जनता के भरोसे को लेकर काफी चिंतित हैं। वहां के बड़े सुरक्षा अधिकारियों ने पिछले हफ्ते चेतावनी दी थी कि रूस और ईरान अमेरिकी वोटिंग सिस्टम को हैक कर रहे हैं, ताकि चुनाव पर सवाल उठा सकें। खुद अमेरिकी राष्ट्रपति भी इस बार के चुनाव में अपने खिलाफ धांधली होने का शक कई बार जाहिर कर चुके हैं, हालांकि उन्होंने कोई ठोस सबूत नहीं दिए हैं। उनका सिर्फ ये कहना है कि मेल के जरिए बोटिंग बढ़ने से इसबार चुनावी धांधली होने की आशंका बढ़ गई है। वह यह तक धमकी दे चुके हैं कि अगर चुनावों में वह हार भी गए तो आसानी से सत्ता हाथों से जाने नहीं दंगे। लेकिन, इस सर्वे ने बता दिया है कि अधिकतर अमेरिकी हर हाल में परिणाम स्वीकार करने के लिए तैयार हैं, चाहे नतीजे किसी के पक्ष में या खिलाफ आए।

इस सर्वे पर प्रत्रिक्रिया देते हुए कोलंबिया यूनिवर्सिटी के पॉलिटिकल साइंटिस्ट डोनाल्ड ग्रीन ने कहा है कि चुनाव के बाद हिंसा की उनकी आशंका अब कम हो गई है। हालांकि, उन्होंने अभी भी चेतावनी दी है कि अगर हार-जीत का अंतर कम रहा और किसी उम्मीदवार ने धांधली के आरोप लगा दिए तो बड़े पैमाने पर विरोध शुरू हो सकते हैं।

पोल की मानें जो फिलहाल बाइडेन ट्रंप पर 8 फीसदी की बढ़त बना चुके हैं। 51 फीसदी संभावित वोटरों ने बाइडेन और 43 फीसदी ने राष्ट्रपति ट्रंप के लिए वोट करने की बात कही है। इस सर्वे के मुताबिक पेन्सिलवेनिया, फ्लोरिडा, अरीजोना और नॉर्थ कैरोलिना में दोनों उम्मीदवारों में कांटे की टक्कर नजर आ रही है। इस सर्वे में 2,649 अमेरिकियों ने ऑनलाइन हिस्सा लिया, जिनमें से 1,039 ट्रंप के साथ और 1,153 बाइडेन के समर्थन में दिखे।

इसे भी पढ़ें- 'अमेरिकी मदद का पाकिस्तान करता था आतंवाद के लिए इस्तेमाल'

देश-दुनिया की ताज़ा ख़बरों से अपडेट रहने के लिए Oneindia Hindi के फेसबुक पेज को लाइक करें
English summary
US Elections:What would most Americans do if they didn't like the presidential election results-survey
For Daily Alerts
तुरंत पाएं न्यूज अपडेट
Enable
x
Notification Settings X
Time Settings
Done
Clear Notification X
Do you want to clear all the notifications from your inbox?
Settings X
X