• search
क्विक अलर्ट के लिए
अभी सब्सक्राइव करें  
क्विक अलर्ट के लिए
नोटिफिकेशन ऑन करें  
For Daily Alerts

अमेरिका के कई सांसदों ने लिखी मॉडर्ना और फाइजर को चिट्ठी, कोरोना संकट में भारत को करें वैक्सीन सप्लाई

|
Google Oneindia News

वॉशिंगटन, अप्रैल 29: ना-नुकुर के बाद अमेरिका ने भारत की मदद करनी शुरू कर दी है और खुद अमेरिका के राष्ट्रपति जो बाइडेन ने भारतीय प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी से बात कर हर संभव मदद करने की बात कही है। वहीं, अमेरिका ने भारत में वैक्सीन बनाने के लिए रॉ मैटेरियल की सप्लाई करने लपर लगाई गई बैन को हटा लिया है, लेकिन अब अमेरिका के अंदर मांग की जा रही है कि वैक्सीन बनाने वाली कंपनियां इस मुश्किल वक्त में भारत की मदद करें। अमेरिका के कई सांसदों ने वैक्सीन बनाने वाली कंपनियों को चिट्ठी लिखकर भारत की मदद करने के लिए कहा है।

भारत के लिए मदद की मांग

भारत के लिए मदद की मांग

कोरोना वायरस से भारत बुरी तरह से जूझ रहा है और हर दिन 3 लाख से ज्यादा केस और 3 हजार से ज्यादा लोग इस वायरस की वजह से जान गंवा रहे हैं। ऐसे में अमेरिका समेत विश्व के 20 से ज्यादा देश भारत की मदद कर रहे हैं। इसी बीच अमेरिका के सीनेटर ने वैक्सीन बनाने वाली अमेरिकन कंपनियों से कहा है कि वो भारत की जल्द से जल्द मदद करना शुरू करें। अमेरिका की सीनेटर एलिजाबेथ वारेन ने वैक्सीन बनाने वाली अमेरिकन कंपनियां फाइजर, मॉडर्ना और जॉनसन एंड जॉनसन से भारत की मदद करने की अपील की है।

वैक्सीनेशन में हो भारत की मदद

भारत सरकार ने एक मई से 18 साल से ऊपर के सभी लोगों को वैक्सीन लगाने का लक्ष्य रखा है। मगर भारत की सवा सौ करोड़ आबादी को वैक्सीन लगना आसान नहीं है और इसके लिए भारत को काफी ज्यादा वैक्सीन की खुराक चाहिए। जिसको लेकर अमेरिका की सीनेटर एलिजाबेथ वारेन ने वैक्सीन बनाने वाली कंपनियों मॉडर्ना, फाइजर और जॉनसन एंड जॉनसन से भार की मदद करने की अपील की है। एलिजाबेथ वारेन ने ट्विटर पर भारत की मदद करने की मांग करते हुए कहा है कि 'भारत में कोविड-19 संकट के दौरान मानवीय आधार पर मदद की जरूरत है। जिसको लेकर मैंने वैक्सीन बनाने वाकी कंपनियों मॉडर्ना, फाइजर और जॉनसन एंड जॉनसन को चिट्ठी लिखी है, जिसमें मैंने कहा है कि वो भारत में वैक्सीन उपलब्ध कराने के तरीकों पर विचार करें, ताकि भारत में जिंदगियां बचाई जा सके।'

अमेरिकी सांसदों की चिट्ठी

अमेरिकी सांसदों की चिट्ठी

सीनेटर एलिजाबेथ ने अपने कई साथियों के साथ वैक्सीन बनाने वाली कंपनियों को चिट्ठी लिखी है, जिसमें उन्होंने कंपनियों से कहा है कि वो भारत में वैक्सीन पहुंचाने और डिस्ट्रीब्यूट करने का प्लान बताएं। अमेरिकी सांसदों ने चिट्टी में लिखा है कि 'कोविड-19 विश्व में तीस लाख से ज्यादा लोंगों की जान ले चुका है और ये वायरस इस वक्त भारत में लोगों की जिंदगी छीन रहा है। मॉडर्ना, जॉनसन एंड जॉनसन, फाइजर समेत कई कंपनियों ने वैक्सीन बना लिया है, जिसकी खुराक लोगों को दी जा रही है, वैक्सीन की खुराक बड़े पैमाने पर करने से कोरोना वायरस को फैलने से रोकने में कामयाबी मिली है, ऐसे में भारत को भी जल्द से जल्द वैक्सीन दिया जाए ताकि भारत में भी कोरोना वायरस को कंट्रोल किया जाए'

भारत से शेयर हो टेक्नोलॉजी

भारत से शेयर हो टेक्नोलॉजी

अमेरिकी सिनेटर्स ने अपनी चिट्ठी में कहा है कि विश्व में सबसे ज्यादा वैक्सीन का निर्माण करने वाला देश भारत है, लिहाजा भारत की वैक्सीन बनाने वाली कंपनियों से टेक्नोलॉजी को शेयर किया जाए, ताकि भारत जरूरत के हिसाब से ज्यादा संथ्या में वैक्सीन का उत्पादन कर सके। इसके साथ ही उन्होंने कहा इस वक्त अमेरिका को भारत के साथ गोपनीय टेक्नोलॉजी भी शेयर करनी चाहिए ताकि इसका फायदा मेडिकल फिल्ड में भारत उठाकर लोगों की जिंदगी बचा सके।

कोरोना वायरस ने किया मजबूर तो मोदी सरकार ने तोड़ दी 16 साल पुरानी गर्व करने वाली नीतिकोरोना वायरस ने किया मजबूर तो मोदी सरकार ने तोड़ दी 16 साल पुरानी गर्व करने वाली नीति

English summary
US senators have written a letter to Johnson & Johnson, Moderna, Pfizer asking them to help India during the Corona crisis.
देश-दुनिया की ताज़ा ख़बरों से अपडेट रहने के लिए Oneindia Hindi के फेसबुक पेज को लाइक करें
For Daily Alerts
तुरंत पाएं न्यूज अपडेट
Enable
x
Notification Settings X
Time Settings
Done
Clear Notification X
Do you want to clear all the notifications from your inbox?
Settings X
X