• search
क्विक अलर्ट के लिए
अभी सब्सक्राइव करें  
क्विक अलर्ट के लिए
नोटिफिकेशन ऑन करें  
For Daily Alerts

भारत-अमेरिका रक्षामंत्रियों की बैठक, बनेंगे 21वीं सदी के सबसे मजबूत साझेदार, चीन को सीमा में रहने की नसीहत!

|

नई दिल्ली: प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी और भारत के नेशनल सिक्योरिटी एडवाइजर अजित डोवाल से मुलाकात के बाद अमेरिकी रक्षामंत्री लॉयड ऑस्टिन की भारतीय रक्षामंत्री राजनाथ सिंह के साथ द्विपक्षीय बैठक हुई है। जिसमें दोनों देशों ने चीन के खिलाफ ज्वाइंट स्टेटमेंट जारी किया है। इस बैठक के दौरान चीन को अपनी सीमा रेखा में रहने की चेतावनी जारी की गई है।

    India-America के रक्षा मंत्रियों के बीच हुई वार्ता, रक्षा सहयोग बढ़ाने पर सहमति | वनइंडिया हिंदी

    RAJNATH SING LLOYD AUSTIN

    इंडो-पैसिफिक पर स्टेटमेंट

    भारत और अमेरिका के रक्षामंत्रियों की द्विपक्षीय बैठक के बाद दोनों देशों की तरफ से ज्वाइंट स्टेटमेंट जारी किया गया है, जिसमें दोनों देशों ने रणनीतिक और सामरिक साझेदारी को और मजबूत करने का फैसला किया है। बैठक के बाद भारतीय रक्षामंत्री राजनाथ सिंह ने कहा ट्वीट कर कहा कि 'भारत, ऑस्ट्रेलिया, अमेरिका और जापान के राष्ट्राध्यक्षों के बीच हुई क्वाड की बैठक में इंडो पैसिफिक क्षेत्र में फ्री ट्रेड और स्वतंत्रता को बढ़ावा देने का फैसला लिया गया है, जिसे एक बार हमने फिर से दोहराया है।' राजनाथ सिंह ने ट्वीट में कहा कि 'बैठक में भारत और अमेरिका के बीच आपसी तालमेल और सहयोग लेने की बात पर फिर से प्रतिबद्धता दोहराई गई है। दोनों देश इंडो-पैसिफिक में शांति, सुरक्षा और स्वतंत्रता चाहते हैं और दोनों देशों ने इंडो पैसिफिक क्षेत्र की सुरक्षा को आगे बढ़ाने का फैसला लिया है'

    दूसरी चुनौतियों पर बात

    भारतीय रक्षामंत्री राजनाथ सिंह ने अमेरिकी रक्षामंत्री से मुलाकात के बाद कहा कि इंडो पैसिफिक के अलावा हमने दूसरी चुनौतियों पर भी बात की है। हमने दोनों देशों के बीच में तेल, पर्यावरण आपदा और मादक पदार्थों की तस्करी को लेकर भी एक दूसरे के साथ सहयोग बढ़ाने पर बात की है। भारतीय रक्षामंत्री ने कहा कि भारत आपकी रक्षा साझेदारी को और मजबूत करने और आगे बढ़ाने के लिए प्रतिबद्ध है। राजनाथ सिंह ने कहा कि 'हमने दुनिया के प्रति सामूहिक जिम्मेदारी, सहयोग, एक दूसरे की जरूरत और दिनों दिन दुनिया में जटिल होती जा रही परिस्थितियों को लेकर भी बातचीत की है'। बैठक के दौरान दोनों नेताओं ने तय किया है कि दोनों देश 21वीं सदी के सबसे सक्षम और मजबूत साझेदार बनेंगे, ताकि दुनिया में शांति और भाइचारे की स्थापना हो सके।

    अमेरिकी रक्षामंत्री ने पीएम मोदी को दिया राष्ट्रपति बाइडेन का 'गुप्त संदेश', NSA से मुलाकात में भी चीन मुद्दाअमेरिकी रक्षामंत्री ने पीएम मोदी को दिया राष्ट्रपति बाइडेन का 'गुप्त संदेश', NSA से मुलाकात में भी चीन मुद्दा

    English summary
    After the meeting of the Defense Ministers of India and America, a joint statement has been issued by both the countries. In which important talks have been done about the Indo-Pacific region.
    देश-दुनिया की ताज़ा ख़बरों से अपडेट रहने के लिए Oneindia Hindi के फेसबुक पेज को लाइक करें
    For Daily Alerts
    तुरंत पाएं न्यूज अपडेट
    Enable
    x
    Notification Settings X
    Time Settings
    Done
    Clear Notification X
    Do you want to clear all the notifications from your inbox?
    Settings X
    X