• search
क्विक अलर्ट के लिए
नोटिफिकेशन ऑन करें  
For Daily Alerts

ड्रैगन पर ट्रंप का तगड़ा वार, अमेरिका ने रद्द किया 1000 से अधिक चीनी नागरिकों का वीजा

|

नई दिल्ली। चीन औऱ अमेरिका के बीच छि़ड़े ट्रेड वार और वर्ड वार के बीच अब अमेरिकी राष्ट्रपति डोनाल्ड ट्रंप के आदेश के तहत 1000 चीनी नागरिकों का यूएस वीजा रद्द कर दिया गया है। बुधवार को विदेश विभाग के प्रवक्ता ने बयान जारी कर बताया कि 29 मई के राष्ट्रपति पद की घोषणा के तहत 1000 से अधिक चीनी नागरिकों के अमेरिकन वीजा को रद्द कर दिए गए हैं। बताया गया है कि यह कदम सुरक्षा को खतरे के मद्दनेजर उठाया गया है।

    America -China में और तल्ख हुए रिश्ते, US ने 1000 चीनी नागरिकों का वीजा किया रद्द | वनइंडिया हिंदी

    जानिए क्या है वो ऐतिहासिक Israel-UAE Peace Deal जिस पर Nobel के लिए हुआ ट्रंप का नामांकन

    china

    शोध में पता चला है कि कोरोना इलाज में खास कारगर नहीं है प्लाज्मा थेरेपी: आईसीएमआर

     महीनों पुराने प्रस्ताव पर विचार करते हुए यह फैसला लिया गया हैः अमेरिका

    महीनों पुराने प्रस्ताव पर विचार करते हुए यह फैसला लिया गया हैः अमेरिका

    अमेरिकी गृह विभाग के कार्यवाहक मंत्री चेड वोल्ड ने मामले पर कहा कि अमेरिका चीन के खुफिया विभाग अथवा पीपुल्स लिबरेशन आर्मी से संबद्ध चीन के शैक्षणिक संस्थानों से जुड़े स्नातक छात्रों और शोधार्थियों के वीजा रद्द करने के महीनों पुराने प्रस्ताव पर विचार करते हुए यह फैसला लिया है, क्योंकि वो जासूसी या बौद्धिक संपदा की चोरी जैसे खतरा पैदा कर सकते हैं। चेड वोल्फ ने चीन पर अन्यायपूर्ण व्यापार व्यवहार, औद्योगिक जासूसी और कोरोना रिसर्च चुराने का आरोप लगाते हुए कहा कि यह चीन-अमेरिका द्वारा छात्रों को दिए जा रहे वीजा का दुरुपयोग कर रहा है।

    चीनी छात्रों और शोधार्थियों की चीनी सेना के साथ मिलीभगत हैः अमेरिका

    चीनी छात्रों और शोधार्थियों की चीनी सेना के साथ मिलीभगत हैः अमेरिका

    1000 से अधिक चीनी छात्रों के वीजा रद्द करने की कार्रवाई पर अमेरिकी विदेश विभाग की ओर से कहा गया है कि उक्त फैसला राष्ट्रपति ट्रंप की 29 जुलाई की घोषणा के तहत किया गया है, ताकि उन्हें अनुसंधान से जुड़ी जानकारियों को चुराने से रोका जा सके। चीनी छात्रों और शोधार्थियों पर यह आरोप भी लगाया गया है कि उनकी चीनी सेना के साथ मिलीभगत है।

    कोरोना काल में चीन और अमेरिका के रिश्तों में तेजी से तल्खी आई है

    कोरोना काल में चीन और अमेरिका के रिश्तों में तेजी से तल्खी आई है

    कोरोना काल में चीन और अमेरिका के रिश्तों में तेजी से तल्खी आई है। इनमें कोरोना वायरस के साथ साथ हांगकांग में लोगों के अधिकारों के दमन से लेकर शिनजियांग में उइघर मुस्लिम के साथ ज्यादती और तिब्बत में मानवाधिकारों के हनन को शामिल किया जा सकता है। अमेरिकी राष्ट्रपति पूर्वी लद्दाख में एलएसी पर चीनी घुसपैठ को लेकर लगातार भारत के साथ और चीन के खिलाफ मोर्चा संभाले हुए हैं। इसके अलावा दक्षिणी चीन सागर में चीनी रवैये से भी दोनों देशों के रिश्तों में तल्खी बढ़ाई है।

    संयुक्त राज्य अमेरिका में कुछ 3,60,000 चीनी नागरिक अध्ययन करते हैं

    संयुक्त राज्य अमेरिका में कुछ 3,60,000 चीनी नागरिक अध्ययन करते हैं

    गत 8 सितंबर 2020 तक अमेरिकी विदेश विभाग ने PRC नागरिकों के 1,000 से अधिक वीजा निरस्त कर दिए हैं, जो कि राष्ट्रपति की घोषणा 10043 के अधीन पाए गए थे और वो इसलिए वीजा के लिए अयोग्य थे। फिलहाल, संयुक्त राज्य अमेरिका में कुछ 3,60,000 चीनी नागरिक अध्ययन करते हैं, जो निः संदेह अमेरिकी कॉलेजों के लिए महत्वपूर्ण राजस्व लाते हैं। हालांकि COVID-19 महामारी ने अमेरिका में उनकी वापसी को गंभीर रूप से बाधित किया है।

    12 अगस्‍त को रूस से आ रही है पहली कोरोना वायरस वैक्‍सीन, जानिए इसके बारे में सबकुछ

    देश-दुनिया की ताज़ा ख़बरों से अपडेट रहने के लिए Oneindia Hindi के फेसबुक पेज को लाइक करें
    English summary
    The US Visa of 1000 Chinese nationals has been canceled under the orders of US President Trump between Trade War and Word War between China and America. On Wednesday, the State Department spokesman issued a statement saying that as of the May 29 presidential announcement, more than 1000 Chinese nationals have been revoked. It has been said that this step has been taken in view of the security threat.
    For Daily Alerts
    तुरंत पाएं न्यूज अपडेट
    Enable
    x
    Notification Settings X
    Time Settings
    Done
    Clear Notification X
    Do you want to clear all the notifications from your inbox?
    Settings X
    X