• search
क्विक अलर्ट के लिए
अभी सब्सक्राइव करें  
क्विक अलर्ट के लिए
नोटिफिकेशन ऑन करें  
For Daily Alerts

नीदरलैंड्स का डॉक्टर जो धोखे से देता था अपने शुक्राणु

By BBC News हिन्दी

"जब मैं युवा था तब एक डॉक्टर की तस्वीर देखकर मैं कांप गया."

30 साल के नीदरलैंड्स निवासी जोए हूडमैन ने अप्रैल में एक टेलीविजन कार्यक्रम में कहा, "मेरा दिमाग़ चकरा गया था....स्तब्ध था और तकरीबन चक्कर खाकर गिर ही गया था."

दरअसल, हूडमैन ने जो तस्वीर देखी थी वो जेन कारबाट की थी. कारबाट एक डॉक्टर थे, जिनकी कुछ हफ्ते पहले मौत हो गई थी और उन पर गर्भाधान उपचार के दौरान अपने ही शुक्राणु यानी स्पर्म देने का आरोप है.

अब तक 18 लोगों ने डीएनए टेस्ट कराया है और इन टेस्ट के नतीजे उस डॉक्टर की एक संतान के डीएनए से मेल खा गए हैं.

पकड़ा गया शुक्राणु की तस्करी करनेवाला

ड्राई स्पर्म भी काम का साबित हो सकता है

डॉक्टर पर मुक़दमा

कारबाट रोटरडम स्थित एक फ़र्टिलिटी ट्रीटमेंट क्लीनिक के प्रमुख थे 1980 से 2009 के दौरान इस पद पर रहते हुए हज़ारों महिलाएं उपचार के सिलसिले में उनसे मिलीं.

इससे पहले भी 1970 के दशक में वो जिस अस्पताल से जुडे थे वहाँ पर भी उनपर अपने शुक्राणुओं को बदलने का संदेह है.

25 लोगों ने मुक़दमा दायर कर ये स्पष्ट करने को कहा है कि क्या कारबाट ने उपचार अपने शुक्राणुओं से किया न कि दानदाताओं के शुक्राणुओं से.

ज़ुरिड अस्पताल प्रशासन ने भी रविवार को इस बात की पुष्टि की है कि इस मामले में जाँच शुरू कर दी गई है.

कारबाट का 89 साल की उम्र में इसी साल अप्रैल में निधन हो गया था.

मुश्किल ये है कि कारबाट ने अपनी वसीयत में लिखा है कि उनका डीएनए नमूना न लिया जाए.

मु्श्किल होता है शुक्राणु-अंडाणु का मिलन

डॉक्टर ने कबूला था?

डॉक्टर कारबाट से चेहरा-मोहरा और कद-काठी मिलने के बावजूद हूडमैन ने टेलीविजन इंटरव्यू में कहा कि वो पक्के तौर पर नहीं कह सकते कि डॉक्टर कारबाट उनके पिता हैं.

हूडमैन ने कहा, "हो भी सकता है. हमें डीएनए जाँच के नतीजे का इंतज़ार करना होगा. ये बहुत अहम है इसलिए ये मामला कोर्ट में है."

हूडमैन की तरह 36 साल के मोनिएक वासेनार को किसी तरह का शक नहीं है. वासेनर ने मीडिया से बातचीत में कहा कि डॉक्टर ने खुद इस बात को कबूला है.

न्यूयॉर्क टाइम्स के मुताबिक वासेनार जब 2011 में डॉक्टर से मिली थी तो उन्होंने वासेनार से अपना हाथ दिखाने कहा और कहा, "हो सकता है कि वो उनकी बेटियों में से एक हो."

इस महिला ने दावा किया कि डॉक्टर ने इस बात को माना था कि वो मरीज द्वारा चुने गए डोनर के शुक्राणुओं के बजाय अपने शुक्राणुओं का उपयोग करते थे.

वासेनार के मुताबिक डॉक्टर ने कहा कि "वो मानवीयता के लिए अपने शुक्राणुओं का दान कर रहे थे और इस दुनिया में उनके कम से कम 60 बच्चे हैं."

महिला ने कहा कि ये सब कुछ सत्तर से दशक में हुआ और डॉक्टर का कहना था कि महिलाएं ज़्यादा पढ़े-लिखे व्यक्ति का वीर्य चाहती थी.

हालाँकि डीएनए जाँच के लिए कहने पर डॉक्टर ने इससे इनकार कर दिया.

फ़ाइल फोटो
SPL
फ़ाइल फोटो

दूसरे क्लीनिकों को भी सप्लाई

कारबाट ने लीडन यूनिवर्सिटी से मेडिकल की पढ़ाई करने के बाद 1973 में बिड्रॉप डोनेशन क्लीनिक में नौकरी शुरू की. उन्होंने वहाँ अपने शुक्राणुओं को दान किया और हर साल साल बड़ी संख्या में दूसरे डोनर्स भी वहाँ आए.

यहाँ से नीदरलैंड्स के दूसरे क्लीनिक को भी शुक्राणुओं की सप्लाई की जाती थी.

अनियमितताओं की शिकायत के बाद नीदरलैंड्स के स्वास्थ्य मंत्रालय ने 2009 में इस क्लीनिक को बंद करने के आदेश दिए.

ये मामला अब कोर्ट में है और जज 2 जून को इस मामले में फैसला लेंगे.

(बीबीसी हिन्दी के एंड्रॉएड ऐप के लिए यहां क्लिक करें. आप हमें फ़ेसबुक और ट्विटर पर भी फ़ॉलो कर सकते हैं.)

BBC Hindi
देश-दुनिया की ताज़ा ख़बरों से अपडेट रहने के लिए Oneindia Hindi के फेसबुक पेज को लाइक करें
English summary
this doctor of netherland use to give his sperm by cheating
तुरंत पाएं न्यूज अपडेट
Enable
x
Notification Settings X
Time Settings
Done
Clear Notification X
Do you want to clear all the notifications from your inbox?
Settings X
X