• search
क्विक अलर्ट के लिए
अभी सब्सक्राइव करें  
क्विक अलर्ट के लिए
नोटिफिकेशन ऑन करें  
For Daily Alerts

13 साल में 274 शूटिंग, बाइडेन, ओबामा, क्लिंटन...बंदूक लॉबी के सामने घुटने पर सबसे ताकतवर राष्ट्रपति

|
Google Oneindia News

वॉशिंगटन, मई 25: अमेरिका के टेक्सास शहर में भीषण फायरिंग ने अमेरिका के साथ साथ पूरी दुनिया को दहला कर रख दिया है और अब अमेरिका भी सोचने पर मजबूर है, कि आखिर गन कल्चर को खत्म क्यों नहीं किया जा रहा है। राष्ट्रपति जो बाइडेन ने आज कबूल किया है, कि अमेरिकी सरकारें गन लॉबी के सामने मजबूर रही हैं, उपराष्ट्रपति कमला हैरिस ने माना है, कि कार्रवाई करने के लिए हमारे पास जिगर होना चाहिए। लेकिन, सवाल ये है, कि अगर राष्ट्रपति और उप-राष्ट्रपति को पता है, कि गन लॉबी खतरनाक हो चुकी है, तो फिर कार्रवाई क्यों नहीं की जा रही है?

मास शूटिंग से कांपता अमेरिका

मास शूटिंग से कांपता अमेरिका

पिछले कुछ वर्षों में अमेरिकी स्कूलों और कॉलेजों में दर्जनों गोलीबारी और चाकूबाजी जैसे हमले हुए हैं, लेकिन 1999 में कोलोराडो के कोलंबिन हाई स्कूल में हुए नरसंहार से लेकर अभी तक ये शूटिंग का सिलसिला चल ही रहा है। साल 1999 में पहली बार किसी स्कूल में नरसंहार किया गया था और उसके बाद से मरने वालों का आंकड़ा बढ़ता ही गया है। पिछले 2 हफ्तों में टेक्सास में ही खतरनाक मास शूटिंग की घटनाएं हुई हैं। पहली घटना में एक शख्स ने एक मॉल में गोलाबारी की थी, जिसमें 13 लोगों की मौत हुई थी और अब स्कूल में हुई गोलीबारी में 19 बच्चों और 2 टीचर्स की मौत हुई है। आईये जानते हैं, इससे पहले कब तक स्कूलों में हुई गोलीबारी से दहला है अमेरिका।

अमेरिकी स्कूलों में बड़े शूटिंग

अमेरिकी स्कूलों में बड़े शूटिंग

रॉब प्राथमिक विद्यालय, मई 2022
टेक्सास के उवाल्डे में एक प्राथमिक स्कूल में मंगलवार को एक 18 वर्षीय बंदूकधारी ने गोली चला दी, जिसमें 19 बच्चे और दो वयस्क मारे गए हैं। 18 वर्षीय हमलावर को भी मार गिराया गया है।

सांता फे हाई स्कूल, मई 2018

इससे पहले ह्यूस्टन में एक सिरफिरे छात्र ने, जिसकी उम्र सिर्फ 17 साल थी, उसमें सांता फे हाई स्कूल में घुसकर भीषण गोलीबारी की थी, जिसमें 10 लोगों की मौत हो गई थी, जिनमें ज्यादातर छात्र ही थे। बाद में आरोपी छात्र को गिरफ्तार किया गया था और उसपर नरसंहार कामुकदमा चलाया गया।

मार्जोरी स्टोनमैन डगलस हाई स्कूल, फरवरी 2018

वहीं, साल 2018 के फरवरी महीने में मार्जोरी स्टोनमैन डगलस हाई स्कूल में भी भीषण गोलीबारी की गई थी, जिसमें 14 स्कूली छात्र समेत 3 स्कूल स्टाफ की मौत हो गई थी। वहीं, हमले में कई लोग घायल भी हुए थे। उस नरसंहार का आरोप 20 साल के एक छात्र पर लगा था।

UMPQUA कम्युनिटी कॉलेज, अक्टूबर 2015

ओरेगन के रोजबर्ग में एक व्यक्ति ने स्कूल में घुसकर नौ लोगों की हत्या कर दी और नौ अन्य को घायल कर दिया। बाद में आरोपी शख्स ने खुद को भी गोली मार लिया था।

सैंडी हुक प्राथमिक विद्यालय, दिसंबर 2012

एक 19 वर्षीय व्यक्ति ने कनेक्टिकट के न्यूटाउन में अपने घर पर अपनी मां की हत्या कर दी, फिर पास के सैंडी हुक एलीमेंट्री स्कूल में गया और 20 प्रथम ग्रेडर और छह शिक्षकों को मौत के घाट उतारने के बाद खुद को भी गोली मारकर आत्महत्या कर ली थी।

वर्जीनिया टेक, अप्रैल 2007

अप्रैल 2007 में एक 23 वर्षीय छात्र ने वर्जीनिया के ब्लैक्सबर्ग में परिसर में 32 लोगों की हत्या कर दी थी। वहीं, मास शूटिंग में दो दर्जन से अधिक लोग घायल हो गए। इसके बाद बंदूकधारी ने खुद को भी गोली मार ली थी।

रेड लेक हाई स्कूल, मार्च 2005

साल 2005 में एक 16 वर्षीय छात्र ने अपने मिनेसोटा घर पर अपने दादा और उनके दोस्त की गोली मारकर हत्या कर दी थी और फिर वो पास ही स्थिति रेड लेक हाई स्कूल में घुस गया था, जहां उसने ताबड़तोड़ गोलियों की बरसात कर दी। गोलीबारी में 5 छात्र, एक शिक्षक और एक सुरक्षा गार्ड की मौत हो गई थी। बाद में आरोपी ने खुद को भी गोली मारकर आत्महत्या कर ली थी।

कोलंबिन हाई स्कूल, अप्रैल 1999

साल 1999 में कोलोराडो के लिटलटन स्कूल में दो छात्र घुसते हैं और फिर अपने 12 दोस्तों की गोली मारकर हत्या कर देते हैं। वहीं, दोनों छात्रों एक शिक्षक की भी गोली मारकर मौत के घाट उतार देते हैं। खौफनाक घटना को अंजाम देने के बाद दोनों छात्रों ने आत्महत्या कर ली थी।

हमें कार्रवाई करनी ही होगी- बाइडेन

हमें कार्रवाई करनी ही होगी- बाइडेन

टेक्सास स्कूल में 21 जानें चलीं गईं और अमेरिका के राष्ट्रपति जो बाइडेन 'गन लॉबी' का गीत गा रहे हैं। अमेरिका के पहले के राष्ट्रपति भी गन लॉबी का गीत गाते रहे हैं, आगे हम बताएंगे आपको, कि कौन से राष्ट्रपति ने क्या कहा था, लेकिन मौजूदा राष्ट्रपति ने स्कूल में 19 बच्चों और दो टीचर्स के मारे जाने के बाद कहा है, कि हमें कार्रवाई करनी ही होगी। लेकिन, कब, इसका जवाब उनके पास नहीं था। करीब एक दशक पहले सैंडी हुक में 20 बच्चों और छह वयस्कों की गोली मारकर हत्या करने के बाद से अमेरिकी स्कूल में सबसे घातक और भयानक घटना ने एक बार फिर अमेरिका में कमजोर बंदूक नियंत्रण कानूनों की पोल खोलकर रख दी है। और दिखाया है, कि किस तरह से काफी आसानी से अमेरिका में कोई भी शख्स बंदूक हासिल कर सकता है। टेक्सास में गोलीबारी के बमुश्किल एक घंटे बाद व्हाइट हाउस से बोलते हुए जो बाइडेन ने कार्रवाई का आह्वान किया और बंदूक निर्माताओं और उनके समर्थकों को दोषी ठहराया।

ओबामा बोले- देश को लकवा मार गया

अमेरिका के पूर्व राष्ट्रपति बराक ओबामा ने भी माना था, कि देश में गन लॉबी काफी ज्यादा मजबूत है और उन्होंने एक बार फिर से इसे कबूल भी किया है, लेकिन सवाल ये है, कि दुनिया के सबसे ताकतवर देश के सबसे ताकतवर नेता गन लॉबी के सामने घुटने क्यों टेक देते हैं। बराक ओबामा ने टेक्सास शूटिंग के बाद कहा, 'सैंडी हुक के लगभग दस साल बाद और बफ़ेलो वारदात के दस दिन बाद, हमारा देश डर से नहीं, बल्कि बंदूक लॉबी के सामने पंगु बन गया है'। बराक ओबामा ने इसके पीछे इशारों में रिपब्लिकन पार्टी को गन लॉबी को बढ़ावा देने के लिए जिम्मेदार ठहराया और कहा, कि इसके खिलाफ बहुत पहले ही एक्शन लिया जाना चाहिए था, कोई भी एक्शन, मगर लिया जाना चाहिए था। बराक ओबामा ने कहा, ये एक त्रासदी है और बहुत बड़ी त्रासदी है। ओबामा ने भले ही मृतकों के आत्मा की शांति के लिए प्रार्थना कर ली हो, लेकिन सवाल ये है, कि बराक ओबामा खुद दो बार अमेरिका के राष्ट्रपति रह चुके हैं और उनके शासनकाल में भी कई बार मास शूटिंग की गई, फिर भी उन्होंन गन लॉबी के खिलाफ एक्शन क्यों नहीं लिया?

पूर्व राष्ट्रपति बिल क्लिंटन

अमेरिका के एक और पूर्व राष्ट्रपति बिल क्लिंटन ने भी बंदूक लॉबी को जिम्मेदार ठहराया है, ऐसे में सवाल ये उठता है, कि क्या अमेरिका का बंदूक लॉबी इतना ज्यादा मजबूत है, कि राष्ट्रपति इसके बारे में जानते हुए भी कोई एक्शन नहीं ले सकते हैं। क्या अमेरिकी संसद बंदूक लॉबी के सामने कमजोर है? जो अमेरिका यूक्रेन को 50 अरब डॉलर से ज्यादा का फंड दे सकता है, जो अमेरिका अफगानिस्तान, सीरिया और लीबिया जैसे देशों को बमों से पाट सकता है, वो अमेरिका क्या अपने देश के गन लॉबी के सामने इतना कमजोर है? बिल क्लिंटन बोलते हैं, 'स्थानीय, राज्य और संघीय स्तर पर हमारे चुने हुए नेताओं को, पार्टी की परवाह किए बिना, हमारे बच्चों और समुदायों को सुरक्षित रखने के लिए सामान्य तरीके खोजने चाहिए। वे ऐसा शिकार करने, खेल शूट करने और अपने लिए बंदूकें रखने के लिए रक्षा का अधिकार का दावा नहीं कर सकते हैं। अब एक्शन लेने का वक्त आ गया है'।

बाइडेन ने किम जोंग उन को कहा था 'हलो', उत्तर कोरिया ने दनादन 3 मिसाइलें दागकर भेजा 'जवाब'बाइडेन ने किम जोंग उन को कहा था 'हलो', उत्तर कोरिया ने दनादन 3 मिसाइलें दागकर भेजा 'जवाब'

Comments
English summary
There have been 274 mass shootings in the US since 2009, but why does the most powerful country fail to rein in the gun lobby?
देश-दुनिया की ताज़ा ख़बरों से अपडेट रहने के लिए Oneindia Hindi के फेसबुक पेज को लाइक करें
For Daily Alerts
तुरंत पाएं न्यूज अपडेट
Enable
x
Notification Settings X
Time Settings
Done
Clear Notification X
Do you want to clear all the notifications from your inbox?
Settings X
X