• search
क्विक अलर्ट के लिए
अभी सब्सक्राइव करें  
क्विक अलर्ट के लिए
नोटिफिकेशन ऑन करें  
For Daily Alerts

अमेरिकी राष्ट्रपति ट्रंप के पोस्ट को अब प्रमोट नहीं करेगा Snapchat, जानिए क्या है वजह?

|

नई दिल्ली। सोशल मीडिया प्लेटफॉर्म स्नैपचैट ने अमेरिका में हालिया हिंसक विरोध प्रदर्शनों के बारे में अमेरिकी राष्ट्रपति डोनाल्ड ट्रंप द्वारा की गई टिप्पणियों के मद्देनजर उनके पोस्ट को प्रमोट नहीं करने का फैसला किया है। स्नैपचैट ने यह फैसला गत 25 मई को अमेरिका में अश्वेत नागरिक जॉर्ज फ्लॉयड की पुलिस के हाथों हुई मौत और अमेरिका में हुए हिंसक प्रदर्शन के संदर्भ में निर्णय किया है।

snapchat

गौरतलब है एक अमेरिकी अश्वेत जॉर्ज फ्लॉयड की मौत पुलिस हिरासत में हुई थी, जिसे हथकड़ी पहनाने के लिए मिनियोपोलिस पुलिस अधिकारी डेरेक चौवीन द्वारा करीब 9 मिनट तक अपने घुटने से दबाए रखा था और दम घुटने के कारण कुछ देर बाद ही उसकी मौत हो गई थी। घटना का एक वीडियो भी सोशल मीडिया पर वायरल हुआ, जिसके बाद अमेरिका में हिंसक प्रदर्शन शुरू हो गए।

snapchat

जार्ज फ्लॉयड मौतः भारतीय रेस्त्रां मालिक की प्रतिक्रिया इंटरनेट पर जीत रही है लोगों का दिल

हालांकि घटना के अगले दिन ही आरोपी पुलिस अधिकारी डेरेक चौवीन को थर्ड डिग्री मौत के आरोप में गिरफ्तार किया गया, जबकि घटना में शामिल सभी चार पुलिस अफसरों को बर्खास्त कर दिया गया था, क्योंकि पुलिस ने जॉर्ज फ्लॉयड पर जो तरीके आजमाए वह विभागीय नियमों का उल्लंघन था।

snapchat

अमेरिका: व्हाइट हाउस तक पहुंची हिंसा की आग, राष्ट्रपति ट्रंप ने कहा- जॉर्ज फ्लॉयड को मिलेगा न्याय

उल्लेखनीय है मिनियोपोलिस पुलिस अधिकारी डेरेक चौवीन जब जॉर्ज फ्लॉयड के साथ बर्बरता से पेश आ रहा था तब सांस लेने की तकलीफ से गुजर रहे खुद जॉर्ज फ्लॉयड समेत घटनास्थल पर जमा भीड़ ने उसे छोड़ देने की अपील भी की थी, लेकिन आरोपी पुलिस अधिकार ने उसे नहीं छोड़ा गया, जिससे उसकी मौत हो गई।

जानिए, जॉर्ज फ्लॉयड और उसकी मौत के बारे में सब कुछ, आखिर क्यों जल उठा अमेरिका?

म फिलहाल राष्ट्रपति ट्रंप के पोस्ट को प्रमोट नहीं कर रहे हैं: स्नैपचैट प्रवक्ता

म फिलहाल राष्ट्रपति ट्रंप के पोस्ट को प्रमोट नहीं कर रहे हैं: स्नैपचैट प्रवक्ता

मामले पर स्नैपचैट के प्रवक्ता राहेल राहुसे का कहा, 'हम फिलहाल राष्ट्रपति ट्रंप के पोस्ट को प्रमोट नहीं कर रहे हैं। हम उन आवाजों को नहीं बढ़ावा नहीं देंगे जो नस्लीय हिंसा और अन्याय को प्रोत्साहित करते हैं। नस्लीय हिंसा और अन्याय का हमारे समाज में कोई स्थान नहीं है और हम शांति, प्रेम, समानता और न्याय की तलाश में सभी के साथ खड़े हैं।

ट्विटर भी डोनाल्ड ट्रंप के एक पोस्ट को लेकर सख्ती दिखा चुका है

ट्विटर भी डोनाल्ड ट्रंप के एक पोस्ट को लेकर सख्ती दिखा चुका है

यह पहला मामला नहीं है जब किसी सोशल नेटवर्किंग साइट्स ने राष्ट्रपति ट्रंप के खिलाफ आवाज उठाया है। इससे पूर्व माइक्र ब्लॉगिंग साइट ट्विटर भी डोनाल्ड ट्रंप के एक पोस्ट को लेकर सख्ती दिखा चुका है। ट्विटर ने ट्रंप के कुछ ट्वीट पर फैक्ट चेक की वार्निग लगा दी है, जिसमें ट्रंप ने अश्वेत जार्ज फ्लॉयड की हत्या पर उन्होंने एक ट्वीट में लिखा था, 'जब लूटपाट शुरू तो शूटिंग भी शुरू।' ट्विटर का कहना था कि ट्रंप का ट्वीट हिंसा को महिमामंडित करता है, जो ट्विटर के नियमों का उल्लंघन है।

फेसबुक से ट्रंप के पोस्ट के खिलाफ कार्रवाई करने की मांग उठ रही है

फेसबुक से ट्रंप के पोस्ट के खिलाफ कार्रवाई करने की मांग उठ रही है

वहीं, सोशल नेटवर्किंग साइट्स फेसबुक से ट्रंप के पोस्ट के खिलाफ कुछ ऐसी ही कार्रवाई करने की मांग उठ रही है। फेसबुक के कई कर्मचारियों ने सोमवार के अपना कामकाज बंद कर ट्रंप के पोस्ट पर अंकुश लगाने की मांग की। उन्होंने इसे लेकर कंपनी के सीईओ मार्क जुकरबर्ग आलोचना की।

आरोपी डेरेक चौवीन को थर्ड डिग्री मौत के आरोप में गिरफ्तार किया गया

आरोपी डेरेक चौवीन को थर्ड डिग्री मौत के आरोप में गिरफ्तार किया गया

घटना के अगले दिन ही आरोपी पुलिस अधिकारी डेरेक चौवीन को थर्ड डिग्री मौत के आरोप में गिरफ्तार किया गया, जबकि घटना में शामिल सभी चार पुलिस अफसरों को बर्खास्त कर दिया गया था, क्योंकि पुलिस ने जॉर्ज फ्लॉयड पर जो तरीके आजमाए वह विभागीय नियमों का उल्लंघन था। पुलिस अधिकारी जब जॉर्ज फ्लॉयड के साथ बर्बरता से पेश आ रहा था तब जॉर्ज समेत सभी ने उसे छोड़ देने की अपील भी की थी, लेकिन आरोपी पुलिस अधिकार ने उसे नहीं छोड़ा गया।

देश-दुनिया की ताज़ा ख़बरों से अपडेट रहने के लिए Oneindia Hindi के फेसबुक पेज को लाइक करें
English summary
Social media platform Snapchat has decided not to promote his post in the wake of comments made by US President Donald Trump about recent violent protests in the US. Snapchat has made this decision in the context of the death of black civilian George Floyd at the hands of the police on May 25 and violent demonstrations in the US.
For Daily Alerts
तुरंत पाएं न्यूज अपडेट
Enable
x
Notification Settings X
Time Settings
Done
Clear Notification X
Do you want to clear all the notifications from your inbox?
Settings X
X
We use cookies to ensure that we give you the best experience on our website. This includes cookies from third party social media websites and ad networks. Such third party cookies may track your use on Oneindia sites for better rendering. Our partners use cookies to ensure we show you advertising that is relevant to you. If you continue without changing your settings, we'll assume that you are happy to receive all cookies on Oneindia website. However, you can change your cookie settings at any time. Learn more