विदेशी मैगजीन ने प्रकाशित की दुष्कर्म की गलत खबर, भरना पड़ेगा 50 करोड़ का जुर्माना

Subscribe to Oneindia Hindi

नई दिल्ली। अमेरिकी अदालत की जूरी ने वर्जिनिया विश्वविद्यालय के पूर्व एसोसिएट डीन के खिलाफ दुष्कर्म करने की गलत खबर प्रकाशित करने पर एक रोलिंग स्टोन पत्रिका और उसकी एक पत्रकार के खिलाफ फैसला सुनाया है।

मामला अमेरिका स्थित वर्जिनिया का है। अदालत ने कहा है कि 2014 में एक मैगजीन में प्रकाशित किए गए लेख के जरिए पूर्व डीन को बदनाम किया गया।

10 सदस्यों की जूरी ने फैसला किया है कि पत्रकार सबरीना रुबिन एरडेली, विश्वविद्यालय की पूर्व डीन निकोल एरामो की मानहानि के लिए जिम्मेदार है।

rolling stone

मामले में जूरी ने यह भी पाया कि मैगजीन और उसकी मूल कंपनी, वेनर मीडिया भी इस मानहानि के लिए जिम्मेदार है।

2014 में प्रकाशित हुई थी स्टोरी

बताया गया कि एडेरली ने 'अ रेप ऑन कैम्पस' हेडिंग के तहत 9,000 शब्दों का लेख लिखा था जो नवंबर 2014 के आखिर में ऑनलाइन प्रकाशित हुई थी। मैगजीन न्यूज स्टैंड्स पर दिसंबर 2014 में पहुंची।

टाटा ग्रुप मुख्यालय के बाहर सुरक्षाकर्मियों ने की पत्रकारों से मारपीट

इस मैगजीन में एक सामूहिक बलात्कार का चित्रण था। जिससे सनसनी फैल गई और कैंपस में यौन उत्पीड़न के संबंध में जानकारी हुई।

हालांकि लेख प्रकाशित होने के कुछ दिनों के भीतर ही इस मामले के प्रमुख लोग जांच के दायरे में आए।

मुकर गई थी पत्रिका

इतना ही नहीं उन लोगों से भी पूछताछ की गई जिनकी ओर से बताई गई बातों के आधार पर यह लेख लिख कर प्रकाशित किया गया था।

दिवाली मिलन समारोह में बोले पीएम- देश को आगे ले जाने में पत्रकारों का योगदान

आखिरकार मैगजीन,अप्रैल 2015 में इस पूरी स्टोरी से मुकर गई। जिसके एक महीने बाद निकोल ने इस आशय का मुकदमा दर्ज कराया कि परिसर में किसी तरह का दुष्कर्म नहीं हुआ था, साथ ही मैगजीन ने जिस तरह की रिपोर्ट प्रकाशित की थी वो झूठी और अनुचित थी।

जूरी ने शुक्रवार (4 अक्टूबर) को फैसला सुनाते हुए कहा कि निकोल को 7.5 मिलियन डॉलर (रुपये में 500,850,000) का मुआवजा दिया जाए। हालांकि मुआवजे की रकम पर बहस सोमवार को होगी।

वहीं इस मामले में दूसरे पक्ष का कहना है कि स्टोरी सही थी।

हम पहले से कह रहे थे कि स्टोरी गलत है

फैसला आने के बाद पत्रिका ने अपने जवाब में कहा कि हमारी इच्छा थी कि हम इस जटिल मुद्दे को पीड़ित के नजरिए से प्रकाशित करें जिसके चलते हमने रिपोर्टिंग के रास्तों के अनदेखा किया और कुछ पत्रकारीय गलतियां की, जिसे हम दोबारा नहीं दुहराएंगे।

पीएम मोदी से अवॉर्ड लेने से मना करने वाले अक्षय मुकुल कौन हैं...

पूर्व डीन निकोल के वकील लिबी लॉक ने कहा कि उनकी मुवक्किल इस फैसले से खुश हैं।

उन्होंने कहा कि हम यह बात पहले से कहते आ रहे हैं कि पत्रिका रोलिंग स्टोन ने निकोल के खिलाफ गलत और मानहानिकारक स्टोरी प्रकाशित की थी।

देश-दुनिया की तबरों से अपडेट रहने के लिए Oneindia Hindi के फेसबुक पेज को लाइक करें
English summary
Rolling Stone Journalist Found Guilty.
Please Wait while comments are loading...