• search
क्विक अलर्ट के लिए
अभी सब्सक्राइव करें  
क्विक अलर्ट के लिए
नोटिफिकेशन ऑन करें  
For Daily Alerts

राफेल सौदे में करोड़ों का अवैध लेनदेन, जांच एजेंसी ने ही ‘हथियार दलाल’ को बचाया, फ्रेंच वेबसाइट का बड़ा खुलासा

|
Google Oneindia News

पेरिस/नई दिल्ली: राफेल डील को लेकर फ्रांस की एक वेबसाइट ने कई सनसनीखेज खुलासे किए हैं। फ्रांस की एक वेबसाइट ने 'राफेल पेपर्स' नाम की रिपोर्ट जारी करते हुए दावा किया है कि राफेल डील में दसौ एविएशन ने एक भारतीय बिचौलिए को राफेल सौदा के बदले करोड़ों रुपये दिए हैं। रिपोर्ट में कहा गया है कि भारतीय बिचौलिए को 10 लाख यूरो यानि करीब 8 करोड़ 62 लाख रुपये दिए गये हैं, और इन पैसों को लेकिन राफेल कंपनी की तरफ से फ्रेंच एंटी करप्शन अधिकारियों को कोई सही जबाव नहीं दिया गया है। फ्रांस की वेबसाइट मीडियापार्ट ने रविवार को राफेल पेपर्स नाम की रिपोर्ट में राफेल सौदे को लेकर कई और खुलासे किए हैं।

‘राफेल सौदे में भ्रष्टाचार’

‘राफेल सौदे में भ्रष्टाचार’

फ्रांस की वेबसाइट मीडियापार्ट ने खुलासा किया है कि राफेल सौदे के बदले एक भारतीय बिचौलिए को 8 करोड़ 62 लाख रुपये दिए गये। ये रुपये राफेल विमान बनाने वाली कंपनी दसौ एविएशन ने दिए हैं। रिपोर्ट में दावा किया गया है कि कंपनी की तरफ से फ्रेंच एंटी करप्शन अथॉरिटी को इन रूपयों के बारे में कोई सही जानकारी नहीं दी गई है। राफेल डील को लेकर पिछले कई सालों से भारत में राजनीति गर्म रही है और फ्रेंच वेबसाइट के खुलासे के बाद एक बार फिर से हंगामा होना तय माना जा रहा है। भारत के कई राज्यों में अभी चुनाव चल रहे हैं, लिहाजा विपक्ष राफेल डील को मुद्दा बनाकर मोदी सरकार को फिर से घेरने की कोशिश करेगी।

    Rafale Scandal: French Report में दावा, भारतीय बिचौलिये गिफ्ट किए थे 1 मिलियन यूरो | वनइंडिया हिंदी
    वेबसाइट की इनवेस्टिगेटिव रिपोर्ट

    वेबसाइट की इनवेस्टिगेटिव रिपोर्ट

    फ्रांस की वेबसाइट ‘मीडियापार्ट' ने तीन पार्ट के इनवेस्टिगेटिव रिपोर्ट के पहले पार्ट में दावा किया है कि साल 2018 के मध्य अक्टूबर महीने में फ्रांस की एंटी करप्शन ब्यूरो ने सबसे पहले किसी भारतीय बिचौलिए को करोड़ों रुपये दिए जाने की बात को पकड़ा था। जिसके बाद एंटी करप्शन ब्यूरो ने राफएल बनाने वाली कंपनी दसौ एविएशन से इस ‘लेन-देन' को लेकर जबाव मांगा, लेकिन दसौ एविएशन कंपनी एंटी करप्शन एजेंसी को सही जबाव देने में नाकामयाब रही है। रिपोर्ट में दावा किया गया है कि सबसे पहले फ्रांस एंटी करप्शन एंजेसी एएफए को 2016 में इस सौदे पर दस्तखत के बाद गड़बड़ी के बारे में पता लगा। और फिर 23 सितंबर 2016 को राफेल डील पर भारत और दसौ एविएशन के बीच समझौता हो गया था। रिपोर्ट में कहा गया है कि फ्रांस की इनवेस्टिगेशन एजेंसी को पता चला कि एक बिचौलिए को 10 लाख यूरो यानि 8 करोड़ 62 लाख रुपये दिए गये और ये हथियार दलाल एक दूसरे हथियार सौदे में गड़बड़ी के लिए आरोपी है।

    डेफसिस सॉल्यूशन का नाम

    डेफसिस सॉल्यूशन का नाम

    फ्रेंच रिपोर्ट में कहा गया है कि राफेल बनाने वाली कंपनी ने फ्रांस की जांच एजेंसी के सामने कहा है कि 23 सितंबर 2016 को राफेल डील फाइनल होने के बाद भारत की डेफसिस सॉल्यूशन (Defsys Solutions) को एक निश्चित अमाउंट देने पर तैयार हो गई थी। दसौ एविएशन ने कहा है कि ये रुपया डेफसिस सॉल्यूशन को राफेल विमान के 50 बड़े रेप्लिका बनाने के लिए दिया जाना था। हालांकि, राफेल बनाने वाली कंपनी दसॉ एविएशन फ्रांस की एंटी करप्शन एजेंसी के सामने ये सबूत देने में नाकाम रही कि वास्तव में 50 रेप्लिका कहां, कब और कैसे बने हैं या बने भी हैं या नहीं बने हैं। वहीं, इस रिपोर्ट में एक और चौंकाने वाला खुलासा करते हुए कहा है फ्रांस की एंटी करप्शन एजेंसी एएफए, जो फ्रांस की बजट मिनिस्ट्री और फ्रांस के जस्टिस मिनिस्ट्री दोनों को जवाबदेह है, उसने इस गड़बड़ी को जांच के लिए प्रॉसीक्यूटर के पास नहीं भेजा।

    सुशेन गुप्ता पर बड़ा आरोप

    सुशेन गुप्ता पर बड़ा आरोप

    फ्रांस की वेबसाइट ने अपनी रिपोर्ट में खुलासा करते हुए डेफसिस सॉल्यूशन के सुशेन का नाम लिया है। रिपोर्ट में कहा गया है कि राफेल बनाने वाली कंवनी दसॉ एविएशन ने सुशेन गुप्ता को पैसे दिए हैं। सुशेन गुप्ता वो शख्स हैं, जिन्हें मार्च 2019 में भारत की इनफोर्समेंट डायरेक्टोरेट यानि ईडी ने अगस्ता वेस्टलैंड डील में गिरफ्तार किया था। सुशेन गुप्ता के ऊपर अगस्ता वेस्टलैंड डील में मनी लॉन्डरिंग का आरोप है। हालांकि बाद में सुशेन गुप्ता को अदालत से जमानत मिल गई थी।

    गड़बड़ी का कैसे हुआ खुलासा

    गड़बड़ी का कैसे हुआ खुलासा

    फ्रांस की वेबसाइट की रिपोर्ट के मुताबिक 2017 में फ्रांस की एंटी करप्शन एजेंसी ने हथियार बनाने वाली बड़ी कंपनियों को लेकर एक जांच शुरू की थी। ये जांच सिर्फ इस नीयत से शुरू की गई थी कि क्या हथियार बनाने वाली बड़ी कंपनियां एंटी करप्शन नियमों का पालन करती हैं या नहीं। इसके लिए फ्रांस में एक कानून भी है, जिसका नाम है Sapin-2। मीडियापार्ट की रिपोर्ट के मुताबिक अक्टूबर 2018 में, फ्रांस की एंटी करप्शन एजेंसी को राफेल सौदे में गड़बड़ी की आशंका लगी। जिसके बाद एएफए ने दसौ एविएशन कंपनी की ऑडिट करनी शुरू कर दी। ऑडिट के दौरान एएफए के हाथ दसौ एविएशन की 2017 की अकाउंट डिटेल हाथ लगी। इस अकाउंट डिटेल में आइटम ऑफ एक्सपेंडिचर में 5 लाख 8 हजार 925 यूरो यानि 4 करोड़ 39 लाख रुपये के नाम से एक ट्रांजेक्शन का जिक्र था। जिसके हेडिंग में लिखा था ‘गिफ्ट्स टू क्लाइंट'। वेबसाइट मीडियापार्ट ने फ्रांस एंटी करप्शन एजेंसी की रिपोर्ट को देखने के बाद लिखा है कि ये एक्सपेंडीचर बाकी की अकाउंट डिटेल्स और राफेल डील के बही-खाते से मेल नहीं खाता है और ये खर्च ‘अवैध लेनदेन' का मामला बनता है।

    डेफसिस सॉल्यूशन को मिले करोड़ों

    डेफसिस सॉल्यूशन को मिले करोड़ों

    रिपोर्ट में कहा गया है कि जब दसौ एविएशन कंपनी से जांच एजेंसी ने इस लेनदेन का जबाव मांगा तो कंपनी की तरफ से एक ‘प्रोफोर्मा इनवॉयस' दिया गया, जिसपर 30 मार्च 2017 की तारीख लिखी थी। आपको बता दें कि ‘प्रोफोर्मा इनवॉयस' वो किसी सौदे से पहले का बहीखाता होता है और वो फाइनल बिल नहीं माना जाता है। वो सिर्फ सौदे के बारे में एक जानकारी देता है। रिपोर्ट के मुताबिक इस ‘प्रोफोर्मा इनवॉयस' में डेफसिस सॉल्यूशन और राफेल बनाने वाली कंपनी दसौ एविएशन के बीच एक सौदे का जिक्र था। और इस बिल में पूरे ऑर्डर का सिर्फ 50% ही अमाउंट डाला गया था। इस बिल के मुताबिक दसौ एविएशन ने राफेल विमान के 50 रेप्लिका बनाने के लिए डेफसिस सॉल्यूशन बनाने के लिए करार किया था। लेकिन, हैरानी की बात ये थी कि जब जांच एजेंसी ने कंपनी से पूछा कि भला आपने अपनी कंपनी द्वारा बनाए जाने वाली एयरक्राफ्ट के मॉडल को बनाने के लिए किसी इंडियन कंपनी के साथ करार क्यों किया और ‘गिफ्ट टू क्लाइंट' क्या है, तो राफेल कंपनी की तरफ से कोई जबाव नहीं दिया गया। इसके साथ ही कंपनी की तरफ से जांच एजेंसी के सामने राफेल की रेप्लिका बनने की कोई तस्वीर तक पेश नहीं की गई। जिससे बता चलता है कि राफेल सौदे में भारतीय हथियार दलाल को करोड़ों रुपये दिए गये हैं। फ्रांस की जांच एजेंसी ने अपनी रिपोर्ट में कहा है कि ‘राफेल बनाने वाली कंपनी दसौ एविएशन ने भारतीय डेफसिस सॉल्यूशन के साथ राफेल की रेप्लिका बनाने का फर्जी करार किया ताकि फाइनेसियल ट्रांजेक्शन किया जा सके'

    जांच एजेंसी ने छिपाया मामला?

    जांच एजेंसी ने छिपाया मामला?

    फ्रांस की वेबसाइट ने खुलासा किया है कि फ्रांस की एंटी करप्शन एजेंसी ने इस भ्रष्टाचार, हथियार दलाल के नाम का खुलासा करने के साथ साथ हर सबूत भी कलेक्ट कर लिए लेकिन जांच एजेंसी की तरफ से इस पूरे मामले को सिर्फ दो पाराग्राफ में खत्म कर दिया गया। और फ्रांस एंटी करप्शन एजेंसी के डायरेक्टर चार्ल्स डुकैन ने इस ‘भ्रष्टाचार' को फ्रांस की बजट मंत्रालय और जस्टिस मिनिस्ट्री के पास भी नहीं भेजा। एजेंसी ने फाइनल रिपोर्ट में पूरे मामले को सिर्फ दो पाराग्राफ में खत्म कर दिया। वहीं, जब मीडियापार्ट ने इस मामले पर फ्रांस की एंटी करप्शन एजेंसी के डायरेक्टर चार्ल्स डुकैन से सवाल पूछा तो उम्होंने कुछ भी बोलने से इनकार कर दिया।

    ड्रैगन के मंसूबे आसमान में नेस्तनाबूद करेगा Rafale, हाशिमारा में बनेगी दूसरी स्क्वाड्रन, पहुंच रहे 10 नए विमानड्रैगन के मंसूबे आसमान में नेस्तनाबूद करेगा Rafale, हाशिमारा में बनेगी दूसरी स्क्वाड्रन, पहुंच रहे 10 नए विमान

    English summary
    In the Rafale deal, the French website has revealed that an Indian middleman was given millions of rupees and the investigating agency scrapped the report in just 2 paragraphs.
    देश-दुनिया की ताज़ा ख़बरों से अपडेट रहने के लिए Oneindia Hindi के फेसबुक पेज को लाइक करें
    For Daily Alerts
    तुरंत पाएं न्यूज अपडेट
    Enable
    x
    Notification Settings X
    Time Settings
    Done
    Clear Notification X
    Do you want to clear all the notifications from your inbox?
    Settings X
    X