• search
क्विक अलर्ट के लिए
अभी सब्सक्राइव करें  
क्विक अलर्ट के लिए
नोटिफिकेशन ऑन करें  
For Daily Alerts

धमाकों के बीच इराक के ऐतिहासिक दौरे पर पोप फ्रांसिस, इस्लामिक नेताओं से करेंगे शांति पर बातचीत

|

बगदाद: एक तरफ कोरोना वायरस का खतरा तो दूसरी तरफ हर दूसरे दिन कहीं ना कहीं रॉकेट हमले...इन सबके बीच ईसाई धर्म के सर्वोच्च गुरु पोप फ्रांसिस इराक दौरे पर हैं। कोरोना संक्रमण फैलने के बाद पहली बार ईसाई धर्म गुरु पोप फ्रांसिस किसी देश के दौरे पर निकले हैं। लेकिन पोप फ्रांसिस के दौरे के साथ सवाल उठ रहे हैं कि आखिर सुरक्षा में खतरे को देखते हुए भी पोप फ्रांसिस इराक दौरे पर क्यों जा रहे हैं।

POPE

सुरक्षा का खतरा फिर भी इराक की यात्रा

इराक यात्रा के दौरान पोप फ्रांसिस कई कार्यक्रम में शिरकत करने वाले हैं। इराक में उनकी मुस्लिम धर्मगुरुओं से मुलाकात प्रस्तावित है। माना जा रहा है कि सम्मानित शिया धर्मगुरुओं से उनकी मुलाकात होगी। इसके साथ ही पोप फ्रांसिस मोसूल में आयोजित प्रार्थना सभा में भी वो शिरकत करेंगे। साथ ही पोप फ्रांसिस एक स्टेडियम में जनसभा को भी संबोधित करेंगे। इस बीच पोप फ्रांसिस के इराक यात्रा को लेकर चिंता जताई जा रही है। सुरक्षा एजेंसियों का कहना है कि इराक एक बार फिर से अशांति के चौराहे पर खड़ा है। पिछले एक महीने के दौरान अमेरिकी एयरबेस पर दो हमले हो चुके हैं जिनमें एक अमेरिकन कॉन्ट्रेक्टर की मौत हुई थी। इसके साथ ही इराक में कोरोना वायरस का खतरा भी है। इराक के कई पादरियों ने पोप फ्रांसिस की इस यात्रा को लेकर कहा है कि उन्हें इस वक्त इराक का दौरान नहीं करना चाहिए था।

पोप फ्रांसिस क्यों कर रहे हैं इराक यात्रा

बीबीसी न्यूज की एक रिपोर्ट के मुताबिक ईसाई धर्मगुरु पोप फ्रांसिस उन ईसाइयों से मुलाकात कर सकते हैं जो धार्मिक आधार पर सताए गये हैं। वहीं कई धार्मिक और पॉलिटिकल नेताओं से भी पोप फ्रांसिस मुलाकात करेंगे। जिसमें वो पूरी दुनिया के लिए शांति का आह्वान कर सकते हैं। इराक के लोगों के लिए जारी किए गये वीडियो संदेश में उन्होंने कहा है कि वो एक तीर्थयात्री के तौर पर इराक का यात्रा कर रहे हैं और आतंकवाद और वर्षों की जंग के बाद सुलह और खुदा से क्षमा की खातिर आ रहा हूं। पोप फ्रांसिस के साथ 75 जर्नलिस्ट भी इराक की यात्रा पर आ रहे हैं।

इराक में साल 2003 में करीब 15 लाख से ज्यादा ईसाई समुदाय के लोग रहते थे मगर धीरे धीरे उनकी संख्या कम होती चली गई। इस वक्त इराक में महज 3 लाख ईसाई ही रहते हैं। वहीं, इराक में बड़े पैमाने पर चर्च भी ध्वस्त किए गये है। रिपोर्ट के मुताबिक इराक में 58 से ज्यादा चर्च को इस्लामिक कट्टरपंथियों ने गिरा दिया, वहीं हजार से ज्यादा ईशाइयों का इराक में कत्ल कर दिया गया। अलकायदा आतंकियों ने बड़े पैमाने पर इराक में चर्चों को गिराए तो कई पादरियों की अपहरण कर उनकी हत्या तक कर दी। ऐसे में माना जा रहा है कि सताए गये ईशाइयों के जख्म पर पोप फ्रांसिस मरहम रखने का काम करेंगे।

Special Report: दुनिया को युद्ध में धकेलने की ड्रैगन की तैयारी! चीन ने रक्षा बजट में बेतहाशा वृद्धि क्यों की?Special Report: दुनिया को युद्ध में धकेलने की ड्रैगन की तैयारी! चीन ने रक्षा बजट में बेतहाशा वृद्धि क्यों की?

English summary
The historic Iraq tour of Pope Francis, the supreme leader of the Christian community, has begun. During his visit to Iraq, Pope Francis will meet Muslim religious leaders and appeal for peace.
देश-दुनिया की ताज़ा ख़बरों से अपडेट रहने के लिए Oneindia Hindi के फेसबुक पेज को लाइक करें
For Daily Alerts
तुरंत पाएं न्यूज अपडेट
Enable
x
Notification Settings X
Time Settings
Done
Clear Notification X
Do you want to clear all the notifications from your inbox?
Settings X
X