• search
क्विक अलर्ट के लिए
अभी सब्सक्राइव करें  
क्विक अलर्ट के लिए
नोटिफिकेशन ऑन करें  
For Daily Alerts

महिलाओं का अपहरण, रेप फिर बेच दिए जाते हैं बच्चे, ऐसे चल रही है नाइजीरिया की बेबी फैक्ट्री

|

नाइजीरिया। पश्चिमी अफ्रीका का एक देश नाइजीरिया अक्सर आतंकी संगठन बोको हरम के क्रूर और हिंसक तरीकों के लिए खबरों में रहता है। अभी पिछले महीने के आखिर में ही 100 से अधिक लोगों को सिर काटकर मौत के घाट उतार दिया गया था। इनमें अधिकांश किसान थे। ये सिर्फ एक बानगी भर है कि ये देश किस तरह हिंसा के दौर से गुजर रहा है। वहीं इस देश में महिलाओं को बड़ी ही क्रूरता का सामना करना पड़ रहा है। महिलाओं के ऊपर होने वाली क्रूरता की वजह यहां की बेबी फैक्ट्रियां हैं।

Crime

बेबी फैक्ट्री भले ही आपके लिए चौकाने वाला शब्द लगता है लेकिन नाइजीरिया में ये नया नहीं है। यहां बेबी फैक्ट्री उन अड्डों को कहा जाता है जहां बच्चों के लिए महिलाओं को अपहरण करके लाया जाता है और फिर उनके साथ बलात्कार किया जाता है।

हाल ही में नाइजीरिया की पुलिस ने ऐसी ही एक अड्डे पर छापा मारकर वहां से छह महिलाओं और चार बच्चों को छुड़ाया गया। पुलिस ने पूछताछ की तो पता चला कि छह में से चार महिलाएं गर्भवती थीं जिन्हें बंधक बनाकर रखा गया था।

महिलाओं से जब पुलिस ने पूछताछ की तो उन्होंने बताया कि उन्हें अपहरण कर यहां लाया गया था। इसके बाद उनके साथ बलात्कार किया गया जिससे वे गर्भवती हुईं। उन्हें तब तक यहां रखा जाना था जब तक वे बच्चों को जन्म नहीं दे देतीं। इसके बाद इन बच्चों को उनसे छीनकर बेच दिया जाता।

क्या होता है इन बच्चों का ?

नाइजीरिया में इस तरह से महिलाओं को पकड़े जाने की ये पहली घटना नहीं है। पुलिस यहां छापा मारती है महिलाओं को छुड़ाती है लेकिन फिर दूसरी जगह पर ये अड्डे काम करने लगते हैं। महिलाओं के साथ ज्यादती की वजह यहां इन बच्चों की डिमांड है। इन बेबी फैक्ट्रियों में पैदा होने वाले बच्चों में लड़कों से बाल श्रम कराया जाता है। वहीं लड़कियों को सेक्स वर्कर बनाने के लिए बेच दिया जाता है। यही नहीं इन बच्चों की बिक्री मानव बलि जैसी खौफनाक प्रथा के लिए भी की जाती है। डायचे वैले की खबर के मुताबिक इन बच्चों को दो से ढाई लाख नाइरा (नाइजीरियाई मुद्रा) में बेच दिया जाता है।

बेहद ही खौफनाक हो चुकी इन बेबी फैक्ट्रियों को अनाथाश्रम या फिर धार्मिक केंद्रों की आड़ में चलाया जाता है। नाइजीरिया में चल रही इन बेबी फैक्ट्रियों को लेकर मानवाधिकार कार्यकर्ता अपनी चिंता जताते रहे हैं। सबसे बुरी स्थिति इन फैक्ट्रियों में अपहरण कर लाई गई महिलाओं की होती है। उन्हें गर्भधारण होने तक बलात्कार जैसी क्रूरता का दंश झेलना होता है। सिर्फ यही नहीं इसके बाद पैदा होने वाले बच्चों को भी उनसे छीन लिया जाता है और उन्हें पता भी नहीं चलता कि उनके बच्चे कहां हैं।

यूरोप तक बेची जाती हैं लड़कियां

नाइजीरिया की बेबी फैक्ट्रियां सालों से काम कर रही हैं। पहली बार यूनेस्को ने इस तरह की बेबी फैक्ट्री का मामला पहली बार 14 साल पहले 2006 में रिपोर्ट किया था। तब से हर साल इन फैक्ट्रियों का पता चलता रहता है। इतने सालों के बाद भी पुलिस इन फैक्ट्रियों को बंद नहीं करा पाई है। कई बार पुलिस फैक्ट्री चलाने वालों को पकड़ती है लेकिन उनके खिलाफ मजबूत केस दर्ज नहीं करते जिसके आरोपी छूट जाते हैं और फिर से इस अवैध काम में जुट जाते हैं।

नाइजीरिया अफ्रीका में मानव तस्करी के सबसे बड़े केंद्रों में है। यहां काम करने वाले तस्कर देश के ग्रामीण और पिछड़े क्षेत्र में रहने वाली महिलाओं और बच्चों को निशाना बनाते हैं। उनके अगवाकर कैमरून, घाना, नाइजर जैसे अफ्रीकी देशों में बेचा जाता है। यही नहीं कुछ ऐसे भी मामले आए हैं जिनमें यहां की लड़कियों को सेक्स वर्कर बनाने के लिए इटली और रूस जैसे देशों के साथ मध्य पूर्व में बेचे जाने की जानकारी भी सामने आई है।

7 साल की बच्ची को पालने वाली आंटी ने पीट-पीटकर दिए खौफनाक जख्म, डॉक्टरों को काटना पड़ा हाथ

देश-दुनिया की ताज़ा ख़बरों से अपडेट रहने के लिए Oneindia Hindi के फेसबुक पेज को लाइक करें
English summary
police found baby factory of nigeria rescued woman and children
For Daily Alerts
तुरंत पाएं न्यूज अपडेट
Enable
x
Notification Settings X
Time Settings
Done
Clear Notification X
Do you want to clear all the notifications from your inbox?
Settings X
X