• search
क्विक अलर्ट के लिए
अभी सब्सक्राइव करें  
क्विक अलर्ट के लिए
नोटिफिकेशन ऑन करें  
For Daily Alerts

PNB Scam:भारत की जेल से घबराया भगोड़ा नीरव मोदी, प्रत्यर्पण को लेकर कोर्ट में वकील ने दी ये दलील

|

नई दिल्ली। पंजाब नेशनल बैंक के 13 हजार करोड़ रुपए के धोखाधड़ी मामले में आरोपी भगोड़े हीरा व्‍यवसायी नीरव मोदी का लंदन के वेस्टमिंस्टर मजिस्ट्रेट कोर्ट में प्रत्यर्पण संबंधी केस की सुनवाई हुई । जिसमें नीवर मोदी के वकील ने कहा कि नीरव मोदी वर्तमान समय में गंभीर मानसिक बीमारी से ग्रसित हैं उनका भारत की जेल में विशेषकर आर्थर रोड जेल में उचित इलाज नहीं हो सकता हैं। जेल की स्थितियों पर भारतीय सरकार का आश्वासन अपर्याप्त हैं ऐसे में उनका भारत को प्रत्‍यार्पण करना उचित नहीं होगा।

niravmodi

मालूम हो कि सीबीआई और ईडी ने पंजाब नेशनल बैंक घोटाले में मुकदमा चलाने के लिए नीरव मोदी को भारत प्रत्यर्पित करने के लिए ब्रिटिश अधिकारियों से आग्रह किया था। 49 साल के नीरव मोदी को मार्च, 2019 में गिरफ्तारी के बाद से दक्षिण-पश्चिम लंदन के वैंड्सवर्थ जेल में रखा गया है। बता दें करीब 13,000 करोड़ रुपये के बैंक धोखाधड़ी मामले में वांछित और भगोड़े हीरा कारोबारी नीरव मोदी के प्रत्यर्पण पर सोमवार से अगले पांच दिन तक लंदन में वेस्टमिंस्टर मजिस्ट्रेट कोर्ट में सुनवाई होनी थी जिसके तहत आज सुनवाई हुई। कोर्ट की ओर से केंद्रीय जांच ब्यूरो (CBI) और प्रवर्तन निदेशालय (ED) के आरोपों पर सुनवाई चल रही हैं।नीरव मोदी की लंदन के वैंड्सवर्थ जेल से वीडियो कॉन्फ्रेंसिंग के जरिए कोर्ट के सामने पेशी की बात सामने आई थी।

nirav
बता दें कोरोना वायरस महामारी की वजह से ब्रिटेन में भी लॉकडाउन का पालन किया जा रहा है। मालूम हो कि सीबीआई और ईडी के अधिकारियों का एक दल क्राउन प्रॉसिक्यूशन सर्विस (CPS) के लगातार संपर्क में है। सीपीएस की ओर से लंदन कोर्ट के सामने भारत का प्रतिनिधित्व किया जा रहा है1 फ्लाइट्स बंद होने की वजह से सुनवाई के लिए भारतीय अधिकारी लंदन पहुंचने में असमर्थ थे। क्राउन प्रॉसिक्यूशन सर्विस के जरिए भारतीय एजेंसियों ने नीरव मोदी के खिलाफ अतिरिक्त आरोपों पर भी जोर दिया है। इन अतिरिक्त आरोपों में गवाहों को डराना-धमकाना और सबूतों को नष्ट करना शामिल है, सीबीआई की ओर से नीरव मोदी के प्रत्यर्पण का आग्रह आपराधिक आरोपों (धोखाधड़ी, आपराधिक साजिश, गवाहों को डराने और सबूतों को नष्ट करने) पर आधारित है. वहीं ED ने मनी लॉन्ड्रिंग के आरोपों में ब्रिटिश अधिकारियों से ऐसा अनुरोध किया है। भारतीय एजेंसियों ने आरोप लगाया कि नीरव मोदी के कहने पर उसके सहयोगियों के मोबाइल फोन नष्ट कर दिए गए थे. साथ ही ये भी आरोप है कि नीरव मोदी ने एक गवाह को धमकी दी थी कि अगर वो उसके खिलाफ गया तो उसकी हत्या कर दी जाएगी।

औरंगाबाद ट्रेन हादसे पर बोले कुमार विश्वास, रेल की पटरियों पर बिखरी ये रोटियां नहीं.....

देश-दुनिया की ताज़ा ख़बरों से अपडेट रहने के लिए Oneindia Hindi के फेसबुक पेज को लाइक करें
English summary
Fugitive diamantaire Nirav Modi’s extradition trial in London’s Westminster Magistrates' Court: His lawyer says 'Indian govt's assurances on prison conditions are inadequate.
For Daily Alerts
तुरंत पाएं न्यूज अपडेट
Enable
x
Notification Settings X
Time Settings
Done
Clear Notification X
Do you want to clear all the notifications from your inbox?
Settings X
X