• search
क्विक अलर्ट के लिए
अभी सब्सक्राइव करें  
क्विक अलर्ट के लिए
नोटिफिकेशन ऑन करें  
For Daily Alerts

पाकिस्तानी दुल्हनों ने बढ़ाई चीन की चिंता, क्यों पाक चाहता है चुप रहे मीडिया?

|

नई दिल्ली। पड़ोसी देश पाकिस्तान अपने देश की महिलाओं द्वारा चीनी नागरिकों से शादी करने और वहां (चीन में) भारी कठिनाइयों का सामना करने की हालिया रिपोर्टों से शर्मिंदा है। इन घटनाओं के बाद अब पाकिस्तानी विदेश मंत्रालय (एमओएफए) चाहता है कि सभी सरकारी अधिकारी और मीडिया को चुप कराया जाए। इस पूरे मामले पर खुफिया एजेंसियों ने कहा कि आंतरिक मंत्रालय, खुफिया एजेंसियों और मीडिया को 'पाकिस्तान-चीन संबंधों के बारे में समग्र दृष्टिकोण' अपनाने के लिए संवेदनशील होना चाहिए।

Pakistani Foreign Ministry wants media to be silenced on pak women marrying Chinese citizens

विदेश मंत्रालय इस विषय पर पूरी तरह से चुप्पी चाहता है। मंत्रालय की ओर से कहा गया है कि, इस पूरे मामले को चतुराई से निपटना होगा। यही नहीं किसी भी अधिकारी को प्रेस में इस पर टिप्पणी करने की अनुमति नहीं दी जानी चाहिए क्योंकि इससे इस्लामाबाद और बीजिंग के बीच संबंधों को चोट पहुंच सकती है। मध्य मई में भारत सरकार के शीर्ष अधिकारियों को ओर से जारी की गई रिपोर्ट में कहा गया है कि, पाकिस्तान की सरकार ने उन चीनी नागरिकों को गिरफ्तार किया है जिन्होंने चीन और पाकिस्तानी महिलाओं( जिनमें अल्पसंख्यक समुदाय ईसाई और हिंदू से संबध रखती है) की शादी करायी थी।

गिरफ्तार किए गए ये सभी चीनी नागरिक फिलहाल इस्लामाबाद में चीनी दूतावास के संपर्क में हैं। रिपोर्ट में कहा गया है कि चीनी, चिंतित हैं और चाहते हैं कि इस मुद्दे को सावधानी से संभाला जाए। रिपोर्ट में कहा गया है कि इस तरह की शादियां 2018 में शुरू हुईं थीं और अब तक लगभग 250 ऐसी शादियां हो चुकी हैं। इसमें कहा गया है कि पाकिस्तानी महिलाओं ने चीन में पाकिस्तानी दूतावास से उनके साथ बुरा बर्ताव किए जाने की शिकायत की हैं। लेकिन पाकिस्तानी महिलाओं को वेश्यावृत्ति में धकेले जाने का कोई मामला सामने नहीं आया है और ना ही अंग काटने का कोई मामला सामने आया है।

इस मामले पर पाकिस्तान विदेश मंत्रालय और चीनी दूतावास दोनों चिंतित है। क्योंकि,चीन को इन मामलों के सामने आने के बाद पश्चिमी देशों के दवाब का सामना करना पड़ा रहा है। पाकिस्तान को इस बात का एहसास है कि, अगर पाकिस्तान मीडिया में ये मुद्दा और अधिक उछाला गया तो दोनों के देशों के बीच रिश्ते बिगड़ सकते हैं। बेल्ट एंड रोड इनिशिएटिव (BRI) और मानवाधिकार समस्याओं के कारण शिनजियांग में मुसलमानों की बड़ी आबादी है। अतीत में, पाकिस्तान में तनाव पैदा हो गया है जब चीनी सरकारी अधिकारियों ने पाकिस्तान के अंदर सड़कों का निर्माण शुरू कर दिया है, और पाकिस्तान के कब्जे वाले कश्मीर (पीओके) में भी। जिस पर भारत ने आपत्ति जताई थी।

एयरफोर्स के लापता विमान की खोज में इसरो ने लगाए सैटेलाइट, जानें अब तक के ताजा अपडेट्स

देश-दुनिया की ताज़ा ख़बरों से अपडेट रहने के लिए Oneindia Hindi के फेसबुक पेज को लाइक करें
English summary
Pakistani Foreign Ministry wants media to be silenced on pak women marrying Chinese citizens
For Daily Alerts
तुरंत पाएं न्यूज अपडेट
Enable
x
Notification Settings X
Time Settings
Done
Clear Notification X
Do you want to clear all the notifications from your inbox?
Settings X
X