• search
क्विक अलर्ट के लिए
नोटिफिकेशन ऑन करें  
For Daily Alerts

भारत को मदद ऑफर करने वाला पाकिस्तान खुद संकट में, अस्पतालों की व्यवस्था चरमराई, बच्चे बन रहे शिकार

|

इस्लामाबाद/नई दिल्ली, अप्रैल 25: भारत में कोरोना वायरस ने तबाही मचा रखी है। हर दिन 2 हजार से ज्यादा लोगों की मौत हो रही है को अस्पतालों में ऑक्सीजन की कमी ने सरकारों की नाकामी की पोल खोलकर रख दी है। अस्पताल में सांस दे एक एक कतरे के लिए हाहाकार मचा हुआ है। ना बेड बचे हैं और ना ही ऑक्सीजन की सप्लाई हो पा रही है, ऐसे वक्त में दुनिया के अलग अलग देश भारत की मदद करने के लिए हाथ बढ़ा रहे हैं। पाकिस्तान ने भी भारत को मदद का ऑफर दिया है। पाकिस्तान के प्रधानमंत्री इमरान खान ने ट्वीटर पर एकजुटता का संदेश देते हुए भारत का मदद करने की बात कही तो पाकिस्तान के विदेश मंत्री शाह महमूद कुरैशी ने ट्वीट कर कहा कि पाकिस्तान ने आधिकारिक तौर पर भारत को मदद की पेशकश की है। पाकिस्तान की पेशकश सराहनीय है लेकिन क्या पाकिस्तान भारत की मदद करने की स्थिति में है? क्योंकि पाकिस्तान से जो रिपोर्ट आ रही हैं उसके मुताबिक पाकिस्तान के अस्पतालों की स्थिति खुद खराब हो चुकी है। पाकिस्तान के अस्पताल भी कोरोना संक्रमितों की बढ़ती संख्या से भरने लगे हैं और अस्पतालों का कहना है कि एक हफ्ते बाद पाकिस्तान की भी वही स्थिति जो इस वक्त भारत की है।

पाकिस्तान में भी स्थिति खराब

पाकिस्तान में भी स्थिति खराब

पाकिस्तान के अस्पतालों की स्थिति भी कोरोना वायरस की वजह से बिगड़ने लगी है। पाकिस्तान के अस्पतालों के पास पहले से ही सुविधाओं का अभाव रहा है। लेकिन अब कोरोना संक्रमितों की तादाद बढ़ने से व्यवस्था चरमराने लगी है। पाकिस्तान की राजधानी इस्लामाबाद के अस्पतालों में कोरोना संक्रमितों की संख्या लगातार बढ़ रही है। इस्लामाबाद डिस्ट्रीक हेल्थ ऑफिसर जईम जिया के मुताबिक इस्लामाबाद में कोरोना वायरस संक्रमितों का आंकड़ा 9 प्रतिशत से ज्यादा बढ़ गया है। शनिवार को इस्लामाबाद में कोरोना के 463 नये मामले दर्ज किए गये हैं। जईम जिया के मुताबिक पिछले 4 हफ्तों से लगातार इतने ही कोरोना वायरस के मरीज मिल रहे हैं। इस्लामाबाद के तमाम अस्पतालों को मिलाकर कुल 836 कोरोना के बेड हैं, जिसे क्रिटिकल मरीजों के लिए रखा गया है, जिनमें से अब तक 525 बेड पर क्रिटिकल मरीजों की भर्ती हो चुकी है। यानि, अगर कोरोना वायरस का ग्राफ थोड़ा और बढ़ता है को इस्लामाबाद की भी ही स्थिति हो जाएगी जो इस वक्त दिल्ली की है। इस्लामाबाद के अस्पतालों में 116 वेंटिलेटर्स की व्यवस्था की गई है, जिनमें से 69 पर मरीजों को भर्ती किया गया है और नये केसेस में इजाफा होने से वेंटिलेटर्स की डिमांड बढ़नी शुरू हो चुकी है। पाकिस्तानी चैनल जियो न्यूज के मुताबिक इस्लामाबाद स्थिति आइसोलेशन हॉस्पीटल एंड इनफेक्सियस ट्रीटमेंट सेंटर में 105 बेड्स की व्यवस्था है, जिनमें से 90 बेड्स पर कोरोना के सीरियस मरीजों का इलाज चल रहा है। वहीं पाकिस्तान इंस्टीट्यूट ऑफ मेडिकल साइंस के पास 183 बेड्स हैं, जिनमें से 149 बेड्स पर क्रिटिकल मरीज भर्ती हैं।

पाकिस्तान में ऑक्सीजन की स्थिति

पाकिस्तान में ऑक्सीजन की स्थिति

पाकिस्तान के अस्पतालों में तेजी से कोरोना संक्रमितों की भर्ती हो रही है। जियो न्यूज की रिपोर्ट के मुताबिक पाकिस्तान इंस्टीट्यूट ऑफ मेडिकल साइंस के पास 21 वेंटिलेटर्स हैं, जिनमें से इस वक्त 10 वेंटिलेटर्स पर मरीज भर्ती हैं। वहीं, पाकिस्तान के पॉलिक्लिनिक अस्पतालों में पहले से तय ऑपरेशन्स को टाल दिया गया है। और 100 प्रतिशत वेंटिलेटर्स अभी इस्तेमाल में हैं। वहीं बात अगर पाकिस्तान के अस्पताल में ऑक्सीजन की स्थिति पर करें तो पाकिस्तान के पॉलिक्लिनिक अस्पतालों में ऑक्सीजन सप्लाई की व्यवस्था नहीं के बराबर है। ऑक्सीजन बेड्स की व्यवस्था काफी कम है। वहीं बात अगर पाकिस्तान के सरकारी अस्पतालों की बात करें तो 90 फीसदी से ज्यादा सरकारी अस्पतालों में ऑक्सीजन बेड्स की व्यवस्था नहीं है। ऐसे में पाकिस्तान के डॉक्टरों ने चेतावनी जारी की है कि अगर पाकिस्तान में क्रिटिकल मरीजों की तादाद बढ़ती है तो उनका अस्पताल आने से भी कोई फायदा नहीं है।

फ्रंटलाइन वर्कर्स भी सुरक्षित नहीं

फ्रंटलाइन वर्कर्स भी सुरक्षित नहीं

जियो न्यूज की रिपोर्ट के मुताबिक अस्पतालों की स्थिति तो खराब है ही इसके साथ ही अस्पतालों में काम करने वाले डॉक्टर और मेडिकल स्टाफ भी कोरोना वायरस से सुरक्षित नहीं हैं। इस्लामाबाद के पॉलिक्लिनिक अस्पताल में 46 मेडिकल स्टाफ कोरोना वायरस पॉजिटिव पाए गये हैं। जिनमें 17 नर्स, 27 पैरामेडिकल स्टाफ और 2 डॉक्टर शामिल हैं। पाकिस्तान के लिए सबसे चिंता की बात ये है कि कोरोना महामारी ने इस बार बच्चों को अपना शिकार बनाना शुरू कर दिया है। पाकिस्तान के नेशनल कमांड एंड ऑपरेशन सेंटर की रिपोर्ट के मुताबिक काफी ज्यादा संख्या में बच्चे कोरोना वायरस के शिकार होने लगे हैं। पाकिस्तान में एक साल से 10 साल के उम्र के बच्चों की कोरोना वायरस से मौत होनी शुरू हो गई है। नेशनल कमांड एंड ऑपरेशन सेंटर की रिपोर्ट के मुताबिक शनिवार को पाकिस्तान में एक साल से 10 साल की उम्र के 2 बच्चों की मौत हो गई। अप्रैल महीने में अब तक 7 बच्चों की मौत कोरोना वायरस की वजह से हो चुकी है। शनिवार को पाकिस्तान में सबसे ज्यादा लोगों की मौत कोरोना वायरस की वजह से हुई है। शनिवार को पाकिस्तान में कोरोना की वजह से 157 लोगों की मौत हो गई है, जिसके बाद पाकिस्तान में मौत का आंकड़ा बढ़तकर 16999 हो गया है। वहीं शनिवार को पाकिस्तान में शनिवार को 5908 लोग कोरोना वायरस का शिकार हुए हैं।

कोरोना से कराह रहा है भारत, इमरान खान ने जताई संवेदना, पाकिस्तानी अवाम मांग रही है दुआएंकोरोना से कराह रहा है भारत, इमरान खान ने जताई संवेदना, पाकिस्तानी अवाम मांग रही है दुआएं

English summary
Pakistan has extended a helping hand towards India but is Pakistan in a position to help India. The condition of Pakistan's hospitals is already bad.
देश-दुनिया की ताज़ा ख़बरों से अपडेट रहने के लिए Oneindia Hindi के फेसबुक पेज को लाइक करें
For Daily Alerts
तुरंत पाएं न्यूज अपडेट
Enable
x
Notification Settings X
Time Settings
Done
Clear Notification X
Do you want to clear all the notifications from your inbox?
Settings X
X