• search
क्विक अलर्ट के लिए
अभी सब्सक्राइव करें  
क्विक अलर्ट के लिए
नोटिफिकेशन ऑन करें  
For Daily Alerts

नेपाल PM ओली को सुप्रीम कोर्ट से झटका, संसद भंग किए जाने पर भेजा कारण बताओ नोटिस

|
Google Oneindia News

काठमाण्डू। Nepal Supreme Court: नेपाल की सियासत में चल रहा घमासान अब संसद से निकलकर सुप्रीम कोर्ट में पहुंच गया है। आज शुक्रवार को सुप्रीम कोर्ट में इस मसले पर सुनवाई हुई। जिसके बाद सुप्रीम कोर्ट ने नेपाल सरकार को संसद भंग करने पर कारण बताओ नोटिस जारी किया है।

KP Sharma Oli

नेपाल के प्रधानमंत्री केपी शर्मा ओली ने 20 दिसम्बर को कैबिनेट की बैठक बुलाकर संसद को भंग करने का प्रस्ताव राष्ट्रपति को भेज दिया था। इस प्रस्ताव पर उसी दिन राष्ट्रपति बिद्या देवी भंडारी ने हस्ताक्षर कर संसद को भंग करने का आदेश जारी कर दिया था। इसके साथ ही देश में 30 अप्रैल और 10 मई को दो चरणों में मध्यावधि चुनाव कराए जाने की घोषणा भी कर दी गई थी।

संवैधानिक रूप से गलत
प्रधानमंत्री ओली के इस कदम को संवैधानिक रूप से गलत बताते हुए सुप्रीम कोर्ट में कई याचिकाएं डाली गईं। इनमें कहा गया जब तक संसद में सरकार बनाने की संभावना खत्म न हो जाए तब तक उसे भंग करने का संविधान में कोई प्रावधान नहीं है। ओली ने ऐसा करके संविधान के विरुद्ध कार्य किया है। इसके बाद नेपाल के सुप्रीम कोर्ट के मुख्य न्यायाधीश चोलेंद्र शमशेर राणा ने ने इस मामले पर आई 13 याचिकाओं को स्वीकार करते हुए संवैधानिक पीठ के पास भेज दिया।

शुक्रवार को मुख्य न्यायाधीश की अध्यक्षता वाली पांच जजों की संवैधानिक पीठ ने मामले की सुनवाई की। सुनवाई के बाद पीठ ने नेपाल की सरकार को संसद भंग करने के लिए कारण बताओ नोटिस जारी कर जवाब मांगा है। इसमें सरकार से संसद भंग करने के फैसले पर लिखित जवाब पेश करने को कहा गया है। मामले की अगली सुनवाई 15 जनवरी को की जाएगी।

राष्ट्रपति कार्यालय से भी जवाब
इसके साथ ही संवैधानिक पीठ ने राष्ट्रपति कार्यालय से भी स्पष्टीकरण मांगा है। पीठ ने संसद को भंग करने के लिए सरकार की सिफारिश की मूल प्रति कोर्ट में जमा करने को कहा है। राष्ट्रपति कार्यालय से भी इस सिफारिश को प्रमाणित करने के निर्णय की प्रति प्रस्तुत करने को कहा गया है।

ओली को पार्टी में झटका
नेपाल के प्रधानमंत्री के इस कदम का उनकी ही पार्टी में विरोध शुरू हो गया है। पार्टी के दूसरे नेता पुष्प कमल दहल प्रचंड और माधव कुमार नेपाल वाले धड़े ने उन्हें पार्टी के अध्यक्ष पद से हटाने के साथ ही संसदीय दल के नेता से भी हटा दिया था। ओली की जगह प्रचंड को पार्टी के संसदीय दल का नेता चुना गया।

नेपाल में सियासी घमासान, ओली को हटाकर प्रचंड बने सत्ताधारी पार्टी के संसदीय दल के नेतानेपाल में सियासी घमासान, ओली को हटाकर प्रचंड बने सत्ताधारी पार्टी के संसदीय दल के नेता

English summary
nepal parliament dissolve news supreme court send show cause notice kp sharma oli
देश-दुनिया की ताज़ा ख़बरों से अपडेट रहने के लिए Oneindia Hindi के फेसबुक पेज को लाइक करें
For Daily Alerts
तुरंत पाएं न्यूज अपडेट
Enable
x
Notification Settings X
Time Settings
Done
Clear Notification X
Do you want to clear all the notifications from your inbox?
Settings X
X