• search
क्विक अलर्ट के लिए
अभी सब्सक्राइव करें  
क्विक अलर्ट के लिए
नोटिफिकेशन ऑन करें  
For Daily Alerts

Chandrayaan-2: लैंडर विक्रम को लेकर NASA ने दिया बड़ा बयान, जानिए क्या कहा...

|

वाशिंगटन। चंद्रयान-2 को लेकर अमेरिकी स्पेस एजेंसी नासा की ओर से एक बड़ा बयान सामने आया है, नासा ने कहा है कि इसरो के लैंडर विक्रम के बारे में अभी पता नहीं चला है, हाल ही में चांद के पास से गुजरे हमारे आर्बिटर ने मून की जो तस्वीरें रिलीज की थीं, उसमें लैंडर विक्रम को लेकर कोई जानकारी नहीं थी आपको बता दें कि 7 सितंबर को इसरो ने लैंडर विक्रम के साथ संपर्क टूटने से पहले चांद के दक्षिणी ध्रुव पर विक्रम की सॉफ्ट लैंडिंग का प्रयास किया था लेकिन ये कोशिश कामयाब नहीं हो पाई।

 लैंडर विक्रम के कोई सबूत नहीं मिले हैं: नासा

लैंडर विक्रम के कोई सबूत नहीं मिले हैं: नासा

नासा के लूनर रिकॉनिस्सेंस ऑर्बिटर(LRO) मिशन के प्रोजेक्ट साइंटिस्ट नोआ एडवर्ड पेट्रो ने पीटीआई को एक ईमेल किया है जिसमें उन्होंने लिखा है कि लूनर रिकॉनिस्सेंस ऑर्बिटर 14 अक्टूबर को चंद्रयान-2 की खोज के लिए चांद के उसी हिस्से से गुजरा, जहां इसरो अपना लैंडर उतारने की कोशिश कर रहा था, इस दौरान हमने कुछ तस्वीरें भी लीं लेकिन नई तस्वीरों में हमें लैंडर विक्रम के कोई सबूत नहीं मिले हैं।

यह पढ़ें: सिद्धू की पत्नी ने कांग्रेस को कहा Good bye, पति के लिए भी कही बड़ी बात

17 सितंबर को नासा ने भेजी थी तस्वीरें

17 सितंबर को नासा ने भेजी थी तस्वीरें

हालांकि नासा की ओर से लैंडर विक्रम को लेकर संभावनाओं से इनकार नहीं किया है। उन्होंने कहा कि ये संभव है कि लैंडर विक्रम किसी चांद के अंधेरे वाले हिस्से में हो या खोज क्षेत्र के बाहर स्थित हो। आपको बता दें कि 17 सितंबर को अमेरिकी स्पेस एजेंसी नासा ने लैंडिंग साइट की तस्वीरें जारी करते हुए कहा था कि चंद्रयान-2 के लैंडर की 'हार्ड लैंडिंग' हुई थी, जब चांद की सतह पर सॉफ्ट लैंडिंग के प्रयास के दौरान उसका संपर्क टूट गया था।

इसरो

इसरो

गौरतलब है कि 7 सितंबर को इसरो के मिशन चंद्रयान-2 के तहत विक्रम लैंडर को चांद की सतह पर सॉफ्ट लैंडिंग कराने की कोशिश की गई थी। लेकिन चांद की सतह से कुछ ही दूरी पर इसका इसरो से संपर्क टूट गया, जिसके चलते भारत चांद पर ऐतिहासिक छलांग लगाने से चंद कदम दूर रह गया था। इसके बाद से ही इसरो की टीम लगातार इसका अध्ययन कर रही है कि कहां पर चूक हुई जिसके कारण लैंडर चांद की सतह पर सॉफ्ट लैंडिंग नहीं कर सका और उसका संपर्क टूट गया।

यह पढ़ें: Jamia Millia यूनिवर्सिटी में जमकर हुई मारपीट-तोड़फोड़, छात्रों ने लगाया प्रशासन पर गुंडों से पिटवाने का आरोप

देश-दुनिया की ताज़ा ख़बरों से अपडेट रहने के लिए Oneindia Hindi के फेसबुक पेज को लाइक करें
English summary
NASA has found no evidence of Chandrayaan-2’s Vikram lander in the images captured during a latest flyby of its Moon orbiter of the lunar region where India’s ambitious mission attempted a soft landing, the US space agency said.
For Daily Alerts
तुरंत पाएं न्यूज अपडेट
Enable
x
Notification Settings X
Time Settings
Done
Clear Notification X
Do you want to clear all the notifications from your inbox?
Settings X
X