• search
क्विक अलर्ट के लिए
अभी सब्सक्राइव करें  
क्विक अलर्ट के लिए
नोटिफिकेशन ऑन करें  
For Daily Alerts

मोदी को 'ग्लोबल गोलकीपर अवॉर्ड' पर विवादों का साया

By अपर्णा अलूरी

नरेंद्र मोदी
Getty Images
नरेंद्र मोदी

भारत के प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी की अमरीका के हाई-प्रोफाइल यात्रा में न्यूयॉर्क की एक शाम भी शामिल है, जहां उन्हें एक प्रमुख सरकारी योजना के लिए सम्मानित किया जाएगा. हालांकि यह सेलिब्रेटी समारोह विवादों से घिर गया है.

यह सब एक ट्वीट से शुरू हुआ.

एक केन्द्रीय मंत्री ने दो सितंबर को घोषणा की कि बिल गेट्स एंड मेलिंडा गेट्स फाउंडेशन खुले में शौच मुक्त करने के मोदी सरकार के प्रयासों के लिए प्रधानमंत्री को सम्मानित करेगी. इसे स्वच्छ भारत अभियान या क्लीन इंडिया मिशन के नाम से जाना जाता है. इस अभियान के तहत पूरे देश भर में स्वच्छता में सुधार के वास्ते ग़रीबों के लिए लाखों शौचालयों को निर्माण किया गया है.

केंद्रीय मंत्री जितेंद्र सिंह ने ट्वीट किया, ''एक और अवॉर्ड, प्रत्येक भारतीय के लिए गर्व करने का एक और मौक़ा. प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी की मेहनत और उनके प्रगतिशील क़दम को पूरी दुनिया में सराहा गया. मोदी अपने अगले अमरीकी दौरे पर बिल एंड मेलिंडा गेट्स फाउंडेशन से स्वच्छ भारत अभियान के लिए अवॉर्ड लेंगे.''

लेकिन ऐसा लगता है कि इस पुरस्कार पर संपादकीय आलेखों के कारण विवादों का साया गहरा गया. इस पुरस्कार की घोषणा के बाद कम से कम तीन नोबेल पुरस्कार विजेताओं ने इस पर आपत्ति व्यक्त की और एक लाख से अधिक लोगों ने इसका विरोध किया. साथ ही ब्रिटेन के एशियाई अभिनेताओं जमीला जमील और ​रिज़ अहमद जैसे सेलिब्रिटी भी इस कार्यक्रम में शामिल नहीं होंगे. हालांकि, ऐसा क्यों किया गया इसका कारण नहीं बताया गया है.

@DRJITENDRASINGH

बिल ऐंड मेलिंडा गेट्स फाउंडेशन ने मोदी को 'ग्लोबल गोलकीपर अवॉर्ड' देने की घोषणा की जिसके बाद ज़मीन से जुड़े जाने-माने राजनीतिक और सामाजि​क कार्यकर्ताओं ने बड़े पैमाने पर इसकी कड़ी आलोचना की.

मोदी को एक पुरस्कर क्यों दिया जा रहा है?

लाखों भारतीय खुले में शौच करने इसलिए जाते हैं क्योंकि उनके पास शौचालय या पानी की सुविधा नहीं है. यह एक सतत समस्या रही है जिससे मिट्टी और पानी प्रदूषित और बीमारी होती है. साथ ही रात में शौच करने के लिए अकेले जाने के कारण महिलाओं और लड़कियों के लिए ख़तरा रहता है.

ऐसे में मोदी ने 2014 में महत्वाकांक्षी वादा​ किया कि वह इस प्रचलन को समाप्त कर देंगे. इसने भारत और दुनिया का ध्यान अपनी ओर आकर्षित किया. और यह लक्ष्य हासिल करने के लिए निश्चित रूप से मोदी के सबसे प्रिय अभियान क्लीन इंडिया मिशन को शुरू किया गया.

वह और उनकी भारतीय जनता पार्टी के अगुवाई वाली सरकार ने इसे सफल माना और इस साल के चुनाव में इसे मुद्दा बनाया गया. मोदी ने दावा किया कि इस कार्यक्रम के तहत 90 प्रतिशत भारतीयों के पास अब एक शौचालय है जो उनके प्रधानमंत्री बनने के समय केवल 40 प्र​तिशत लोगों के पास था.

बिल ऐंड मेलिंडा गेट्स फाउंडेशन ने बीबीसी को एक बयान में बताया कि संयुक्त राष्ट्र के सतत विकास लक्ष्यों को हासिल करने की दिशा में भारत स्वच्छता को बेहतर बनाने की दिशा में प्रगति कर रहा है. इसके लिए मोदी का सम्मान दिया जा रहा है.

यह योजना​ कितनी सफल रही है?

दरअसल, यह इस बात पर निर्भर करता है कि आप इसका मूल्यांकन कैसे करते हैं.

खुले में शौच
AFP
खुले में शौच

यह सच है कि शौचालयों की संख्या में उल्लेखनीय बढ़ोतरी हुई है. हालांकि बीबीसी ने जाँच में पाया कि इनमें से कई काम नहीं कर रहे हैं या कई कारणों से इसका इस्तेमाल नहीं हो पा रहा है. जिसमें जलापूर्ति की कमी से लेकर ख़राब रखरखाव और सांस्कृतिक आदतें शामिल है. हाल में हुए शोध में पाया गया कि उत्तर भारत के कुछ हिस्सों में लोग खुले में शौच जाना पसंद करते हैं क्योंकि उन्हें यह ज्यादा "सुविधाजनक" लगता है या उन्हें "एक संपूर्ण, स्वस्थ सदगुणी जीवन" का हिस्सा लगता है.

एक दूसरी आम समस्या है कि सरकार ग़रीब लोगों को अपने घरों में शौचालय बनाने के लिए आर्थिक सहायता देती है. लेकिन जब क़िस्तों में सहायता मिलती है तो इसमें एक साल से अधिक का समय लग जाता है. ऐसे में कई ग़रीब लोगों को इसे बनवाने के लिए कई महीनों को इंतज़ार करना पड़ता है.

स्वच्छता में सुधार के लिए काम कर रहे एक ग़ैर-सरकारी समूह महिला हाउसिंग सेवा ट्रस्ट की सिराज हिरानी ने बताया, "कई लाभार्थियों ने निर्माण शुरू किया लेकिन इसे पूरा नहीं किया." एक वरिष्ठ कार्यक्रम प्रबंधक के तौर पर हिरानी ने क्लीन इंडिया योजना को लागू करने के लिए ग्रामीण और शहरी सरकारों के साथ मिल कर काम किया है.

उन्होंने बताया कि उनकी दूसरी बड़ी समस्या यह है कि एक सीवर डालने के लिए भुगतान नहीं किया जाता है. इसका अक्सर मतलब होता है कि ग्रामीण इलाक़ों में लोग निकासी के लिए इमारत में सोखता बनवाते हैं. इससे उन्हें डर रहता है कि तटीय इलाक़ों में जहां जलस्तर ​अधिक होता है, वहां आख़िरकार भूजल स्तर और मृदा प्रदूषित होगी.

हिरानी ने बताया कि खुले में शौच में उल्लेखनीय कमी आई है लेकिन बड़ा सवाल है कि हम इसे कैसे जारी रख सकते हैं.

राजनीतिक कार्यकर्ता शिरीन एबादी
Getty Images
राजनीतिक कार्यकर्ता शिरीन एबादी

उन्होंने बताया कि सरकार के आंकड़े में इसके वास्तविक इस्तेमाल या व्यवहारिक बदलाव के बजाय बड़ी सफलता के तौर पर व्यापक पैमाने पर शौचालय बनाए जाने की बात कही गई है. उन्होंने कहा कि क्लीन इंडिया मिशन एक बड़ा विचार है जिसके कारण खुले में शौच पर चर्चा हुई और इसके कारण मोदी पुरस्कार के हक़दार हैं. लेकिन उन्हें डर है कि इस पुरस्कार को एक जीत के तौर पर देखा जा सकता है.

उन्होंने कहा, "ख़ुद को सा​बित करना ठीक है लेकिन आपको ख़ुद को साबित करने के दौरान सुधार करते रहना चाहिए."

आलोचकों का क्या कहना है?

आलोचकों का मानना है कि अपने गृह राज्य में 2002 में हिंसा के लिए उनके कथित संलिप्तता के लिए एक समय मोदी को कई साल तक अमरीका में प्रवेश रोक दिया गया था.

प्रधानमंत्री भारत में ध्रुवीकरण का एक चेहरा हैं जिन्हें कई लोग प्यार करते हैं लेकिन उन पर अक्सर अल्पसंख्यकों के ख़िलाफ़ विभाजनकारी बयान और हिंसा का आरोप भी लगता रहा है. आलोचक उनके भारत प्रशासित कश्मीर में सुरक्षा लॉकडाउन का हवाला देते हैं. सरकार द्वारा जम्मू-कश्मीर से विशेष राज्य का दर्जा वापस लेने के बाद पाँच अगस्त से वहां लॉकडाउन की स्थिति है.

वहां हज़ारों राजनेताओं, कार्यकर्ताओं, व्यापारियों और प्रदर्शनकारियों को हिरासत में लिया गया है और व्यापक पैमाने पर संचार सेवा ध्वस्त हो रखी है. साथ ही सुरक्षा बलों पर दुर्व्यवहार और अत्यधिक बल प्रयोग के आरोप हैं.

एक सामाजिक और राजनीतिक जानकार शिव विश्वनाथन ने कहा कि पुरस्कार का समय ऐसा है जब कश्मीर एक मुद्दा है जो ना केवल कश्मीरियों को बल्कि हमें परेशान कर रहा है. उन्होंने कहा, "कश्मीर में ट्रॉमा क्लीनिकों की बहुत ज़रूरत है. क्या गेट्स फाउंडेशन ​अधिकारों के नाम पर इसे स्थापित करेगी. क्या मोदी प्रशासन इसकी अनुमति देगी."

बिल गेट्स
AFP
बिल गेट्स

विश्वनाथन ने कहा कि इस तथ्य को भी नज़रअंदाज़ करना मुश्किल है कि बिल गेट्स जैसे परोपकारी मोदी सरकार की वैधता और झूठे दिखावे को बढ़ावा देते हैं. इसके बारे में निष्कपट कैसे हुआ जा सकता है.

मोदी ने आलोचनाओं पर जवाब नहीं दिया. हालांकि उन्होंने पुरस्कार के लिए फाउंडेशन को धन्यवाद दिया.

नरेन्द्र मोदी ने ट्वीट कर बिल और मेलिंडा गेट्स को 2019 का ग्लोबल गोलकीपर अवॉर्ड देने पर धन्यवाद दिया. उन्होंने कहा कि गांधी जी के स्वच्छ भारत के सपने को साकार करने के लिए भारत ने पिछले पांच सालों में सफाई और स्वच्छता बेहतर करने के लिए कई प्रयास किए हैं.

फाउंडेशन ने क्या कहा?

बिल गेट्स एंड मेलिंडा गेट्स फाउंडेशन ने कभी भी अधिकारिक तौर पर नहीं कहा कि मोदी को 2019 का ग्लोबल गोलकीपर अवॉर्ड दिया जाएगा. और अवार्ड वेबसाइट ने कहा है कि इस साल के विजेताओं का नाम समारोह में घोषित किया जाएगा.

बिल ऐंड मेलिंडा गेट्स फाउंडेशन
Reuters
बिल ऐंड मेलिंडा गेट्स फाउंडेशन

हालांकि​, आलोचनाओं के कारण उसने यह स्वीकार किया कि मोदी वास्तव में पुरस्कार प्राप्तकर्ताओं में से एक हैं.

मोदी पहले राजनेता नहीं हैं जिन्हें यह पुरस्कार दिया जा रहा है. इससे पहले लीबिया के पूर्व राष्ट्रपति एलेन जानसन सरलीफ को 2017 में यह पुरस्कार दिया गया था.

मोदी को सम्मानि​त करने के अपने निर्णय का बचाव करते हुए फाउंडेशन ने अपने बयान में बीबीसी से कहा कि स्वच्छता पर उल्लेखनीय ध्यान नहीं दिया जाता है और कई सरकारें इस पर बात करने की इच्छुक नहीं रहती है,ऐसे में इसका समाधान आसान नहीं होता है.

फाउंडेशन ने कहा​, "स्वच्छ भारत मिशन से पहले भारत में 50 करोड़ से अधिक लोगों के पास शौचालय नहीं थे और अब उनमें से अधिकांश इसके दायरे में आ गए हैं. अभी भी लंबा रास्ता तय करना है, लेकिन भारत में स्वच्छता अभियान के प्रभाव दिख रहे हैं."

उन्होंने एक बयान में कहा, "स्वच्छ भारत मिशन दुनिया भर के अन्य देशों के लिए एक उदाहरण के तौर पर काम कर सकता है, जिन्हें दुनिया भर में ग़रीब लोगों के लिए स्वच्छता में सुधार करने की तत्काल ज़रूरत है."

BBC Hindi
देश-दुनिया की ताज़ा ख़बरों से अपडेट रहने के लिए Oneindia Hindi के फेसबुक पेज को लाइक करें
English summary
Modi faces controversy over 'Global Goalkeeper Award'
तुरंत पाएं न्यूज अपडेट
Enable
x
Notification Settings X
Time Settings
Done
Clear Notification X
Do you want to clear all the notifications from your inbox?
Settings X
X