• search
क्विक अलर्ट के लिए
अभी सब्सक्राइव करें  
क्विक अलर्ट के लिए
नोटिफिकेशन ऑन करें  
For Daily Alerts

जानिए, जॉर्ज फ्लॉयड और उसकी मौत के बारे में सब कुछ, आखिर क्यों जल उठा अमेरिका?

|

नई दिल्ली। गत 25 मई का ही वह दिन था जब मिनेसोटा अस्पताल में जॉर्ज फ्लॉयड नामक एक अश्वेत व्यक्ति की पुलिस हिरासत में मौत हो गई और जिसके लिए एक क्रूर अमेरिकी पुलिस को जिम्मेदार माना गया। क्रूर अमेरिकी पुलिस अधिकारी को मृतक जॉर्ज फ्लॉयड की गर्दन पर अपने घुटने टिकाए वायरल हुए एक वीडियो में देखा गया था।

usa

घटना के लिए जिम्मेदार ठहराए जा रहे मिनियापोलिस पुलिस विभाग के अधिकारी डेरेक चौविन करीब 9 मिनट तक जॉर्ज फ्लॉयड की गर्दन पर अपना घुटना टिकाए रखता है, जिससे सांस लेने की तकलीफ से गुजर रहा जॉर्ज फ्लॉयड वीडियो में चिल्लाता हुआ कहता है, मैं सांस नहीं ले सकता हूं और कुछ ही देर बाद ही उसकी हालत खराब हो जाती है और अस्पताल ले जाते हुए उसकी दर्दनाक मौत हो जाती है।

जार्ज फ्लॉयड मौतः भारतीय रेस्त्रां मालिक की प्रतिक्रिया इंटरनेट पर जीत रही है लोगों का दिल

    USA Protest: क्या है ANTIFA, जिसपर President Donald Trump ने लगाया Ban | वनइंडिया हिंदी

    बाद में मिनियापोलिस पुलिस विभाग द्वारा जारी एक बयान में 46 वर्षीय जॉर्ज फ्लॉयड की मौत को एक चिकित्सीय घटना में हुई मौत करार दिया जाता है, लेकिन डेरेक चौविन की क्रूरता के वायरल हुए वीडियो अंततः उसे थर्ड डिग्री और हत्या के आरोप में आरोपित करवा ही देते हैं, जिसे अब गिरफ्तार कर लिया गया है और अब उसके अपराधों की जांच भी शुरू हो चुकी है।

    usa

    अमेरिका: व्हाइट हाउस तक पहुंची हिंसा की आग, राष्ट्रपति ट्रंप ने कहा- जॉर्ज फ्लॉयड को मिलेगा न्याय

    अश्वेत जॉर्ज फ्लॉयड की हृदयविदारक मौत की घटना के विरोध में पूरे अमेरिका में व्यापक प्रदर्शन हुए और इसमें कोई संदेह नहीं कि इस घटना ने लोगों को एरिक गार्नर की याद दिला दी होगी, जिसकी वर्ष 2014 में NYPD अधिकारियों के हाथों क्रूर मौत हुई थी, जो कि ब्लैक लाइव्स मैटर आंदोलन का एक प्रमुख तारीख बन गया था।

    usa

    आखिर कौन हैं जॉर्ज फ्लॉयड, जिसके लिए करीना कपूर ने मांगा इंसाफ, शेयर की ये दर्दनाक तस्वीर

    इससे पू्र्व फरवरी में जॉगिंग के दौरान गोली लगने से मारे गए एक 25 वर्षीय अश्वेत व्यक्ति की मौत पर भी लोगों द्वारा खूब नाराजगी जताई गई थी और उसका दर्द अभी भी अमेरिका में लोगों के जह्न में बिल्कुल ताजा है।

    अमेरिका में हिंसा के बीच बराक ओबामा बोले- जॉर्ज फ्लॉयड को पुलिस दिलाए इंसाफ

    जांच प्रक्रिया में फर्जीवाड़ा रोकने के लिए पुलिस को बुलाया गया

    जांच प्रक्रिया में फर्जीवाड़ा रोकने के लिए पुलिस को बुलाया गया

    पुलिस के एक बयान के अनुसार आरोपी अधिकारी चौविन कप फूड्स ग्रॉसरी स्टोर में एक जालसाजी की प्रक्रिया की रिपोर्ट पर कार्रवाई कर रहे थे और उन्हें सलाह दी गई कि संदिग्ध एक नीली कार में बैठा था, जिसे काफी प्रभावशाली बताया गया था। जब अधिकारी वहां पहुंचे, तो उनकी रिपोर्ट के अनुसार उन्होंने अपनी कार में बैठे फ्लॉयड को कार से बाहर निकलने का आदेश दिया।

    पुलिस ने कहा, उसने जालसाज़ी के लिए 20 डॉलर के नकली बिल पेश किया

    पुलिस ने कहा, उसने जालसाज़ी के लिए 20 डॉलर के नकली बिल पेश किया

    रिपोर्ट के अनुसार फ्लॉयड ने तब शारीरिक रूप से गिरफ्तारी का विरोध किया। पुलिस का कहना है कि हथकड़ी पहनाने के बाद ही उन्हें एहसास हुआ कि वह किसी मेडिकल समस्या से पीड़ित है, जिसके तुरंत बाद एम्बुलेंस बुलाया गया और हेनेपिन काउंटी मेडिकल सेंटर पहुंचने के कुछ समय में ही उसकी मौत हो गई। हालांकि स्टार ट्रिब्यून ने बाद में बताया कि जॉर्ज फ्लॉयड की जालसाज़ी में 20 डॉलर के एक नकली बिल का उल्लेख किया गया है, जिसे फ्लॉयड ने कथित रूप से शराब खरीदने के लिए इस्तेमाल किया था।

    फ्लॉयड के हमले की प्रारंभिक फुटेज और घटना की रिपोर्ट में दिखा अंतर

    फ्लॉयड के हमले की प्रारंभिक फुटेज और घटना की रिपोर्ट में दिखा अंतर

    फिल्मकार रहीं दरनेला फ़्रेज़ियर ने घटना के प्रारंभिक फुटेज को फिल्माया था, जो पूरी तरह से पुलिस की रिपोर्ट से गायब था। उन्होंने बताया जब वह घटनास्थल में पहुंची थीं तो फ्लॉयड पहले से ही जमीन पर था। उसने एक फेसबुक वीडियो में कहा कि पुलिस उसके गर्दन को नीचे की ओर दबा रही थी और वह दर्द से रो रहा था। उसने आगे कहा कि उसका चेहरा जमीन से इतना सख्त दबाया गया था कि उसकी नाक से खून बह रहा था। जब यह सब हो रहा था तो घटनास्थल के आसपास तेजी से भीड़ जमा हो गई। वीडियो फुटेज में दर्ज हुए ऑडियो में यह आसानी से सुना जा सकता है। कई लोगों ने फ़्लॉयड को चोट पहुंचाने से रोकने के लिए और उसकी नाड़ी की जांच करने के लिए पुलिस को कहा, क्योंकि फ्लॉयड हिल-डुल नहीं रहा था।

    मिनियापोलिस के मेयर ने शहर के अश्वेत समुदाय से माफी मांगी

    मिनियापोलिस के मेयर ने शहर के अश्वेत समुदाय से माफी मांगी

    यही वजह था कि वीडियो सामने आने के बाद मिनियापोलिस के मेयर जैकब फ्रे को अपने फेसबुक पेज पर शहर के अश्वेत समुदाय से माफी मांगने के लिए उन्हें प्रेरित किया। उन्होंने मंगलवार सुबह अपने फेसबुक पोस्ट में लिखा था, अमेरिका में अश्वेत होना एक मौत की सजा नहीं होनी चाहिए। हमने देखा कि एक श्वेत अधिकारी ने अपने घुटने को एक अश्वेत की गर्दन को पांच मिनट के लिए दबाया...जब आप किसी को मदद के लिए पुकारते हुए सुनते हैं, तो आप मदद करने वाले होते हैं। यह अधिकारी सबसे बुनियादी, मानवीय अर्थों में विफल रहा।

    एक और वीडियो ने दिखाया कि फ़्लॉयड ने गिरफ्तारी का विरोध नहीं किया

    एक और वीडियो ने दिखाया कि फ़्लॉयड ने गिरफ्तारी का विरोध नहीं किया

    पिछले हफ्ते ही एक अन्य प्रत्यक्षदर्शी द्वारा घटनास्थल पर रिकॉर्ड किया गया एक और वीडियो वायरल होने लगा, जिसमें स्पष्ट रूप से दिखाया गया है कि फ्लॉयड ने शारीरिक रूप से गिरफ्तारी का विरोध नहीं किया, जो घटना की रिपोर्ट में पुलिस के दावे को खारिज कर देती है, जिसमें कहा गया था कि फ्लॉयड ने गिरफ्तारी का विरोध किया था। यह वीडियो घटनास्थल के पास मौजूद एक कार सवार प्रत्यक्षदर्शी द्वारा कार विंडशील्ड के माध्यम से लिया गया था, जिसमें दो अधिकारी जबरन फ्लॉयड को हथकड़ी लगाते हुए दिखते है, जबकि फ़्लॉइड खुद अपनी कार के साथ खड़े दिखाई देते हैं।

    स्थानीय रेस्तरां के निगरानी कैमरों में फ्लॉयड जमीन पर बैठा हुआ मिला

    स्थानीय रेस्तरां के निगरानी कैमरों में फ्लॉयड जमीन पर बैठा हुआ मिला

    एक स्थानीय रेस्तरां के मालिक द्वारा प्रदान किए गए निगरानी कैमरों के एक अन्य वीडियो से पता चलता है कि आगे क्या हुआ। उसमें दिखा कि फ्लॉयड जमीन पर बैठा हुआ है, फिर कुछ पुलिस अधिकारियों ने फ्लॉयड को खड़ा किया और उसे कैमरे से दूर ले जाने के लिए उसे एक दीवार के खिलाफ दबाया। फ़्लॉयड परेशान दिखता है, लेकिन यह बताने के लिए कोई आवाज़ नहीं है कि कैमरे पर कोई क्या कह रहा है।

    फ्लॉयड पर हमलावर पुलिस के खिलाफ जमा है शिकायतों का पुलिंदा

    फ्लॉयड पर हमलावर पुलिस के खिलाफ जमा है शिकायतों का पुलिंदा

    CNN के साथ एक साक्षात्कार में कप फूड्स के सह-मालिक महमूद अबुमयलेह ने कहा कि स्टोर के निगरानी कैमरों के फुटेज में भी फ़्लॉयड गिरफ्तारी का विरोध नहीं करता दिखता है। सबसे महत्वपूर्ण बात यह है कि जिस अधिकारी ने फ्लॉयड पर शारीरिक हमला किया, उसके खिलाफ शिकायतों का पूरा पुलिंदा जमा है। एनबीसी न्यूज ने बुधवार को बताया कि अधिकारी ने वीडियो में फ्लॉयड की गर्दन पर चाकू मारते हुए देखा।

    आरोपी पुलिस अधिकारी के आचरण के खिलाफ कई शिकायत दर्ज हैं

    आरोपी पुलिस अधिकारी के आचरण के खिलाफ कई शिकायत दर्ज हैं

    थर्ड डिग्री मौत के आरोपी डेरेक चौविन पुलिस विभाग के साथ 19 साल से है और इस दौरान कई बार उसके खिलाफ पुलिस-आचरण की शिकायतों दर्ज हुई हैं, जिसमें कई बल-प्रयोग की घटनाएं भी शामिल हैं, जिनमें से किसी भी एक मामले में अनुशासन का पालन नहीं किया गया था। यही नहीं, चौविन के खिलाफ दायर 18 शिकायतों में से केवल दो को अनुशासन के साथ बंद किया गया था।

    चौविन उन 6 अधिकारियों में से 1 था, जिसने कभी छुरा घोंपकर हमला किया था

    चौविन उन 6 अधिकारियों में से 1 था, जिसने कभी छुरा घोंपकर हमला किया था

    रिकॉर्ड बताते हैं कि 2006 में चौविन छह अधिकारियों में से एक था, जिन्होंने मिनियापोलिस के घर में छुरा घोंपकर हमला किया था। पुलिस के अनुसार संदिग्ध व्यक्ति वेन रेयेस नामक एक व्यक्ति एक बन्दूक से लैस था और कई अधिकारियों ने कई शॉट्स गोली मारकर उसे मार डाला था। जांच यह स्पष्ट नहीं करती है कि किन अधिकारियों ने गोलीबारी की या क्या मृतक रॉयस ने उन्हें किसी भी तरह से धमकी दी थी।

    2008 में चौविन ने एक 21 वर्षीय व्यक्ति को गोली मारकर हत्या कर दी थी

    2008 में चौविन ने एक 21 वर्षीय व्यक्ति को गोली मारकर हत्या कर दी थी

    वर्ष 2008 में पायनियर प्रेस ने बताया कि चौविन ने ईरा लैट्रेल टोलस नामक एक 21 वर्षीय व्यक्ति को गोली मारी थी, जिसने रिपोर्ट के अनुसार पुलिस द्वारा एक घरेलू हमले की टिप पर बुलाए जाने के बाद गिरफ्तारी का विरोध किया था। पुलिस के अनुसार हमलावर सशस्त्र नहीं था। उस वर्ष की शुरुआत में चौविन को बंदूक से लैस एक आदमी से जुड़े एक घटना में उसकी प्रतिक्रिया के लिए वीरता के विभागीय पदक से सम्मानित भी किया गया था। बताया जाता है इन घटनाओं में से प्रत्येक के दौरान और कई बार चौविन को छुट्टी पर भेजा गया था, जो कि एक मानक प्रक्रियाओं का हिस्सा है, यानी तब जब किसी पुलिस के आचरण की जांच चल रही हो।

    एक अन्य एमपीडी अधिकारी टू थो की फ़ाइल में दर्ज है छह शिकायतें

    एक अन्य एमपीडी अधिकारी टू थो की फ़ाइल में दर्ज है छह शिकायतें

    सीएनएन के अनुसार सोमवार को मौजूद एक अन्य एमपीडी अधिकारी टू थो की फ़ाइल में भी छह शिकायतें दर्ज है, जिनमें से पांच बिना अनुशासन के बंद थीं। टू थो भी एक अत्यधिक बल प्रयोग के मुकदमे में नामित है। वर्ष 2017 में लामर फर्ग्यूसन नामक एक व्यक्ति ने थाने पर मुकदमा दायर किया था और एक अन्य अधिकारी ने भी 2014 की गिरफ्तारी के दौरान उनके खिलाफ क्रूर और असामान्य व्यवहार की शिकायत की थी।

    सिटी ने 25,000 डॉलर चुकाकर फर्ग्युसन का मामला खत्म किया

    सिटी ने 25,000 डॉलर चुकाकर फर्ग्युसन का मामला खत्म किया

    सीएनएन रिपोर्ट के मुताबिक फर्ग्यूसन का कहना था कि वह और उसकी गर्भवती प्रेमिका जब अपनी स्क्वाड कार में अपनी दादी के घर से जा रहे थे, तो कथित रूप से उसे बताया गया कि पुलिस के पास उसकी गिरफ्तारी का वारंट था, जो कि असत्य था। फर्ग्यूसन ने कहा कि अधिकारियों ने उसे घूंसे और किक से उसके चेहरे और शरीर पर हमले किए। मार-पिटाई में उसकी चोटें इतनी गंभीर थीं, कि उसे अस्पताल में भर्ती होना पड़ा और अंतत बाद में 25,000 डॉलर चुकाकर सिटी ने फर्ग्युसन का मामला खत्म किया और दोषी सभी चार अधिकारियों को निकाल दिया गया है और चौविन को गिरफ्तार कर लिया गया।

    27 मई को चौविन को गिरफ्तार और आरोपित करने के लिए बुलाया गया

    27 मई को चौविन को गिरफ्तार और आरोपित करने के लिए बुलाया गया

    मिनियोपोलिस मेयर फ्रे ने गत 26 मई को घोषणा की कि चार आरोपी अधिकारियों को निकाल दिया गया था। मिनियापोलिस के पुलिस प्रमुख मेडारिया अर्राडोंडो ने उसी दिन एक प्रेस कॉन्फ्रेंस में कहा कि एफबीआई एक संभावित नागरिक-अधिकार उल्लंघन के रूप में मामले की जांच करेगी। 27 मई को फ्रे ने डेरेक चौविन को गिरफ्तार करने और आरोपित करने के लिए बुलाया। उन्होंने संवाददाता सम्मेलन में मांग की कि जॉर्ज फ्लॉयड को मारने वाला आदमी जेल में क्यों नहीं है? अगर आपने ऐसा किया था, या मैंने किया था, तो हम अभी सलाखों के पीछे होंगे।

    आरोपी डेरक चौविन को जॉर्ज फ्लॉयड की मौत में गिरफ्तार किया गया

    आरोपी डेरक चौविन को जॉर्ज फ्लॉयड की मौत में गिरफ्तार किया गया

    शुक्रवार को सार्वजनिक सुरक्षा आयुक्त जॉन हैरिंगटन ने पुष्टि की कि चौविन को जॉर्ज फ्लॉयड की मौत में गिरफ्तार किया गया था और हिरासत में लिया गया था। बाद में काउंटी अटॉर्नी ने घोषणा की कि उस पर थर्ड डिग्री मर्डर और मैन्सॉलॉटर का आरोप लगाया गया है।

    फ्लॉयड के परिवार ने एक स्वतंत्र शव परीक्षा का अनुरोध किया

    फ्लॉयड के परिवार ने एक स्वतंत्र शव परीक्षा का अनुरोध किया

    हेनेपिन काउंटी मेडिकल परीक्षक कार्यालय के प्रारंभिक ऑटोप्सी परिणामों ने इस विचार को चुनौती दी कि फ्लोयड की मृत्यु केवल एस्फिक्सियेशन से हुई थी। इसके बजाय चौविन के खिलाफ आपराधिक शिकायत में चिकित्सा परीक्षक ने कोरोनरी धमनी की बीमारी और उच्च रक्तचाप से ग्रस्त हृदय रोग सहित अंतर्निहित स्वास्थ्य स्थितियों का हवाला दिया था।

    फ्लॉयड की गर्दन पर टिके चौवीन के घुटने को उसकी मौत का नहीं माना गया

    फ्लॉयड की गर्दन पर टिके चौवीन के घुटने को उसकी मौत का नहीं माना गया

    नागरिक अधिकार अटॉर्नी बेंजामिन क्रम्प ने प्रारंभिक परिणामों के जारी होने के बाद सीबीएस न्यूज को बताया कि इस धारणा को परिवार और हम खारिज करते है कि लगभग नौ मिनट तक जॉर्ज की गर्दन पर पुलिस अधिकारी का घुटना उनकी मौत का अनुमानित कारण नहीं था। यही कारण था कि फ्लॉयड के परिवार ने एक स्वतंत्र शव परीक्षा का अनुरोध किया, जिसमें डॉ माइकल बैडेन और डॉ एलेशिया विल्सन को शामिल किया गया ताकि वे अपनी जांच कर सकें।

    गर्दन पर दबाव से फ्लॉयड के मस्तिष्क में रक्त का प्रवाह कम हो गया था

    गर्दन पर दबाव से फ्लॉयड के मस्तिष्क में रक्त का प्रवाह कम हो गया था

    सोमवार को क्रम्प ने घोषणा की कि बैडेन और विल्सन ने यह कहते हुए फ्लॉयड की मृत्यु के न्याय किया कि उसकी गर्दन पर दबाव से उसके मस्तिष्क में रक्त का प्रवाह कम हो गया, जबकि उसकी पीठ पर दबाव ने उसकी सांस लेने की क्षमता में हस्तक्षेप किया। सोमवार की शाम को मेडिकल परीक्षक के कार्यालय ने फ़्लॉएड की मौत को एक हत्याकांड बताते हुए आधिकारिक निष्कर्ष जारी किया, जिसमें कार्डियोपल्मोनरी अरेस्ट कॉम्पलीकेटिंग लॉ इन्फोर्समेंट सब्डुअल, रिस्टेंट और नेक कंप्रेशन फ्लॉयड की मौत के कारण के रूप में सूचीबद्ध है।

    देश-दुनिया की ताज़ा ख़बरों से अपडेट रहने के लिए Oneindia Hindi के फेसबुक पेज को लाइक करें
    English summary
    On Monday, Crump announced that Baden and Wilson judged Floyd's death by saying that the pressure on his neck reduced blood flow to his brain, while the pressure on his back interfered with his ability to breathe. . On Monday evening, the Medical Examiner's Office released the official findings citing Floyd's death as a homicide, with Cardiopulmonary Arrest Complicating Law Information Submission, Restant and Neck Compression listed as the cause of Floyd's death.
    For Daily Alerts
    तुरंत पाएं न्यूज अपडेट
    Enable
    x
    Notification Settings X
    Time Settings
    Done
    Clear Notification X
    Do you want to clear all the notifications from your inbox?
    Settings X
    X
    We use cookies to ensure that we give you the best experience on our website. This includes cookies from third party social media websites and ad networks. Such third party cookies may track your use on Oneindia sites for better rendering. Our partners use cookies to ensure we show you advertising that is relevant to you. If you continue without changing your settings, we'll assume that you are happy to receive all cookies on Oneindia website. However, you can change your cookie settings at any time. Learn more