• search
क्विक अलर्ट के लिए
नोटिफिकेशन ऑन करें  
For Daily Alerts

क्या 'इस्लामी ख़िलाफ़त' का सपना हक़ीक़त में मुमकिन है?

By Bbc Hindi

अलक़ायदा
Getty Images
अलक़ायदा

इस्लाम की बात करने वाले संगठन, यहाँ तक कि जिहादी सलाफ़ी समूह (अल-क़ायदा और इस्लामिक स्टेट जैसे संगठन) के उदय का गहरा और सीधा संबंध इस्लामी ख़िलाफ़त के मुद्दे से है.

ये और इस तरह के दूसरे कई संगठन इस्लामी ख़िलाफ़त, यानी तुर्की के उस्मानी साम्राज्य के पतन को एक बहुत बड़ी त्रासदी रूप में देखते हैं.

उन्हें लगता है कि इस घटना के बाद दुनिया का मुस्लिम समाज निर्बल और बदहाल हो गया.

इसी कारण इन तमाम संगठनों ने इस्लामी ख़िलाफ़त की पुनर्स्थापना को अपना मुख्य लक्ष्य बनाया है.

उनका मानना है कि ख़िलाफ़त की स्थापना के साथ मुसलमान अपना खोए हूए सुनहरे दिन फिर से हासिल कर लेंगे.

इन संगठनों में अफ़ग़ानिस्तान में उभर रहा इख़्वानुल मुसलेमीन सब से अधिक सक्रिय और अहम है क्योंकि इसी तरह दूसरे संगठन जैसे हिज़बुत तहरीर और सलाफ़ी आंदोलन इख़वान को ही अपना प्रेरणा स्रोत मानते हैं.

अलक़ायदा
Getty Images
अलक़ायदा

साठ के दशक में...

19वीं सदी के 60 के दशक में सैयद क़ुतुब शहीद के इस्लामवादी लेखों का प्रचार प्रसार के साथ साथ इख़वान के अंदर कुछ ऐसे समूहों का उदय हुआ जो बाद में सैयद क़ुतुब के मतों के अनुयायी हो गए.

सैयद क़ुतुब को ही ये लोग अपना आदर्श मानने लगे. उस दौर ऐसे गुटों का विस्तार भी काफ़ी हुआ.

ये लोग सैयद क़ुतुब के मतों के अनुसरण में तत्कालीन इस्लामी समाज को अज्ञानी, पथभ्रष्ट मानते थे और उनका कहना था कि दोबारा मूल इस्लाम की और लौटना पड़ेगा जिसके लिए इस्लामी ख़िलाफ़त की पुनर्स्थापना ही एक मात्र रास्ता है.

जब मिस्र के राष्ट्रपति नासिर ने सैयद क़ुतुब और कई और लोगों की एक साथ हत्या कर दी तो इख़वान के अंदर उनके अतिवादी विचारधारा के बहुत अधिक मानने वाले बढ़ गए और इख़वान के अंदर मध्यम मार्ग वाले विचार के लोग कमज़ोर पड़ गए.

इसी तरह अल-क़ायदा और खुद को इस्लामिक स्टेट कहने वाला संगठन भी सैयद क़ुतुब के विचार से बहुत प्रभावित हैं.

इस तमाम बहस के बाद अब सवाल ये पैदा होता है कि क्या समकालीन हालात में इस्लामी ख़िलाफ़त (जिसे कभी-कभी इस्लामी हुकूमत भी कहते हैं) की फिर से स्थापना संभव है?

चरमपंथ
Getty Images
चरमपंथ

'इस्लामी ख़िलाफ़त' का आकर्षण

हक़ीक़त तो ये है कि इस्लामी ख़िलाफ़त का सपना बहुत ही मीठा और आकर्षण भरा है.

अभी तक इस सपने ने बहुत से लुच्चे लपाड़े किस्म के मुसलमान नौजवानों को अपनी ओर आकर्षित भी किया है.

इस्लामवादी तत्व इस नतीजे पर पहूंच गए लगते हैं कि अगर इस्लामी ख़िलाफ़त का झंडा लेकर आगे बढ़ें तो लोगों को अपने साथ ला सकेंगे और समाज में प्रभाव भी फैला सकेंगे.

इस्लामवादी विचारक अपने इस विचार का खूब प्रचार प्रसार कर रहे हैं कि 'ख़िलाफ़त' मूल इस्लाम है और इसका विरोध करने वाले इस्लाम से दग़ा करने वाले हैं और इस्लाम के दुश्मन हैं.

साथ ही ये इस्लामवादी विचारक ये भी कहते हैं कि इस्लाम का 'स्वर्ण युग' और उसका दबदबा ख़िलाफ़त के कारण ही था और आज के मुसलमानों का पिछड़ापन ख़िलाफ़त नहीं रहने के कारण ही है.

इस्लामी
Getty Images
इस्लामी

'इस्लामी एकता'

इन विचारकों का ये भी मत है कि इस्लामी ख़िलाफ़त से पहले इस्लामी एकता हासिल करना ज़रूरी है.

वे मानते हैं कि इस्लामी दुनिया की भौगोलिक और सांस्कृतिक भिन्नता में एकता ही इस्लाम की शक्ति है और इसी पर इस्लामी साम्राज्य की मज़बूती है.

इस्लामी ख़िलाफ़त के पक्षधर ये भी मानते हैं कि ख़िलाफ़त ही के कारण मुसलमानों ने क्रूसेड्स में पश्चिम की शक्ति को पराजित किया था और खोए हुए अपने भू-भाग को दोबारा हासिल किया था.

और अगर अब भी चाहें तो इस्लामी ख़िलाफ़त की दोबारा बहाली कर के पश्चिम के वर्चस्व से बाहर आ सकते हैं.

लेकिन 'इस्लामी ख़िलाफ़त' के सपने का साकार होना संभव नहीं है.

क़ाबुल
Getty Images
क़ाबुल

आधुनिक राष्ट्र-राज्य

आज की वास्तविक परिस्थिति से ये ज़ाहिर है कि इस्लामी ख़िलाफ़त की दोबारा बहाली संभव नहीं है और जो लोग इस कोशिश में लगे हैं, वे हवा में सोचते हैं.

आधुनिक राष्ट्र-राज्य की अवधारणा के साथ, राज्य की स्थापना के मापदंड में भी बदलाव आया है. इसमें सबसे अहम है कि राज्य के पास एक निश्चित भू-भाग हो लेकिन वहीं धर्म बहुत कम महत्व का रह गया है.

समकालीन समाज का ताना बाना पुराने ज़माने के समाज की रूपरेखा से पूरी तरह से अलग है. इसलिए जो इस ख़याल में रहते हैं कि इस्लामी साम्राज्य की दोबारा स्थापना होगी वो अतीत में जी रहे हैं.

मुस्लिम जगत की समस्याएं

आज अंतरराष्ट्रीय संबंध आपसी लाभ पर आधारित हैं न कि धार्मिक निष्ठा और भावना पर.

एक महत्वपुर्ण बिंदु ये भी है कि आज का मुस्लिम जगत अलग-अलग मतों को मानने वालों और समूहों में बंटा हुआ है.

और अगर इनके बीच एकरूपता थोपी जाएगी तो आपस में युद्ध की आग भड़क सकती है जिससे मुस्लिम जगत की समस्याएं और बढ़ेंगी.

एक और महत्वपूर्ण दिक्कत ये है कि इस्लामी ख़िलाफ़त के विचारकों और समर्थकों में भी वैचारिक एकता नहीं है.

एक समूह का मत है कि इस्लामी ख़िलाफ़त का उद्देश्य जिहाद, युद्ध और काफ़िरों की ज़मीन पर क़ब्ज़ा करना है, जबकि दूसरे समूह का मानना है कि इस्लामी ख़िलाफ़त के अंदर केवल इस्लामी क़ानून का लागू करना भर उद्देश्य है.

क़ाबुल
Getty Images
क़ाबुल

सियासी आज़ादी की ज़मानत

इतना ही नहीं एक ऐसा भी समूह है जो चाहता है कि इस्लामी ख़िलाफ़त एक ऐसी हुकूमत क़ायम करेगी जो सियासी आज़ादी की ज़मानत भी देगी और व्यक्ति कि आज़ादी का भी सम्मान करेगी.

'इस्लामी ख़िलाफ़त' के परिभाषा में जो मतभेद हैं, उसका कारण ये है कि इसके विचारक अब तक इस्लामी रज्य के संचालन पर कोई ठोस विचार नहीं दे पाए हैं.

कुछ इस्लामी विद्वान और विचारक ये मानते हैं कि 'ख़िलाफ़त' एक थियोक्रेटिक राज्य (धर्माधरित राज्य) होगा.

लेकिन सच ये है कि ख़िलाफ़त का राज्य संचालन का ढांचा खोखला नजर आ रहा है और यह आज के सामाजिक हालात से मेल नहीं खाता है.

और इसी कारण बीते ज़माने में भी इस्लामी राज्य उथल-पुथल का शिकार रहे हैं.

क़ाबुल
Getty Images
क़ाबुल

ख़िलाफ़त का सपना

इस्लामी राज्य या ख़िलाफ़त एक ही सूरत में सफल हो सकता है कि पूरे ख़िलाफ़त में एक ही शासक हो, कोइ सीमा न हो, भौगोलिक और सांस्कृतिक एकता हो, जो आज के ज़माने में संभव ही नहीं है.

इस्लामी ख़िलाफ़त का ख्वाब देखने वालों को अगर एक तरफ़ रख दें और देखें तो इस्लामी ख़िलाफ़त के दौरान मुसलमानों के बीच कभी भी एकता रही ही नहीं.

वे अक्सर आपस में लड़ते रहे, ख़िलाफ़त कभी भी उन को एकजुट कर ही नहीं पाया, और इसी कारण बाहरी दुश्मन का भय दिखा कर उनको एकजुट करने की कोशिश करनी पड़ती थी.

इस्लामी ख़िलाफ़त के पक्षधर अब तक क्या हासिल कर पाए हैं?

इस्लामवादी सगठनों के अनेकों सदस्यों ने पिछले कई दशकों में खासकर उस्मानी खिलाफ़त के पतन के बाद ख़िलाफ़त की दोबारा स्थापना के अपने मकसद में जान गंवाई है.

अमरीका
Getty Images
अमरीका

निरंकुश तानाशाही

मगर ये क़ुर्बानी और ये कोशिश सही दिशा में नहीं थी, न केवल ये कि ये लोग अपनी कोशिश में नाकाम रहे बल्कि इन्होंने अतिवादी सोच को बढ़ावा दिया.

इससे इस्लामी जगत को फ़ायदे के बजाय बहुत नुक़सान उठाना पड़ा और मुस्लिम जगत को घायल और लहूलुहान कर दिया.

उदाहरण के तौर पर अफ़ग़ानिस्तान में इख़वानुल मुसलेमीन की पिछले 90 साल की कोशीश का यह नतीजा निकला कि इस क्षेत्र में दमनकारी निरंकुश तानाशाही को आगे बढ़ने का मौका दिया.

ये तानाशाह पश्चिमी दुनिया को ये यक़ीन दिलाने में सफल रहे कि अगर इन धर्मांध लोगों को हम नहीं रोक पाए और हमारी सहायता नहीं की गई तो ये उसी प्रकार का समाज खड़ा करेंगे जैसा समाज यूरोप में फ्रांस की क्रांति से पहले था.

ये एक ऐसे समाज की स्थापना करने की बात करते हैं जो विकास और अधुनिकता का घोर विरोधी है.

क़ाबुल
Getty Images
क़ाबुल

इंसान की आज़ादी

अगर इस्लामवादी ताकतें अब भी चाहें तो बदलाव और विकास में अपना योगदान दे सकती हैं.

इनके लिए बेहतर ये है कि पुराने घिसेपिटे समाज को दोबारा ज़िंदा न कर एक नए, सभ्य और आधुनिक समाज के निर्माण में अपनी भुमिका निभाएं.

एक ऐसे सियासी निज़ाम के लिए कोशिश करें जो लोगों की आकांक्षाओं और उम्मीदों पर आधारित हो, जहां इंसान की आजादी की क़दर हो.

इस्लामवादियों को अपने अतीत से सबक सीखते हुए ये मान लेना चाहिए कि कोई भी राजनीतिक ढांचा अंतिम और कमियों से खाली नही है और ख़िलाफ़त का निज़ाम तो आज की परिस्थिति में कतई कामयाब नहीं हो सकता है.

इस्लामवादियों के प्रचार के अतिरिक्त इस्लामी ख़िलाफ़त का कोई ठोस प्रमाण इस्लामी ग्रंथों या इतिहास में नहीं मिलता है.

बल्कि धर्मभ्रष्ट मुस्लिम हुकुमरानों के कारनामों को वाजिब ठहराने के लिए उनके दरबारी उलेमाओं ने इस तरह से व्याख्या की कि उसे ख़िलाफ़त का रंग दिया जा सके और निरंकुश शासन को बनाए रखा जा सके.

कुछ ऐसे भी इस्लामवादी हैं जो इस्लाम के इतिहास को ही असली इस्लाम मानते हैं, ऐसा करके वे लोग असल में इस्लाम के पथ से विमुख हो गए हैं.

BBC Hindi
देश-दुनिया की ताज़ा ख़बरों से अपडेट रहने के लिए Oneindia Hindi के फेसबुक पेज को लाइक करें
English summary
Is the dream of 'Islamic calamities really possible
तुरंत पाएं न्यूज अपडेट
Enable
x
Notification Settings X
Time Settings
Done
Clear Notification X
Do you want to clear all the notifications from your inbox?
Settings X
X