• search
क्विक अलर्ट के लिए
अभी सब्सक्राइव करें  
क्विक अलर्ट के लिए
नोटिफिकेशन ऑन करें  
For Daily Alerts

'चीन में नरसंहार की जांच करें'- उइगर और दूसरे मुसलमानों ने UN से लगाई गुहार

|

नई दिल्ली- चीन के शिंजियांग प्रांत में मुसलमानों खासकर मुस्लिम महिलाओं की हो रही प्रताड़ना का मसला जोरदार तरीके से संयुक्त राष्ट्र के सामने उठाया गया है। शिंजियांग (पूर्वी तुर्किस्तान) प्रांत में उइगर मुसलमानों के लिए काम करने वाली एक संस्थान ने यूएन में एक नई रिपोर्ट पेश की है, जिसमें चाइनीज कम्युनिस्ट पार्टी के शासन का काला चिट्ठा खोलकर रख दिया गया है। इस रिपोर्ट में इस बात का जिक्र है कि शी जिनपिंग की सरकार मुस्लिम महिलाओं और जवान मुस्लिम लड़कियों का सामूहिक बलात्कार करवा रही है। इस रिपोर्ट में संयुक्त राष्ट्र से पूर्वी तुर्किस्तान में निष्पक्ष जांच करने और वहां हो रहे नरसंहार को औपचारिक तौर पर नरसंहार घोषित करने की मांग की गई है।

चीन में नरसंहारों की जांच करे यूएन

चीन में नरसंहारों की जांच करे यूएन

चीन के उइगर तुर्क और दूसरे मुसलमान समुदायों ने संयुक्त राष्ट्र और दूसरे अंतरराष्ट्रीय संगठनों से गुहार लगाई है कि उइगर मुसलमानों के खिलाफ जारी नरसंहार की गतिविधियों के खिलाफ चीन पर दबाव बनाएं और इनकी जांच करवाएं। चीन में उइगर मुसलमानों की स्थितियों को उजागर करती रहने वाली संस्था 'कैंपेन फॉर उइगर' ने 'पूर्वी तुर्किस्तान में नरसंहार' के नाम से एक रिपोर्ट जारी कि है जिसमें उन घटनाओं की लिस्ट दी गई है कि चीनी सरकार उइगरों के साथ किस तरह से अत्याचार कर रही है। रिपोर्ट में इस बात का खुलासा किया गया है कि कोविड-19 महामारी के बावजूद चीन की सरकार अपनी सियासी और आर्थिक हितों के लिए उइगरों और दूसरे मुसलमानों के खिलाफ कार्रवाई और उनकी प्रताड़ना जारी रख रही है। बता दें कि वन इंडिया में हाल ही में आपके लिए एक रिपोर्ट छपी थी कि किस तरह से चीन सरकार उइगर और बाकी मुसलमानों की आबादी नियंत्रित करने के लिए मुस्लिम महिलाओं का जबरन गर्भपात करवा रही है।

11 लाख हान चाइनीज उइगरों के घरों में कर रहे हैं घुसपैठ

11 लाख हान चाइनीज उइगरों के घरों में कर रहे हैं घुसपैठ

संयुक्त राष्ट्र को दी गई रिपोर्ट में खुलासा किया गया है कि चीन सरकार ने उइगर और बाकी मुसलमानों की जिंदगी तबाह करने के लिए अपनी सारी पैंतरेबाजी लगा रखी है। मसलन रिपोर्ट में कहा गया है, 'चीन सरकार ने उइगरों की रोजमर्रे की जिंदगी को कंट्रोल करने के लिए 11 लाख हान चाइनीज कैडरों को पूर्वी तुर्किस्तान भेजा है। उनका काम है कि वे उइगर के घरों में रहें, जरूरी हो तो उनके साथ बिस्तर साझा करें और उनकी जिंदगी के हर पहलुओं पर कब्जा कर लें।' इतना ही नहीं, 'चीन सरकार की ओर से शुरू किए गए डबल रिलेटिव प्रोग्राम के तहत हान चाइनीज कैडर हर दो महीने में कम से कम एकबार उनके पास पहुंचते हैं और एक हफ्ते तक ठहरते हैं। उनके पास ठहरने के दौरान वे लगातार चाइनीज कम्युनिस्ट पार्टी का प्रोपेगेंडा फैलाते हैं, उइगरों की खुफियागिरी भी करते हैं। इस प्रवास के दौरान वे शराब पीने और सूअर का मीट खाने के लिए प्रोत्साहित करते हैं, क्योंकि इस्लाम में इसकी मनाही है। अगर उइगर बाजार से हलाल मीट लाने के लिए कहते हैं और पीते नहीं हैं तो उन्हें संदिग्ध घोषित कर दिया जाता है और कैंपों में भेज दिया जाता है। '

चीन में सरकार प्रायोचित 'मास रेप'

चीन में सरकार प्रायोचित 'मास रेप'

रिपोर्ट में यह भी कहा गया है कि उइगर मुसलमानों के पारिवारिक ढांचे को बिगाड़ने के लिए चीन का प्रशासन हान चाइनीज को पैसे, जॉब और वहां पर ऐरेंज्ड मैरेज करने के लिए मुफ्ते में घर भी देते हैं। रिपोर्ट में सबसे बड़ा आरोप ये लगाया गया है कि चाइनीज सरकार की इस प्रताड़ना का सबसे ज्यादा शिकार महिलाएं और खासकर जवान लड़कियां बन रही हैं। कैंपने फॉर उइगर के एग्जिक्यूटिव डायरेक्टर रुशन अब्बास के मुताबिक तो वहां पर सरकार प्रायोजित सामूहिक बलात्कार चल रहा है। रिपोर्ट कहता है कि चीन सरकार ने अंतरराष्ट्रीय समुदाय के सामने किए गए 'नरसंहार की रोकथाम' करार का उल्लंघन किया है। रिपोर्ट ये भी कहता है कि, 'इन अपराधों के लिए रिपब्लिक ऑफ चाइना के राष्ट्रपति शी जिनपिंग और शिंजियांग उइगर ऑटोनोमस रीजन के सचिव चेन क्वानगुओ और बाकी सारे अधिकारी जिम्मेदार और जवाबदेह हैं। '

यूएन से नरसंहार की जांच की मांग

यूएन से नरसंहार की जांच की मांग

कैंपने फॉर उइगर शिंजियांग प्रांत में उइगर और बाकी मुसलमानों के साथ हो रहे अत्याचार की घटनाओं के लिए संयुक्त राष्ट्र को प्रस्ताव दिया है कि संयुक्त राष्ट्र मानवाधिकार परिषद के पैनल में चीन की भागीदारी वाला स्टैटस छीन लिया जाय और यूएन से मांग की है कि वो चीन से पूरे पूर्वी तुर्किस्तान क्षेत्र में फौरन बेरोक-टोक पहुंच सुनिश्चित करने की मांग करे, ताकि कंसंट्रेशन कैंपों और उइगर मुसलमानों से बंधुआ मजदूरी करवाई जाने वाली फैक्ट्रियों की स्वतंत्र जांच हो सके। रिपोर्ट में संयुक्त राष्ट्र से यह भी मांग की गई है कि वहां के मौजूदा हालातों को देखते हुए उसे औपचारिक तौर पर नरसंहार घोषित करे और हान चाइनीज के पूर्वी तुर्कीस्तान में घुसने और उइगर के घरों पर अतिक्रमण की घटना तुरंत रोकी जाएं।

इसे भी पढ़ें- चीन के शिनजियांग में मुस्लिम आबादी पर बेइंतहा जुल्म, फिर भी क्यों चुप हैं इस्लामिक देश?

देश-दुनिया की ताज़ा ख़बरों से अपडेट रहने के लिए Oneindia Hindi के फेसबुक पेज को लाइक करें
English summary
'Investigate genocide in China' - Uygar and other Muslims plead with UN
For Daily Alerts
तुरंत पाएं न्यूज अपडेट
Enable
x
Notification Settings X
Time Settings
Done
Clear Notification X
Do you want to clear all the notifications from your inbox?
Settings X
X