India
  • search
क्विक अलर्ट के लिए
नोटिफिकेशन ऑन करें  
For Daily Alerts
Oneindia App Download

LAC पर चीन को कोई भी एकतरफा बदलाव करने की कोशिश नहीं करने देंगे, विदेश मंत्री की चेतावनी

|
Google Oneindia News

नई दिल्ली, जून 19: भारतीय विदेश मंत्री एस. जयशंकर ने एक बार फिर से काफी कड़े लहजे में चीन को चेतावनी देते हुए कहा है कि, एलएसी पर भारत चीन को किसी भी तरह से एकतरफा बदलाव करने की कोशिश करने की भी इजाजत नहीं देगा। भारतीय विदेश मंत्री एस जयशंकर ने शनिवार को कहा कि, भारत चीन द्वारा यथास्थिति को बदलने या वास्तविक नियंत्रण रेखा (एलएसी) को बदलने के किसी भी एकतरफा प्रयास की अनुमति नहीं देगा। उन्होंने कहा कि, एक विशाल सैन्य प्रयास के माध्यम से भारत ने चीन का मुकाबला पूर्वी लद्दाख में एलएसी पर किया था।

‘चीन ने समझौतों का किया उल्लंघन’

‘चीन ने समझौतों का किया उल्लंघन’

पूर्वी लद्दाख सीमा विवाद के बारे में बात करते हुए भारतीय विदेश मंत्री एस. जयशंकर ने कहा कि, चीन ने 1993 और 1996 के समझौतों का उल्लंघन किया है और समझौतों के खिलाफ जाते हुए वास्तविक नियंत्रण रेखा (एलएसी) पर बड़े पैमाने पर सैनिकों को जमा किया है और उसका प्रयास स्पष्ट रूप से एलएसी पर एकतरफा बदलाव का था। भारतीय विदेश मंत्री एस. जयशंकर ने सीएनएन-न्यूज 18 द्वारा आयोजित टाउन हॉल में कहा कि, 'भले ही हम उस समय COVID-19 के बीच में थे, एक विशाल लॉजिस्टिक प्रयास के माध्यम से, जो मुझे लगता है कि कभी-कभी लोगों द्वारा, विश्लेषकों द्वारा, यहां तक कि इस देश में हमारी राजनीति में भी पर्याप्त रूप से पहचाना नहीं गया है, जबकि, एलएसी पर हम उनका मुकाबला करने में वास्तव में सक्षम थे।

विदेश मंत्री ने समझाया एलएसी विवाद

विदेश मंत्री ने समझाया एलएसी विवाद

भारतीय विदेश मंत्री एलएसी विवाद के बारे में विस्तार से बताते हुए कहा कि, 'कुछ लोगों के पास सीमा रेखा को लेकर सरल विचार हैं, लेकिन आम तौर पर पेट्रोलिंग प्वाइंट पर सैनिक तैनात नहीं होते हैं, जो गहराई वाले क्षेत्र होते हैं।'उन्होंने कहा कि, 'इसके परिणामस्वरूप जो हुआ है वह इसलिए है क्योंकि उनके (चीन) के पास आगे की तैनाती थी जो नई थी, और हमने जवाबी तैनाती की थी और हमारे पास भी आगे की तैनाती थी। आपने एक बहुत ही जटिल मिश्रण के साथ समाप्त किया ... जो बहुत खतरनाक था। क्योंकि वे बहुत निकट थे, इंगेजमेंट के नियमों का पालन नहीं किया जा रहा था और फिर, दो साल पहले गलवान में हमने जो उन्हें पकड़ा, जो हिंसक हो गया और लोग हताहत हुए'।

एलएसी पर क्या है मौजूदा स्थिति

एलएसी पर क्या है मौजूदा स्थिति

भारतीय विदेश मंत्री ने कहा कि, 'उस वक्त से हम ऐसी स्थिति में हैं, कि संघर्ष वाले जगहों के लिए हम बातचीत कर रहे हैं और जब आप कहते हैं, कि परिणाम निकला है, तो इसका मतलब ये हुआ, कि हमने उन संघर्ष वाले जगहों को हल किया है।' उन्होंने कहा कि, "ऐसे क्षेत्र हैं जहां उन्होंने अपने सैनिकों को वापस खींच लिया है औप हमने भी अपने सैनिकों को वापस बुला लिया है और अब हम दोनों अप्रैल से पहले की हमारी स्थिति से बहुत आगे हैं। क्या यह सब किया गया है? नहीं। क्या हमने पर्याप्त समाधान किए हैं? वास्तव में, हां'। उन्होंने कहा कि, 'यह कड़ी मेहनत है। यह बहुत धैर्यवान काम है, लेकिन हम एक बिंदु पर बहुत स्पष्ट हैं, यानी हम चीन द्वारा यथास्थिति को बदलने या एलएसी को बदलने के किसी भी एकतरफा प्रयास की अनुमति नहीं देंगे।" जयशंकर ने कहा, "मुझे परवाह नहीं है कि इसमें कितना समय लगता है, हम कितने चक्कर लगाते हैं, हमें कितनी मुश्किल बातचीत करनी पड़ती है - यह ऐसी चीज है जिसके बारे में हम बहुत स्पष्ट हैं'।

यूरोपीय यूनियन ज्वाइन करने के एक कदम और करीब यूक्रेन, जानिए जेलेंस्की के इस फैसले से क्या होगा?यूरोपीय यूनियन ज्वाइन करने के एक कदम और करीब यूक्रेन, जानिए जेलेंस्की के इस फैसले से क्या होगा?

Comments
English summary
Indian External Affairs Minister S. Jaishankar has said that China will not be allowed to make unilateral changes in any way on the LAC.
देश-दुनिया की ताज़ा ख़बरों से अपडेट रहने के लिए Oneindia Hindi के फेसबुक पेज को लाइक करें
For Daily Alerts
तुरंत पाएं न्यूज अपडेट
Enable
x
Notification Settings X
Time Settings
Done
Clear Notification X
Do you want to clear all the notifications from your inbox?
Settings X
X