India
  • search
क्विक अलर्ट के लिए
नोटिफिकेशन ऑन करें  
For Daily Alerts
Oneindia App Download

भारत एक ग्लोबल सुपरपॉवर कभी नहीं बन पाएगा, अगर मोदी सरकार ने जल्द ये काम नहीं किया!

|
Google Oneindia News

नई दिल्ली, जुलाई 02: भारत की मोदी सरकार की सैन्य भर्ती में रीफॉर्म की कोशिश, जिसने भारत में राजनीतिक आग सुलगा दी और कई प्रदेशों में हिंसक प्रदर्शन किए गये, और जिसका विरोध अभी भी किया जा रहा है, वो एक बार फिर से साबित करता है, कि महाशक्ति बनने के रास्ते में भारत की आकांक्षाओं से भारत की अर्थव्यवस्था का कोई मेल नहीं है।

सैन्य बजट पर सरकार का भारी खर्च

सैन्य बजट पर सरकार का भारी खर्च

भारतीय सेना, खासकर भारत की थल सेना पर सरकार को भारी बजट खर्च करना पड़ता है, खासकर जनशक्ति पर। अपने कार्यकाल की शुरूआत में कुछ गलत सलाहों पर काम करने के बाद भारत सरकार ने पाया, कि वो जो सैन्य बजट का निर्माण कर रही है, उसका ज्यादातर हिस्सा सेना को पेंशन देने, उनके लिए लोकलुभावन योजनाएं बनाने में ही खर्च हो जाता है, जबकि सेना को आधुकिन बनाने और सैन्य हार्डवेयर के निर्माण और रिसर्च एंड डेवलपमेंट के लिए काफी कम पैसा बचता है। जबकि, सैन्य रणनीतिकार पिछले दो दशकों से संख्या बल में कम, मगर युवा सैनिकों की मांग कर रहे है। वर्तमान में भारतीय सैनिकों की औसत उम्र 32-33 साल के करीब है, जो इसकी सेना को दुनिया में सबसे पुराने सैनिकों में से एक बनाता है।

भारत सरकार ने क्या नया प्लान बनाया?

भारत सरकार ने क्या नया प्लान बनाया?

दो साल पहले इंडियन आर्मी ने 20 सालों के कॉन्ट्रैक्ट पर 60 हजार सैन्य कर्मियों की भर्ती का प्लान तैयार किया था, लेकिन बाद में सेना ने अपने इस प्लान को सस्पेंड कर दिया। जिसके बाद भारत सरकार ने 'टूर ऑफ ड्यूटी टाइप सिस्टम' के तहत सैन्य कर्मियों की भर्ती की प्लानिंग तैयार की। जिसके मुताबिक, सेना में कम उम्र के युवाओं की भर्ती करनी थी और उन्हें टैक्स फ्री वेतन देना था और रिटायरमेंट के बाद उन्हें करीब 12 लाख रुपये पेंशन देकर विदा कर देना था। लेकिन, सरकार के इस प्लान से विरोध का आगाज हो गया और देश के कई हिस्सों में ट्रेने जला दी गईं।

विरोध की प्रमुख वजह क्या थी?

विरोध की प्रमुख वजह क्या थी?

समस्या यह है कि, भारत के सबसे आर्थिक रूप से वंचित हिस्सों में कई युवाओं के लिए, सेना उनके करियर की एकमात्र उम्मीद है, चाहे कई इलाकों में, जहां लिंगानुपात में लड़कियां ज्यादा हैं, वहां नौकरी मिलने पर ही शादी होने की उम्मीद होती है, लिहाजा सेना उनके लिए आखिरी विकल्प बचता है। जिसकी वजह से ज्यादातर युवा सेना में भर्ती होने की उम्मीद लेकर सालों से मेहनत कर रहे हैं, दौड़ रहे हैं और अभ्यास कर रहे हैं, लिहाजा सरकार का ये फैसला सीधे तौर पर उनके लिए वज्रपात के समान था।

सेना में नौकरी से सम्मान

सेना में नौकरी से सम्मान

सेना में नई भर्ती प्रणाली की घोषणा से पहले, सेना भर्ती में एप्लीकेशन फॉर्म भरने वाले एक सामान्य आवेदकर ने एक प्रिंट रिपोर्टर से कहा, कि 'अगर मुझे सेना में नौकरी नहीं मिलती है, तो मेरे समाज में सम्मान के साथ रहने की संभावना बहुत कम है। मेरी शादी की संभावना कम हो जाती है। लोग हर फंक्शन में मेरा मजाक उड़ाएंगे।' दूसरी ओर, जो लोग 20 साल की सेवा के बाद अपने गांवों में लौटते हैं, उनका सम्मान किया जाता है और स्थानीय नेतृत्व में उन्हें जगह मिलती है। ये बातें बता रही हैं, कि यह विरोध और गुस्सा काफी हद तक भारत के सबसे गरीब हिस्सों तक सीमित है, जहां रोजगार के अन्य अवसर दुर्लभ हैं। सरकार ने चार साल के पुरुषों को मिलने वाले करीब 12 लाख के भुगतान पर जोर देने की कोशिश की है और दावा किया है कि सेना का प्रशिक्षण उन्हें नौकरी के बाजार में और अधिक आकर्षक बना देगा। यह तर्क उन क्षेत्रों में नहीं चल पा रहा है, जहां आज या अब से चार साल बाद अच्छी नौकरी मिलने की संभावना कम है।

सरकार की असली मंशा छिपाने की वजह

सरकार की असली मंशा छिपाने की वजह

सरकार ने अपनी असली मंशाओं को छिपाकर कोई अहसान नहीं किया है। हर कोई जानता है कि यह सेना द्वारा वेतन पर खर्च की जाने वाली राशि को कम करने और एक ऐसी सेना बनाने के बारे में है जो तकनीकी रूप से युवा और अधिक चुस्त हो। साथ ही, सरकार सैन्य परिवर्तन के लिए अपनी योजनाओं का खुलासा नहीं करेगी। यह विवरण देना भूल जाइए कि कार्यक्रम से कितना पैसा बचेगा, हम निश्चित रूप से यह भी नहीं जानते हैं कि वर्तमान में भारत की सेना में कितने लोग कार्यरत हैं। किसी कारण से, इसे एक राज्य रहस्य माना जाता है। (यह लगभग 14 लाख होने का अनुमान है, चीन की तुलना में लगभग आधा।) मतदाता क्या चाहते हैं, इसकी सहज समझ रखने का श्रेय आम तौर पर प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी को जाता है। फिर भी यह आश्चर्यजनक है कि उनकी सरकार कितनी बार ऐसी नीतियां बनाती है जो तब एक उग्र सार्वजनिक प्रतिक्रिया प्राप्त करती हैं। निश्चित रूप से इस पर सार्वजनिक रूप से चर्चा की जा सकती थी, ताकि कम से कम वर्तमान पीढ़ी के उम्मीदवारों को खुद को आकार में लाने के लिए एक दिन में किलोमीटर दौड़ने से बेहतर पता चल सके।

सबसे बड़ी समस्या बेरोजगारी

सबसे बड़ी समस्या बेरोजगारी

पिछले साल किसानों के नेतृत्व वाले विरोध प्रदर्शनों की तरह, हो सकता है सरकार इस बिल को भी वापस ले ले, लेकिन इसकी अपनी एक अलग कीमत चुकानी होगी। लेकिन, एक सैन्य सुपरपॉवप बनने की महत्वाकांक्षा को पूरा करने के लिए और अपनी शक्ति और घरेलू सुरक्षा सुनिश्चित करने और उभरते खतरों का जवाब देने के लिए डिज़ाइन किया गया एक उपकरण होना चाहिए। लेकिन, जैसा दिख रहा है, कि अन्य क्षेत्रों में रोजगार सृजन में विफल रहने की वजह से सरकार ने सेना को भी रोजगार सृजन का एक क्षेत्र समझ लिया है। लेकिन, अगर देश को ग्लोबल पॉवर बनना है, और दुनिया के मंच पर बड़ी भूमिका निभाना है, तो उसे सबसे पहले अपनी अर्थव्यवस्था को ठीक करना होगा।

सूर्य से लेकर शिव तक... कैसे नंबर 108 करता है दुनिया को कंट्रोल, दुनियाभर के एक्सपर्ट्स हैरानसूर्य से लेकर शिव तक... कैसे नंबर 108 करता है दुनिया को कंट्रोल, दुनियाभर के एक्सपर्ट्स हैरान

Comments
English summary
If India wants to become a superpower, then it has to increase employment in any case.
देश-दुनिया की ताज़ा ख़बरों से अपडेट रहने के लिए Oneindia Hindi के फेसबुक पेज को लाइक करें
For Daily Alerts
तुरंत पाएं न्यूज अपडेट
Enable
x
Notification Settings X
Time Settings
Done
Clear Notification X
Do you want to clear all the notifications from your inbox?
Settings X
X