• search
क्विक अलर्ट के लिए
नोटिफिकेशन ऑन करें  
For Daily Alerts

पाकिस्तान में पहली बार हिंदू लड़की बनी असिस्टेंट कमिश्नर, MBBS भी कर चुकी हैं डॉ. रामचंद्र

|
Google Oneindia News

इस्लामाबाद, मई 08: पड़ोसी देश पाकिस्तान से अकसर अल्पसंख्यकों से अत्याचार के मामले सामने आते रहते हैं लेकिन कम ही बार ऐसा होता है जब अल्पसंख्यकों को लेकर कुछ अच्छी खबर मिले। पाकिस्तान में ऐसा पहली बार हुआ है कि अल्पसंख्यक समुदाय से आने वाली कोई हिंदू लड़की ने प्रतिष्ठित सेन्ट्रल सुपिरियर सर्विस यानि सीएसएस परीक्षा पास की हो और अपने नाम का लोहा मनवाया हो। पाकिस्तान की रहने वाली डॉ. सना रामचंद्र ने पाकिस्तान एडमिनिस्ट्रेटिव सर्विस के लिए चुनी गई हैं।

असिस्टेंट कमिश्नर बनी डॉ. रामचंद्र

असिस्टेंट कमिश्नर बनी डॉ. रामचंद्र

डॉ. सना रामचंद्र पाकिस्तान की पहली हिंदू महिला हैं, जिन्होंने प्रितिष्ठित परीक्षा सेन्ट्रल सुपिरियर सर्विस यानि सीएसएस पास की हो। डॉ. सना रामचंद्र सीएसएस पास कर पाकिस्तान एडमिनिस्ट्रेटिव सर्विस के लिए चुनी गई हैं। डॉ. सना रामचंद्र एमबीबीएस कर चुकी हैं और अभी सिंध प्रांत के शिकारपुर जिले में प्रैक्टिस भी करती हैं। इसके साथ ही डॉ. सना रामचंद्र मास्टर्स इन सर्जरी भी कर रही हैं। पाकिस्तान के सिंध प्रांत में ही सबसे ज्यादा हिन्दू रहते हैं। रिपोर्ट के मुताबिक डॉ. सना रामचंद्र उन 221 सफल अभ्यर्थियों में शामिल होने में कामयाब हुई हैं, जिन्हें पाकिस्तान पुलिस विभाग में ऊंचा ओहदा मिलेगा। इस परीक्षा में लिखित परीक्षा में कुल 18 हजार 553 उम्मीदवार शामिल हुए थे।

'वाहे गुरु जी की खालसा, वाहे गुरु जी की फतह'

परीक्षा परिणाम आने के बाद डॉ. सना रामचंद्र ने ट्वीट करते हुए लिखा 'वाहे गुरु जी की खालसा, वाहे गुरु जी की फतह! मुझे ये बताने में बेहद खुशी हो रही है कि अल्लाह की कृपा से मैंने सीएसएस-2020 परीक्षा पास कर लिया है। इसका सारा क्रेडिट मेरे पैरेंट्स को जाता है।' आपको बता दें कि पाकिस्तान में सीएसएस परीक्षा पास करने के बाद उच्चतम रैंक हासिल करने वाले केन्द्रीय पुलिस बल में शामिल होते हैं। इसके बाद विदेश विभाग आता है। इस परीक्षा को पास करने वाले अभ्यर्थियों को असिस्टेंट कमिश्नर का पद मिलता है, जो पुलिस महकमें में काफी बड़ा शक्तिशाली पद माना जाता है। बीबीसी ऊर्दू की रिपोर्ट के मुताबिक डॉ. सना रामचंद्र पाकिस्तान की वो पहली महिला हैं, जो सीएसएस पास करने के बाद पीएएस के लिए चुनी गई हैं। रिपोर्ट के मुताबिक इस परीक्षा में कुल 79 लड़कियां पास हुई हैं, जिन्हें अलग अलग विभागों में नियुक्तियां मिलेंगी।

एमबीबीएस हैं डॉ. सना रामचंद्र

एमबीबीएस हैं डॉ. सना रामचंद्र

डॉ. सना रामचंद्र ने चंदका मेडिकल कॉलेज से एमबीबीएस की पढ़ाई की है और कराची सिविल हॉस्पिटल में उन्होंने ट्रेनिंग ली है। इस वक्त वो सिंध इंस्टीट्यूट ऑफ यूरोलॉजी एंड ट्रांसपेरेंट से एफसीपीसी यानि सर्जरी की पढ़ाई भी कर रही हैं और बहुत जल्द वो सर्जन बनने वाली हैं।

कामयाबी के लिए बधाई संदेश

डॉ. सना रामचंद्र को मिली कामयाबी के बाद उन्हें कई लोगों से बधाईयां मिल रही हैं, जिनमें पाकिस्तान की राजनीतिक हस्तियां भी शामिल हैं। पाकिस्तान पीपुल्स पार्टी के सीनियर लीडर फरहतुल्लाह बाबर ने भी डॉ. सना रामचंद्र को उनकी कामयाबी के लिए बधाई दी है। उन्होंने ट्वीट कर कहा कि 'डॉ. सना रामचंद्र ने पाकिस्तानी हिंदू समुदाय को गर्वान्वित किया है और पूरे देश को उनपर गर्व है।' इसके साथ ही सोशल मीडिया पर भी काफी लोग उन्हें बधाई दे रहे हैं।

पाकिस्तान में पहली बार हिन्दू लड़की बनी DSP, हिन्दू समुदाय में खुशी की लहर, मनीषा रोपेटा ने किया नाम रोशनपाकिस्तान में पहली बार हिन्दू लड़की बनी DSP, हिन्दू समुदाय में खुशी की लहर, मनीषा रोपेटा ने किया नाम रोशन

English summary
For the first time in Pakistan, Dr. Sana Ramchandra has been elected to the post of Hindu Women Assistant Commissioner.
देश-दुनिया की ताज़ा ख़बरों से अपडेट रहने के लिए Oneindia Hindi के फेसबुक पेज को लाइक करें
For Daily Alerts
तुरंत पाएं न्यूज अपडेट
Enable
x
Notification Settings X
Time Settings
Done
Clear Notification X
Do you want to clear all the notifications from your inbox?
Settings X
X