• search
क्विक अलर्ट के लिए
अभी सब्सक्राइव करें  
क्विक अलर्ट के लिए
नोटिफिकेशन ऑन करें  
For Daily Alerts

हॉवर्ड यूनिवर्सिटी के वैज्ञानिक का सनसनीखेज दावा, UFO से जासूसी के बाद तबाही मचा सकते हैं एलियंस!

|
Google Oneindia News

वॉशिंगटन, अगस्त 01: दुनिया के सबसे प्रतिष्ठित विश्वविद्यालयों में से एक हॉवर्ड यूनिवर्सिटी के वैज्ञानिक ने एलियंस और यूएफओ को लेकर बेहद सनसनीखेज और चौंकाने वाला दावा किया है। हॉवर्ड यूनिवर्सिटी के प्रोफेसर और वैज्ञानिक एवि लोएब ने अपनी रिसर्च के आधार पर दावा किया है कि अंतरिक्ष यान, जिसे धरती पर यूएफओ कहा जाता है, वो असल में एलियंस के ड्रोन होते हैं और वो धरती पर जानकारियां जुटाने आते हैं। इसके साथ ही वैज्ञानिक एवि लोएब ने दावा किया है कि अंतरिक्ष में प्राचीन सभ्यता मौजूद है और वहीं से धरती पर यूएफओ आते रहते हैं।

    Harvard professor का दावा- UFO एलियन का जासूसी ड्रोन, प्राचीन सभ्यता से आते हैं | वनइंडिया हिंदी
    हॉवर्ड वैज्ञानिक का दावा

    हॉवर्ड वैज्ञानिक का दावा

    एलियंस और यूएफओ को लेकर पृथ्वी के वैज्ञानिकों में हमेशा अलग अलग मत रहा है। लेकिन, कुछ रिपोर्ट्स एलियंस को लेकर शक भी पैदा करते हैं। जैसे 2 साल पहले इजरायल की खुफिया एजेंसी मोसाज के पूर्व डायरेक्टर ने कहा था कि मोसाद और अमेरिका की खुफिया एजेंसी ने मिलकर एक एलियन को पकड़ा था और उससे पूछताछ भी की गई थी। इसके अलावा उन्होंने कहा था कि एलियंस से उन्हें काफी जानकारियां मिली हैं। मोसाद के पूर्व डायरेक्टर के दावे पर अमेरिका की तरफ से कोई प्रतिक्रिया नहीं आई थी। यहां तक की मोसाद के पूर्व डायरेक्टर के दावे का खंडन भी अमेरिका ने नहीं किया। ऐसे में माना गया कि कुछ ना कुछ ऐसा है, जिसे अमेरिका छिपा रहा है। वहीं, एक बार फिर से दुनिया के सबसे प्रतिष्टित विश्वविद्यालयों में से एक माने जाने वाले हॉवर्ड यूनिवर्सिटी के प्रोफेसर और वैज्ञानिक के दावे ने फिर से सनसनी मचा दी है।

    अंतरिक्ष में मौजूद प्राचीन सभ्यता

    अंतरिक्ष में मौजूद प्राचीन सभ्यता

    प्रोफेसर एवि लोएब हॉवर्ड यूनिवर्सिटी में एस्ट्रोफिजिसिस्ट के प्रोफेसर हैं और पिछले कई सालों से एलियंस और अंतरिक्ष को लेकर रिसर्च कर रहे हैं और उन्होंने कहा है कि रिसर्च के दौरान उन्हें कई नई जानकारियां हासिल हुई हैं। प्रोफेसर एवि लोएब के रिसर्च के बाद दावा किया जा रहा है कि यूएफओ और अलौकिक सभ्यताओं के अस्तित्व के बारे में हमारे कुछ सवालों का जवाब हार्वर्ड विश्वविद्यालय के नेतृत्व में एक नई अंतरराष्ट्रीय शोध परियोजना द्वारा दिया जा सकता है।

    वैज्ञानिकों का 'प्रोजेक्ट गैलीलियो'

    वैज्ञानिकों का 'प्रोजेक्ट गैलीलियो'

    हार्वर्ड यूनिवर्सिटी के खगोल विज्ञान के प्रोफेसर एवी लोएब के नेतृत्व में गैलीलियो प्रोजेक्ट को लॉन्च किया गया है। जिसके जरिए ये पता लगाने की कोशिश की जाएगी कि क्या पृथ्वी पर जो कुछ भी हम जानते हैं, क्या उसके अलावा भी अलौकिक शक्तियां वास्तव में मौजूद हैं। प्रोजेक्ट गैलीलियो में टेलीस्कोप ऑब्जर्वेशन किया जाएगा और अंतरिक्ष में कैमरे भेजे जाएंगे। इसके अलावा भी कई तरह के रिसर्च किए जाएंगे। प्रोजेक्ट गैलीलियो टीम के एक बयान में कहा गया है कि ''पृथ्वी और सूर्य के सिस्टम को लेकर पिछले दिनों कई महत्वपूर्ण खोज की गई हैं, लिहाजा प्रोजेक्ट गैलीलियो इसलिए लॉन्च किया गया है, क्योंकि पृथ्वी के अलावा कई ऐसी चीजों की खोज करना जरूरी है, जिसे हम अब नजरअंदाज नहीं कर सकते हैं। उन अलौकिक सभ्यताओं को अब किसी भी हाल में अनदेखा नहीं किया जा सकता है''। हॉवर्ड यूनिवर्सिटी का ये प्रोजेक्ट पूरी तरह से एलियंस की खोज के लिए ही है।

    एलियंस की खोज के लिए प्रोजेक्ट

    एलियंस की खोज के लिए प्रोजेक्ट

    रिपोर्ट के मुताबिक हॉवर्ड यूनिवर्सिटी ने ये प्रोजेक्ट तब लॉन्च किया है, जब 2017 में अमेरिकी सरकार ने यूएफओ और इंटरस्टैलर को लेकर एक ओउमुआमुआ नाम की एक रिपोर्ट तैयार की थी, जिसमें ETC यानि अलौकिक शक्तियों के होने की बात की पुष्टि की गई थी। लेकिन अभी तक ये पता नहीं चल पाया है कि पृथ्वी के बाहर मौजूद ये अलौकिक शक्तियां कहां हैं, किस ग्रह पर रहते हैं, उनका जीवन कैसा है, उनके पास टेक्नोलॉजी क्या हैं, उनका रहन सहन क्या है और सबसे महत्वपूर्ण बात, कि वो इंसानों के दोस्त हैं या फिर दुश्मन।

    प्रोफेसर ने क्या कहा ?

    प्रोफेसर ने क्या कहा ?

    हॉवर्ड यूनिवर्सिटी के प्रोफेसर एवि लोएब ने यूएसए टुडे को दिए इंटरव्यू में बताया कि ''प्रोजेक्ट गैलीलियो के जरिए भविष्य में हम इंटरस्टेलर स्पेस से और अधिक ऑब्जेक्ट पाएंगे, जो काफी अजीब दिखते हैं। हमें एक स्पेस रॉकेट पर एक कैमरा भेजकर उन्हें फॉलो करना चाहिए जो उनके करीब हो और उनकी तस्वीर काफी करीब से खींचे, ताकि हमें कुछ जानकारियां हासिल हो सके''। उन्होंने कहा कि पिछले महीने सरकार की रिपोर्ट जारी होने के बाद यह परियोजना वैज्ञानिकों को अंतरिक्ष में अज्ञात वस्तुओं पर फिर से रिसर्च करने का एक और मौका है।

    ''राजनेता नहीं जानते हैं सच्चाई''

    ''राजनेता नहीं जानते हैं सच्चाई''

    हॉवर्ड यूनिवर्सिटी के प्रोफेसर एवि लोएब ने अमेरिका के कुछ नेताओं और कुछ सैन्य अधिकारियों को कड़ी फटकार भी लगाई है। दरअसल, अमेरिका के कुछ नेताओं और कुछ सैन्य अधिकारियों ने एलियंस की बात से इनकार कर दिया था, जिसके बाद प्रोफेसर एवि लोएब ने उन्हें जमकर फटकार लगा दी। यूएसए टुडे से बात करते हुए प्रोफेसर एवि लोएब ने बताया कि ''जो अज्ञात हवाई घटनाओं के बारे में ऐसी बात करते हैं, उन्हें वैज्ञानिक प्रशिक्षण की जरूरत है और उनका इस मुद्दे पर बात करना ऐसा है, जैसे किसी प्लंबर को केक बनाने के लिए कहना। वो असलियत के बारे में कुछ नहीं जानते हैं''। प्रोफेसर लोएब ने कहा कि, "हमें उनसे यह पता लगाने के लिए नहीं कहना चाहिए कि आकाश में कौन सी वस्तुएं हैं। यह वैज्ञानिकों का काम है।"

    एलियंस का पता लगाएगी टीम

    एलियंस का पता लगाएगी टीम

    हॉवर्ड यूनिवर्सिटी के प्रोफेसर एवि लोएब और उनकी टीम अब प्रोजेक्ट गैलीलियो के जरिए अलौकिक शक्तियों के बारे में जानकारियां हासिल करेगी और उनकी टीम में दुनिया के कई प्रख्यात विश्वविद्यालयों के वैज्ञानिक शामिल हैं। प्रोजेक्ट गैलीलियो में मशहूर प्रिंसटन यूनिवर्सिटी, कैम्ब्रिज यूनिवर्सिटी और स्टॉकहोम यूनिवर्सिटी के वैज्ञानिकों को भी शामिल किया गया है। इस टीम के तमाम प्रख्यात वैज्ञानिक मौजूदा वैज्ञानिक स्पष्टीकरणों को धता बताने वाले और इंटरस्टेलर ऑब्जेक्ट्स की पहचान करने के लिए आर्टिफिशियस इंटेलीजेंस के साथ-साथ मौजूदा और भविष्य के खगोलीय सर्वेक्षणों का अध्ययन करेंगे।

    पारदर्शी तरीके से होगी जांच

    पारदर्शी तरीके से होगी जांच

    प्रोफेसर एवि लोएब ने कहा है कि प्रोजेक्ट गैलीलियो के जरिए जो भी जानकारियां जुटाई जाएंगी, उन्हें पारदर्शी तरीके से लोगों के साथ शेयर किया जाएगा। प्रोफेसर ने कहा कि इस प्रोजेक्ट के जरिए कई वायुमंडलीय घटनाओं को भी समझने में काफी मदद मिलेगी। उन्होंने प्रोजेक्ट के बारे में बात करते हुए कहा कि ''ये एक तरह से पानी में मछली पकड़ने के लिए जाल फेंकने जैसा है और आप नहीं जानते हैं कि आपको क्या मिलने वाला है, इसीलिए मैं कोई धारणा नहीं बनाना चाहता हूं।'' लेकिन, प्रोफेसर लोएब ने कहा कि इस प्रोजेक्ट के जरिए विज्ञान से जुड़ी कई जानकारियां सार्वजनिक हो सकती हैं और संभव है कि हम उन अलौकिक शक्तियों के बारे में बहुत कुछ जान पाएं। प्रोफेसर लोएब ने कहा कि "समाज और मानवता पर इसका बहुत बड़ा प्रभाव पड़ेगा।" "अगर हम अपने ब्रह्मांडीय ब्लॉक पर एक होशियार बच्चे की तरह सबूत पाते हैं, तो इसके बाद ब्रह्मांड में हमारे स्थान, एक दूसरे के साथ हमारे संबंधों के बारे में हमारे सोचने के तरीके को पूरी तरह से बदल देगा"

    7 मिनट तक प्लेन का पीछा करता रहा UFO, कई बार बदला आकार! यात्री ने बना लिया Video7 मिनट तक प्लेन का पीछा करता रहा UFO, कई बार बदला आकार! यात्री ने बना लिया Video

    English summary
    A Harvard University scientist has claimed that the UF coming to Earth may be aliens' drones, which may have supernatural powers.
    देश-दुनिया की ताज़ा ख़बरों से अपडेट रहने के लिए Oneindia Hindi के फेसबुक पेज को लाइक करें
    For Daily Alerts
    तुरंत पाएं न्यूज अपडेट
    Enable
    x
    Notification Settings X
    Time Settings
    Done
    Clear Notification X
    Do you want to clear all the notifications from your inbox?
    Settings X
    X