• search
क्विक अलर्ट के लिए
अभी सब्सक्राइव करें  
क्विक अलर्ट के लिए
नोटिफिकेशन ऑन करें  
For Daily Alerts

'जल्द धरती की हालत होगी खराब, सिर्फ स्पेस में रहने का बचेगा रास्ता', साइंटिस्ट ने दी टेंशन वाली खबर

|
Google Oneindia News

नई दिल्ली, 22 मई: विकास के चक्कर में इंसान प्रकृति के साथ लगातार खिलवाड़ कर रहा है, ऐसे में ये सवाल हमेशा उठता रहता है कि आखिर कब तक पृथ्वी पर इंसानों का वजूद रहेगा? इस पर दुनिया के मशहूर वैज्ञानिक और हार्वर्ड यूनिवर्सिटी के प्रोफेसर एवी लोएब ने अपनी रिसर्च को बताया है। उनका मानना है कि वैज्ञानिक सही दिशा में काम नहीं कर रहे हैं, मौजूदा हालात को देखते हुए सभी को जलवायु परिवर्तन को रोकने के लिए कड़े कदम उठाने चाहिए।

अंतरिक्ष में बेस बनाने की तैयारी

अंतरिक्ष में बेस बनाने की तैयारी

हार्वर्ड यूनिवर्सिटी के पूर्व छात्र सम्मेलन में लोगों को संबोधित करते हुए एवी लोएब ने कहा कि मैं दुनियाभर के वैज्ञानिकों से पूछना चाहता हूं कि वो बताएं कि धरती पर इंसान कब तक रहेंगे, क्योंकि मुझे नहीं लगता कि वो सब सही दिशा में काम कर रहे हैं। उन्हें सतत ऊर्जा के विकल्प खोजने चाहिए। साथ ही ऐसा तरीका निकालें, जिससे सबको खाना मिल सके। उन्होंने आगे तंज कसते हुए कहा कि हमको एलियंस के साथ कॉन्टैक्ट करना चाहिए, क्योंकि जिस दिन हम तकनीकी तौर पर पूर्ण रूप से विकसित हो जाएंगे, उस दिन पृथ्वी नष्ट होने के लिए तैयार हो जाएगी। ऐसे में हमें पहले से ही अंतरिक्ष में बड़ा बेस स्टेशन बनाने की तैयारी करनी चाहिए।

तकनीकी सभ्यता अभी किशोर अवस्था में

तकनीकी सभ्यता अभी किशोर अवस्था में

लोएब के मुताबिक उनसे कई बार पूछा गया कि हमारी तकनीकी सभ्यता कब तक जिंदा रहेगी। इस पर मेरा जवाब साफ है कि हमारी तकनीकी सभ्यता की शुरुआत सैकड़ों सालों पहले हुई थी, ऐसे में अभी हम किशोर अवस्था में हैं, लेकिन ये कुछ सदियों तक ही जिंदा रहेगी। उन्होंने कहा कि मैं ये बात हवा में नहीं कह रहा, बल्कि ये सब गणितीय गणना पर आधारित है।

महामारी और युद्ध से खतरा

महामारी और युद्ध से खतरा

उन्होंने कहा कि इंसानों के बीच महामारी और युद्ध के बहुत से खतरे हैं। अगर इन सब पर अच्छे से काम नहीं किया गया, तो इंसानों का वजूद इस धरती से खत्म हो जाएगा। ऐसे में कुछ तो मारे जाएंगे, जबकि कुछ को स्पेस में जाकर रहना पड़ेगा। लोएब के मुताबिक इंसान अपने मतलब के लिए जरूरत से ज्यादा इस धरती पर अत्याचार कर रहे हैं। मौजूदा वक्त में ग्लेशियर तेजी से पिघल रहे, ज्वालामुखी से लगातार आग निकल रही। हमारी ही लापरवाही की वजह से जंगल आग से तबाह हो रहे। ये सब आने वाले वक्त में मुश्किल खड़ी करेंगे।

सूर्य पर तबाही, समुद्र में समा जाएगी पृथ्वी, साल 2021 के लिए नास्त्रेदमस की 7 भविष्यवाणियांसूर्य पर तबाही, समुद्र में समा जाएगी पृथ्वी, साल 2021 के लिए नास्त्रेदमस की 7 भविष्यवाणियां

English summary
Harvard Physicist Avi Loeb Talk on earth life and space
देश-दुनिया की ताज़ा ख़बरों से अपडेट रहने के लिए Oneindia Hindi के फेसबुक पेज को लाइक करें
For Daily Alerts
तुरंत पाएं न्यूज अपडेट
Enable
x
Notification Settings X
Time Settings
Done
Clear Notification X
Do you want to clear all the notifications from your inbox?
Settings X
X