• search
क्विक अलर्ट के लिए
नोटिफिकेशन ऑन करें  
For Daily Alerts

फ़ोन कॉल पर बिगड़ गई सऊदी अरब-क़तर की बात!

By Bbc Hindi

क़तर संकट
AFP
क़तर संकट

सऊदी अरब के युवराज और क़तर के शासक के बीच एक फ़ोन कॉल के कुछ ही देर बाद सऊदी अरब ने क़तर के साथ किसी भी प्रकार की बातचीत से इनकार कर दिया.

इससे पहले, दोनों पक्ष बातचीत के ज़रिए मौजूदा संकट सुलझाने के लिए तैयार हुए थे. सऊदी अरब, बहरीन, मिस्र और संयुक्त अरब अमीरात ने क़तर से 5 जून को कूटनीतिक संबंध खत्म कर लिए हैं.

इन चारों देशों ने आरोप लगाया है कि क़तर आतंकवादी गतिविधियों को बढ़ावा देता है, हालाँकि क़तर इन आरोपों से इनकार करता आया है.

अमरीकी राष्ट्रपति डोनल्ड ट्रंप के दोनों पक्षों से अलग-अलग बात करने के बाद शुक्रवार को सऊदी अरब और क़तर के बीच फ़ोन पर बातचीत शुरू हुई थी.

इस संकट के शुरू होने के बाद दोनों देशों के बीच ये पहली औपचारिक बातचीत थी.

दोनों देशों के सरकारी मीडिया ने बताया था कि क़तर के अमीर शेख तमीन बिन हमद अल थानी और सऊदी राजकुमार मोहम्मद बिन सलमान ने संकट को सुलझाने के लिए बातचीत की थी.

क़तर: पड़ोसियों की मांगें मानने का मतलब

क़तर ने ईरान के साथ संबंध जोड़े

अदना सा क़तर क्यों बना खाड़ी देशों की आंख की किरकिरी?

क़तर संकट
Reuters
क़तर संकट

किसने क्या कहा?

सऊदी प्रेस एजेंसी ने कहा कि क़तर के अमीर ने इस संकट पर बैठकर बातचीत करने और चारों की मांगों पर चर्चा करने की इच्छा जताई. इस बारे में विस्तृत जानकारी की घोषणा तब की जानी थी यदि सऊदी अरब, बहरीन, मिस्र और संयुक्त अरब अमीरात के साथ किसी समझौते पर पहुँच जाए.

इसी बीच, क़तर की समाचार एजेंसी ने कहा कि सऊदी राजकुमार ने इस विवादित मामले का हल निकालने के लिए दो राजदूत नियुक्त करने का प्रस्ताव दिया है जिससे किसी भी देश की संप्रभुता पर असर न हो.

लेकिन कुछ ही देर बाद सऊदी अरब ने क़तर पर बातचीत को लेकर गंभीर नहीं होने का आरोप लगाते हुए आगे किसी भी तरह की बातचीत करने से इनकार कर दिया.

हालाँकि कहा जा रहा है कि मामला प्रोटोकॉल को लेकर बिगड़ा. पर्यवेक्षकों का कहना है कि सऊदी अरब इस बात से नाराज़ था कि क़तर के सरकारी मीडिया ने यह स्पष्ट नहीं किया कि बातचीत की प्रक्रिया दोहा ने शुरू की थी और ये संदेश देने की कोशिश की बातचीत के लिए सऊदी अरब बेताबी दिखा रहा है.

क़तर संकट
EPA
क़तर संकट

ट्रंप की पहल पर हुई बात

अमरीकी राष्ट्रपति डोनाल्ड ट्रंप द्वारा सऊदी अरब और क़तर के नेताओं से अलग-अलग बात करने के बाद इन दोनों देशों के नेताओं ने फ़ोन पर बात की है.

व्हाइट हाउस द्वारा जारी किए गए एक बयान में बताया गया है कि, अमरीकी राष्ट्रपति ने खाड़ी क्षेत्र में स्थिरता बनाए रखने और ईरान के ख़तरे को कम करने लिए अरब राष्ट्रों की एकता पर ज़ोर दिया है.

सऊदी अरब, बहरीन, मिस्र और यूएई ने क़तर पर लगे प्रतिबंधों को हटाने के लिए कुछ शर्तें रखी हैं. इन शर्तों में अल-जज़ीरा समाचार चैनल को बंद करना और ईरान के साथ संबंधो को कम करना शामिल है.

इन चार अरब राष्ट्रों ने अल जज़ीरा समाचार चैनल पर चरमपंथी को बढ़ावा देने के आरोप लगाए हैं.

BBC Hindi
देश-दुनिया की ताज़ा ख़बरों से अपडेट रहने के लिए Oneindia Hindi के फेसबुक पेज को लाइक करें
English summary
Deteriorated Saudi Arabia and Qatar thing on phone call!
तुरंत पाएं न्यूज अपडेट
Enable
x
Notification Settings X
Time Settings
Done
Clear Notification X
Do you want to clear all the notifications from your inbox?
Settings X
X