• search
क्विक अलर्ट के लिए
नोटिफिकेशन ऑन करें  
For Daily Alerts

कोरोनो से डाक्टर भी सुरक्षित नहीं, फिलीपींस में अब तक 9 डॉक्टरों की ले चुकी है जान!

|

मनीला। वैश्विक महामारी कोरोना वायरस संक्रमण का प्रकोप डाक्टरों के लिए भी बड़ी मुसीबत बन गई है। चीन में कोरोना वायरस के इलाज करने वाले एक डाक्टर की मौत पहले सुर्खियां बनी थी, लेकिन फिलीपींस से बुरी खबर आ रही है, जहां एक नहीं बल्कि 9 कोरोना संक्रमित डाक्टरों की मौत की खबर है।

doctor

गुरूवार को फिलीपींस के शीर्ष चिकित्सा संघ ने बताया कि फिलीपींस में कोरोना संक्रमित 9 डॉक्टरों की मौत हो चुकी है। संघ के मुताबिक 9 डाक्टरों की मौत की वजह अस्पताल में रोगियों की भारी भीड़ थी, क्योंकि फ्रंटलाइन पर मौजूद डाक्टरों के पास पर्याप्त सुरक्षा नहीं थी, जिसकी शिकायत मृतक डाक्टरों ने की थी।

doctor

टूटा मिथक: जानलेवा कोरोना वायरस के शिकार पहले नाबालिग की मौत!

माना जा रहा है कि 9 डॉक्टरों की मौतों की घोषणा से आशंका बढ़ गई है कि फ़िलिपींस में स्वास्थ्य संकट का पैमाना बताए जा रहे आधिकारिक तौर आंकड़ों की तुलना में बदतर हो सकता है। हालांकि अभी तक फिलीपींस में कोरोना वायरस संक्रमित 38 मरीजों की मौत की पुष्टि की गई है।

doctor

गौरतलब है फिलीपींस के 55 लाख आबादी वाले मुख्य द्वीप लूजॉन में कोरोना वायरस के संक्रमण को रोकने के लिए किया गया लॉकडाउन अपने दूसरे सप्ताह में है, हालांकि डाक्टर चेतावनी दे रहे हैं कि लुजॉन द्वीप में कोरोना के मामल बढ़ रहे हैं।

doctor

चीन अभी भी कोरोना वायरस की महत्वपूर्ण जानकारी छिपा रहा है: अमेरिकी विदेश मंत्री

फिलीपींस मेडिकल एसोसिएशन के मुताबिक कोरोना वायरस संक्रमित 9वें डॉक्टर की मौत गुरूवार को हुई। एसोसिएशन का कहना है कि फिलीपींस में स्वास्थ्य कर्मियों को कोरोना वायरस संक्रमण से पर्याप्त सुरक्षा नहीं मिल रही थी।

doctor

फिलीपींस मेडिकल एसोसिएशन के उपाध्यक्ष बेनिटो एटिंजा ने कहा कि चिकित्सक कोरोना वायरस के स्वयं वाहक हो सकते हैं, क्योंकि यह डाक्टरों के ऊपर था कि पहले वह फ्रंटलाइनरों का परीक्षण करें और सात दिनों के बाद दोबारा उनका परीक्षण करें।

सावधान! बुजुर्ग ही नहीं, 18 से 49 आयु वर्ग वाले भी हो रहे हैं कोरोना वायरस के शिकार!

उल्लेखनीय है गत बुधवार को ही मनीला के तीन बड़े अस्पतालों ने घोषणा की थी कि मरीजों को एडमिट करने की उनकी क्षमता खत्म हो चुकी है और अब नए मामलों को स्वीकार नहीं करेंगे। अस्पतालों ने कहा कि सैकड़ों मेडिकल कर्मचारी अब मरीजों को स्वीकार नहीं कर रहे हैं, क्योंकि कोरोना वायरस की संदिग्धता के बीच वो खुद 14-दिन आइसोलेशन में चले गए थे।

doctor

बताया जाता है अभी हाल ही में फिलीपींस में 2,000 लोगों का कोरोना वायरस परीक्षण किया गया था, जिनमें गंभीर लक्षण पाए गए थे, जो COVID -19 संक्रमित मरीज के लिए सबसे अधिक संवेदनशील माना जाता है। इनमें खतरनाक बीमारी से जूझ रहे बुजुर्ग और गर्भवती महिलाएं शामिल थीं।

यह भी पढ़ें-चीन के वुहान में जीरो पर पहुंचा कोरोना संक्रमण, दो दिन में नहीं आया कोई नया मामला!

English summary
On Thursday, the Philippines' top medical association said that 9 doctors of Corona infected in the Philippines have died. According to the union, the cause of the death of the 9 doctors was the huge rush of patients in the hospital, as the doctors on the frontline did not have adequate security, which was reported by the deceased doctors.
देश-दुनिया की ताज़ा ख़बरों से अपडेट रहने के लिए Oneindia Hindi के फेसबुक पेज को लाइक करें
For Daily Alerts
तुरंत पाएं न्यूज अपडेट
Enable
x
Notification Settings X
Time Settings
Done
Clear Notification X
Do you want to clear all the notifications from your inbox?
Settings X
X