• search
क्विक अलर्ट के लिए
अभी सब्सक्राइव करें  
क्विक अलर्ट के लिए
नोटिफिकेशन ऑन करें  
For Daily Alerts

चीन अभी भी कोरोना वायरस की महत्वपूर्ण जानकारी छिपा रहा है: अमेरिकी विदेश मंत्री

|

वॉशिंगटन। अमेरिकी विदेश मंत्री माइक पोम्पिओ ने कोरोना वायरस प्रकोप के लिए चीन के खिलाफ आलोचना को तेज करते हुए मंगलवार को कहा है कि चीन की सत्तारूढ़ कम्युनिस्ट पार्टी अभी भी घातक कोरोना वायरस के बारे में दुनिया से जानकारी साझा करने से इनकार कर रही है जबकि संक्रमण को रोकने के लिए संबंधित जानकारी बेहद अहम है।

usa

एक इंटरव्यू में दिए बयान में विदेश मंत्री माइक पोम्पेओ ने अपने पिछले आरोपों को दोहराते हुए कहा कि चीन ने कोरोना वायरस के बारे में जानकारी साझा करने में देरी ने दुनिया भर में लाखों लोगों की जान को जोखिम में पैदा दिया और वैश्किक प्रकोप में तब्दील हो चुके कोरोना वायरस से अब तक हजारों लोगों की जान जोखिम में आ चुकी है।

corona

हेल्थकेयर में इटली नंबर 2, भारत टॉप 100 में भी नहीं? कोरोना से सुरक्षा है भारत का एकमात्र हथियार!

बकौल पोम्पेओ, "मेरी चिंता यह है कि कोरोना वायरस से संबंधित जानकारी को लगातार चीन द्वारा छुपाया जा रहा है। वैश्विक आपदा बन चुकी कोरोना वायरस की जानकारी छुपाने में अभी भी चीनी कम्युनिस्ट पार्टी लगी हुई है जबकि दुनिया को उक्त महत्वपूर्ण जानकारी की बेहद जरूरत है ताकि कोरोना वायरस के आगे के मामलों पर रोकथाम लगाई जा सकें या भविष्य में ऐसा कुछ फिर से होने से रोका जा सकें।"

corona

पोम्पेओ ने ईरान और रूस पर भी कोरोना वायरस के बारे में विघटनकारी अभियान चलाने का भी आरोप लगाते हुए कहा कि रूस और ईरान के साथ ही चीन साथ-साथ यह अभियान चला रहे हैं। पोम्पेओ ने जोड़ते हुए कहा कि वो अमेरिकी सेना से कोरोना वायरस के दुनिया में आने के बारे में बात कर रहे हैं और कह रहे हैं कि शायद यह इटली में शुरू हुआ है, लेकिन उनकी यह सारी कवायद सिर्फ जिम्मेदारी से भागने जैसा है।

corona

एक छोटी गलती और कोरोना वायरस की सबसे बड़ी शिकार बन गई इटली, क्या थी वह गलती?

दिलचस्प यह है कि अमेरिकी विदेश मंत्री पोम्पेओ ने बयान में चीन की कड़ी आलोचना के बावजूद भी कोरोना वायरस को "चीनी वायरस" या "वुहान वायरस" कहने से परहेज किया, जो कि चीन को नाराज़ करने वाले थे, जिसका पहले उन्होंने बार-बार उपयोग किया था।

corona

पोम्पेओ ने आगे कहा, "समय आ गया है कि भेदभाव खत्म किए जाए, क्योंकि दुनिया के लिए अभी यह जानना बेहद महत्वपूर्ण है कि तब वास्तव में क्या हो रहा था और जब चीन में कोरोना वायरस फैला। पोम्पेओ ने कहा कि यह एक वैश्विक संकट है और आज हर देश को पारदर्शी होने की जरूरत है। इसलिए जो वास्तव में हुआ है, उसे साझा किया जाना चाहिए ताकि वैश्विक समुदाय, ग्लोबल हेल्थ केयर और संक्रामक रोग समुदाय संकट निवारण पर काम शुरू कर सकें।

corona

हालांकि अंत में चीन और कम्युनिस्ट पार्टी के लगातार आलोचक रहे अमेरिकी विदेश मंत्री माइक पोम्पेओ ने यह जरूर कहा कि कोरोना संकट के बीच लिए गए बेहद महत्वपूर्ण फैसले ही भविष्य के अमेरिका और चीन संबंधों की नींव के आधार बनेंगे।

उल्लेखनीय है अमेरिका में कोरोना वायरस से अब तक 54963 लोग संक्रमित हो चुके हैं जबकि संक्रमित 784 लोगों की मौत हो चुकी है। अमेरिका में एक दिन में ही करीब 10,000 नए मामले सामने आए हैं। कोरोना संक्रमण से न्यूयॉर्क में 53 लोगों की मौत हो गई। मंगलवार को अमेरिका में 5,000 नए मामले सामने आए। न्यूयॉर्क में अभी तक 25,000 से अधिक मामले सामने आ चुके हैं और वहां 210 लोगों की मौत हो चुकी है।

पूरी दुनिया के लिए काल बनी चुकी है कोरोना और चीन में पटरी पर लौट रही है जिंदगी!

देश-दुनिया की ताज़ा ख़बरों से अपडेट रहने के लिए Oneindia Hindi के फेसबुक पेज को लाइक करें
English summary
In an interview, Foreign Minister Mike Pompeo reiterated his previous accusations that China's delay in sharing information about the corona virus put the lives of millions of people around the world at risk and turned into a global outbreak Thousands of people have been put at risk by corona virus.
For Daily Alerts
तुरंत पाएं न्यूज अपडेट
Enable
x
Notification Settings X
Time Settings
Done
Clear Notification X
Do you want to clear all the notifications from your inbox?
Settings X
X
We use cookies to ensure that we give you the best experience on our website. This includes cookies from third party social media websites and ad networks. Such third party cookies may track your use on Oneindia sites for better rendering. Our partners use cookies to ensure we show you advertising that is relevant to you. If you continue without changing your settings, we'll assume that you are happy to receive all cookies on Oneindia website. However, you can change your cookie settings at any time. Learn more