• search
क्विक अलर्ट के लिए
नोटिफिकेशन ऑन करें  
For Daily Alerts

चीन ने दिया N Korea को झटका, तय की तेल की सीमा

By Mohit
|

नई दिल्लीः चीन ने शनिवार को N Korea पर तेल सप्लाई सीमा तय करने का फैसला किया। ये फैसला यूएन के तहत लिया गया है। इतना ही नहीं आने वाले समय में चीन-नॉर्थ कोरिया के साथ व्यापारिक भागीदार, ऊर्जा आपूर्ति जैसे और कूटनीतिक रूप से समर्थन कम करने की भी बात कही। बता दें तेल सप्लाई का फैसला 1 जनवरी 2018 से लागू होगा।

मंत्रालय ने घोषणा की है कि वो नॉर्थ कोरिया के साथ कपड़ा व्यापार भी सीमित कर लेगा। चीन का नॉर्थ कोरिया के व्यापार में 90 प्रतिशत हिस्सा है। इसलिए चीन के लिए ये आसान नहीं है कि वो नॉर्थ कोरिया के साथ अपने व्यापारिक संबंधों को खत्म कर ले।

चीन के वाणिज्य मंत्रालय द्वारा जारी किए गए बयान में कहा गया है कि वो पेट्रोल पदार्थों के निर्यात को प्रति वर्ष 2 मिलियन बैरल तक सीमित कर लेगा। हालांकि अभी तक चीन ने नॉर्थ कोरिया के बारे में सारी जानकारी नहीं दी है। इससे पहले चीन के सरकारी मीडिया की उत्तर कोरिया के परमाणु कार्यक्रम की निंदा पर कड़ी प्रतिक्रिया जताई है। चीन ने साफ किया था इससे दोनों देशों के रिश्तों को नुकसान हो सकता है।

North Korea ने दी अमेरिका पर हाईड्रोजन बम से हमला करने की धमकी

मंत्रालय ने घोषणा की है कि वो नॉर्थ कोरिया के साथ कपड़ा व्यापार भी सीमित कर लेगा। चीन का नॉर्थ कोरिया के व्यापार में 90 प्रतिशत हिस्सा है। इसलिए चीन के लिए ये आसान नहीं है कि वो नॉर्थ कोरिया के साथ अपने व्यापारिक संबंधों को खत्म कर ले।

अमरीका ने उत्तर कोरिया पर लगाए नए प्रतिबंध

संयुक्त राष्ट्र में अमेरिका के राष्ट्रपति डोनाल्ड ट्रम्प ने नॉर्थ कोरिया का मजाक उड़ाया था। किम जोंग को "आत्मघाती मिशन" और "रॉकेट मैन" का रूप कहा था। ट्रंप ने में किम जोंग को 'रॉकेट मैन' कहते हैं और उन्हें दुनिया के लिए खतरा बताया। ट्रंप ने उत्तर कोरिया को पूरी तरह से नष्ट करने की चेतावनी भी दी है।

देश-दुनिया की ताज़ा ख़बरों से अपडेट रहने के लिए Oneindia Hindi के फेसबुक पेज को लाइक करें
English summary
China imposes limit on oil supply to North Korea as per UN sanctions
For Daily Alerts
तुरंत पाएं न्यूज अपडेट
Enable
x
Notification Settings X
Time Settings
Done
Clear Notification X
Do you want to clear all the notifications from your inbox?
Settings X
X