• search
क्विक अलर्ट के लिए
अभी सब्सक्राइव करें  
क्विक अलर्ट के लिए
नोटिफिकेशन ऑन करें  
For Daily Alerts

चीन ने दक्षिण चीन सागर पर गैर-कानूनी दखल से किया इनकार, लेकिन रक्षा बजट पर सवाल बरकरार!

|

नई दिल्ली। दक्षिण चीन सागर में हुए हालिया घटनाक्रम पर एक नजर डालें तो पाएंगे कि चीन वैश्विक वाणिज्य के लिए एक प्रमुख शिपिंग जल मार्ग, मछली और संभावित तेल और गैस भंडार में समृद्ध दक्षिणी चीन सागर के द्वीपों, प्रवाल भित्तियों और लैगून पर कई क्षेत्रीय विवादों में अपने छोटे पड़ोसी देशों के खिलाफ खड़ा है और वह भी तब पूरी दुनिया कोरोनावायरस महामारी से जूझ रही है।

चीन के ‘जीन’ में है विस्तारवाद , उसकी जमीन हड़पो नीति से भारत समेत दुनिया के 23 देश परेशान

china

चीन पर आरोप लगा है कि चीन दक्षिण चीन सागर पर एकछत्र हुकूमत के लिए कोरोनावायरस काल का उपयोग कर रहा है। हालांकि चीन के विदेश मंत्री उक्त दावे को खारिज किया है और दक्षिण चीन सागर पर लगाए जा रहे आरोपों को सरासर बकवास करार दिया है।

china

12 अगस्‍त को रूस से आ रही है पहली कोरोना वायरस वैक्‍सीन, जानिए इसके बारे में सबकुछ

दक्षिणी चीन सागर पर चीन चाहता है अपना एकछत्र राज, विवादित सागर पर जबरन चला रहा है चीनी कानून

चीनी विदेश मंत्री वांग यी ने रविवार को एक प्रेस कांफ्रेंस में कहा कि चीन दक्षिण-पूर्व एशियाई देशों के साथ एंटी-वायरस प्रयासों पर निकट से सहयोग कर रहा था। उनसे कहा कि आरोप लगाने वाले में से कई रणनीतिक रूप से महत्वपूर्ण जलमार्ग में चीन के साथ क्षेत्रीय दावों को ओवरलैप कर रहे हैं, जबकि चीन लंबे समय से इस क्षेत्र में अपनी उपस्थिति दर्ज कर रहा है।

china

जानिए, कितनी होगी उस वैक्सीन की कीमत, जिसे कोरोना के खिलाफ तैयार कर रहा सीरम इंस्टीट्यूट

Hong Kong: चीन के काले कानून के खिलाफ उग्र हुए प्रदर्शन, अमेरिकी झंडे भी थे हाथ में

वांग ने कहा कि अन्य देश संयुक्त राज्य अमेरिका और उसके सहयोगियों के साथ मिलकर सैन्य उड़ानों और समुद्री गश्त के साथ वहां अस्थिरता पैदा कर रहे हैं। वांग ने आगे कहा, उनके गंदे इरादे और नीच हरकतें चीन और दक्षिण-पूर्व एशियाई देशों के बीच कलह पैदा करने वाली हैं और क्षेत्र में कड़ी मेहनत करने वाली स्थिरता को कम करने के लिए हैं।

china

दुनिया को Coronavirus देने के बाद बोला ड्रैगन, आगे बढ़ना बंद नहीं करेगा चीन

गौरतलब है कोरोवायरस के प्रकोप के कारण देश की आर्थिक वृद्धि में बड़ी गिरावट के बावजूद चीन वर्ष 2020 के लिए अपने रक्षा खर्च में 6.6 फीसदी की वृद्धि करेगा। वर्ष 2020 के लिए चीन की आर्थिक वृद्धि वर्षों में सबसे कम है, लेकिन फिर भी चीन दक्षिण चीन सागर में अपने क्षेत्रीय दावों को लागू करने और पश्चिमी प्रशांत और हिंद महासागर में अपनी सैन्य उपस्थिति बढ़ाने की क्षमता का विस्तार करने की अनुमति देगा।

China

चीन कोरोना की वैक्सीन बनाने में हुआ सफल, मनुष्‍यों पर ट्रायल के आए बड़े पॉजिटिव रिजल्‍ट

इसके अलावा चीन की एक अन्य प्रमुख प्राथमिकता स्व-शासित द्वीप लोकतंत्र ताइवान के खिलाफ एक विश्वसनीय खतरा बनाए रखना है, जिसे चीन अपना मानता है और अगर आवश्यक हो तो चीन ताइवान को सैन्य बल द्वारा भी अपने नियंत्रण में लाने पर विचार करता है।

बॉर्डर पर तनाव और कोरोना वायरस के बीच भारत से अपने नागरिकों को निकालेगा चीन!

देश-दुनिया की ताज़ा ख़बरों से अपडेट रहने के लिए Oneindia Hindi के फेसबुक पेज को लाइक करें
English summary
Chinese Foreign Minister Wang Yi said in a press conference on Sunday that China was closely cooperating with South-East Asian countries on anti-virus efforts. Told him that many of the accusers are overlapping territorial claims with China in strategically important waterways, while China has long been making a presence in the region.
For Daily Alerts
तुरंत पाएं न्यूज अपडेट
Enable
x
Notification Settings X
Time Settings
Done
Clear Notification X
Do you want to clear all the notifications from your inbox?
Settings X
X
We use cookies to ensure that we give you the best experience on our website. This includes cookies from third party social media websites and ad networks. Such third party cookies may track your use on Oneindia sites for better rendering. Our partners use cookies to ensure we show you advertising that is relevant to you. If you continue without changing your settings, we'll assume that you are happy to receive all cookies on Oneindia website. However, you can change your cookie settings at any time. Learn more