• search
क्विक अलर्ट के लिए
नोटिफिकेशन ऑन करें  
For Daily Alerts

अमेरिका में कोरोना से तबाही का सामने आया चाइना कनेक्शन

|

न्‍यूयार्क। दुनिया का सबसे शक्तिशाली देश अमेरिका कोरोना वायरस से बुरी तरह प्रभावित है। यहां स्थिति बद से बदतर होती जा रही है। अमेरिका में अब तक आठ हजार 100 से ज्यादा लोगों की मौत हो चुकी है। यहां संक्रमण के मामले तीन लाख से ज्यादा हो गए हैं। वहीं, न्यूयॉर्क में 24 घंटे में 630 लोगों की मौत हो चुकी है। राष्ट्रपति डोनाल्ड ट्रंप ने कहा कि अगले दो हफ्तों में कोरोना से मरने वालों की संख्या में और बढ़ोतरी हो सकती है। अब अमेरिकी मीडिया ने बड़ा खुलासा किया हैं कि कोरोना वायरस प्रकोप को लेकर चीन के खुलासे के कुछ दिन बाद ही करीब 4,30,000 लोग चीन से आने वाली सीधी उड़ानों से अमेरिका पहुंचे थे। जिनमें से हजारों लोग सीधे चीन के वुहान से आए थे जहां सबसे ज्यादा कोरोना वायरस फैला हुआ था।

वुहान में कोरोना फैलने के बाद पहुंचे थे 4 लाख से अधिक लोग

वुहान में कोरोना फैलने के बाद पहुंचे थे 4 लाख से अधिक लोग

बता दें पहले ही अमेरिका की ओर से भी कोविड-19 को लेकर चीन को निशाने पर लिया जा चुका है। खुद अमेरिकी राष्ट्रपति डोनाल्ड ट्रंप इसे चाइनीज वायरस कहकर पुकार चुके हैं। इसको लेकर दोनों देशों के नेताओं में तू-तू-मैं-मैं की नौबत भी आ चुकी है। वहीं चीन ने तो खुद अमेरिकी सेना पर ही चीन के वुहान में वायरस फैलाने का आरोप लगा दिया था और इसके लिए अमेरिका से ही उलटे सफाई मांग ली थी। अब अमेरिकी मीडिया के इस खुलासे से ये पता चल चुका है कि अमेरिका में कोरोना से जो तबाही मची है उससे चाइना का क्या कनेक्‍शन हैं ।

डोनाल्ड ट्रंप

डोनाल्ड ट्रंप

बता दें अमेरिका के द न्यूयॉर्क टाइम्स में प्रकाशित रिपोर्ट के मुताबिक इनमें से कई ऐसे थे जिन्होंने वायरस के केंद्र वुहान से सीधे अमेरिका की यात्रा की थी। राष्ट्रपति डोनाल्ड ट्रंप के यात्रा प्रतिबंध लगाने से पहले चीन से करीब 1,300 सीधी उड़ानें अमेरिका के 17 राज्यों में उतरीं और लाखों लोगों को यहां पहुंचाया।

ट्रंप के प्रतिबंध लगाने के पहले ये पहुंचे थे यात्री

ट्रंप के प्रतिबंध लगाने के पहले ये पहुंचे थे यात्री

इस रिपोर्ट में ये भी दावा किया गया हैं कि दोनों देशों में एकत्र किए गए आंकड़ों के विश्लेषण के अनुसार चूंकि चीनी अधिकारियों ने नए साल की पूर्व संध्या पर अंतरराष्ट्रीय स्वास्थ्य अधिकारियों को रहस्यमय निमोनिया जैसी बीमारी के प्रकोप बता कर किए जाने के बाद से कम से कम 4,30,000 लोग चीन से सीधी उड़ानों से अमेरिका पहुंचे। दोनों देशों में एकत्र किए गए आंकड़ों के मुताबिक इनमें 40,000 वे लोग भी शामिल थे जिन्होंने ऐसी यात्राओं पर राष्ट्रपति ट्रंप की ओर से प्रतिबंध लगाए जाने के दो महीने बाद तक यात्रा की।"

वुहान से सीधे अमेरिका आ चुके थे

वुहान से सीधे अमेरिका आ चुके थे

रिपोर्ट में ये भी बताया गया है कि उन दिनों हवाईअड्डों पर और चीन से आ रहे यात्रियों की जांच प्रक्रिया सख्त नहीं थी। जनवरी के शुरुआती दिनों में जब चीनी अधिकारी प्रकोप की गंभीरता को कम आंक रहे थे, चीन से आने वाले किसी यात्री की जांच नहीं की जा रही थी जिससे पता चल सके कि वह संक्रमित है या नहीं। इसमें बताया गया कि स्वास्थ्य की जांच जनवरी के मध्य से शुरू हुई, लेकिन केवल वुहान से आने वाले यात्रियों की और वह भी केवल लॉस एंजिलिस, सैन फ्रांसिस्को और न्यूयॉर्क के हवाईअड्डों पर। खबर में चीन की विमानन डेटा कंपनी वारीफ्लाइट के हवाले से कहा गया,"उस वक्त तक करीब 4,000 लोग पहले ही वुहान से सीधे अमेरिका आ चुके थे।"

दुनिया को कोरोना देकर वैश्विक संकट का फायदा उठाते हुए अब चाइना कर रहा ये तैयारी

देश-दुनिया की ताज़ा ख़बरों से अपडेट रहने के लिए Oneindia Hindi के फेसबुक पेज को लाइक करें
English summary
China connection exposed from destruction in Corona in America, 4 lakh people from China reached America
For Daily Alerts
तुरंत पाएं न्यूज अपडेट
Enable
x
Notification Settings X
Time Settings
Done
Clear Notification X
Do you want to clear all the notifications from your inbox?
Settings X
X